आप यहां हैं : होम » बिज़नेस »

शेयर बाजार में पूरे सप्ताह गिरावट का रुझान रहा

 
email
email
मुम्बई: ेयर बाजारों में गत सप्ताह प्रत्येक कारोबारी सत्र में गिरावट का सिलसिला रहा। सोमवार को बम्बई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 13.34 अंकों और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का 50 शेयरों पर आधारित सूचकांक निफ्टी 2.55 अंकों की गिरावट के साथ बंद हुए।

मंगलवार को दीपावली के मौके पर विशेष मुहूर्त कारोबार में भी सेंसेक्स 51.47 अंकों और निफ्टी 16.75 अंकों की गिरावट के साथ बंद हुए। गुरुवार को सेंसेक्स 147.50 अंकों और निफ्टी 35.95 अंकों की गिरावट के साथ बंद हुए। जबकि शुक्रवार को सेंसेक्स 162.00 अंकों और निफ्टी 56.95 अंकों की गिरावट के साथ बंद हुआ।

बुधवार को दीवाली बलिप्रतिपदा के मौके पर बीएसई और एनएसई बंद रहे। मंगलवार को भी साधारण कारोबारी सत्र बंद रहा।

देश के शेयर बाजारों में गत सप्ताह लगभग दो फीसदी की गिरावट दर्ज की गई। सेंसेक्स गत सप्ताह 2.00 फीसदी या 374.31 अंकों की गिरावट के साथ शुक्रवार को 18,309.37 पर बंद हुआ। जबकि निफ्टी 1.97 फीसदी या 112.2 अंकों की गिरावट के साथ 5,574.05 पर बंद हुआ।

गत सप्ताह सेंसेक्स में तेजी में रहने वाले प्रमुख शेयरों में रहे भारती एयरटेल (5.70 फीसदी), एचडीएफसी बैंक (1.02 फीसदी), भेल (0.95 फीसदी), हिंदुस्तान यूनिलीवर (0.69 फीसदी) और कोल इंडिया (0.51 फीसदी)। जबकि सेंसेक्स में गिरावट में रहने वाले प्रमुख शेयरों में रहे आईटीसी (4.14 फीसदी), टाटा स्टील (3.79 फीसदी), हीरो मोटोकॉर्प (3.74 फीसदी), जिंदल स्टील (3.58 फीसदी) और टाटा मोटर्स (2.99 फीसदी)।

बीएसई के मिडकैप और स्मॉलकैप सूचकांकों में गत सप्ताह मिला जुला रुख रहा। मिडकैप 0.04 फीसदी या 2.35 अंकों की गिरावट के साथ 6,658.33 पर बंद हुआ। जबकि स्मॉलकैप 0.58 फीसदी या 41.10 अंकों की तेजी के साथ 7,110.75 पर बंद हुआ।

बीएसई के 13 में से सिर्फ दो सेक्टरों उपभोक्ता टिकाऊ वस्तु (1.49 फीसदी) और प्रौद्योगिकी (0.21 फीसदी) में गत सप्ताह तेजी रही। गिरावट वाले सेक्टरों में प्रमुख रहे वाहन (2.97 फीसदी), धातु (2.71 फीसदी), पूंजीगत वस्तु (2.15 फीसदी), तेज खपत वाली उपभोक्ता वस्तु (2.00 फीसदी) और सूचना प्रौद्योगिकी (1.51 फीसदी)।

गत सप्ताह बाजार को निराशाजनक आंकड़ों का सामना करना पड़ा। सोमवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक देश का निर्यात अक्टूबर महीने में 1.63 फीसदी गिरावट के साथ 23.24 अरब डॉलर रहा। पिछले आठ महीने में यह सातवीं गिरावट है। अमेरिका और यूरोपीय बाजारों में मांग कम रहने के कारण निर्यात में गिरावट रही।

सोमवार को ही जारी एक अन्य आंकड़े के मुताबिक देश के औद्योगिक उत्पादन में सितम्बर में 0.4 फीसदी गिरावट दर्ज की गई। उपभोक्ता मूल्य सूचकांक पर आधारित महंगाई दर अक्टूबर में मामूली वृद्धि के साथ 9.75 फीसदी रही, जो पिछले महीने 9.73 फीसदी थी। सोमवार को जारी सरकारी आंकड़े के मुताबिक चीनी, दाल और सब्जियों की कीमत में वृद्धि के कारण उपभोक्ता महंगाई दर में बढ़त रही।

बुधवार को जारी आंकड़े के मुताबिक थोक वस्तु पर आधारित महंगाई दर अक्टूबर में 7.45 फीसदी रही, जो पिछले आठ महीने का निचला स्तर है। पिछले महीने यह 7.81 फीसदी थी। आंकड़ों के मुताबिक खाद्य और ईंधन मूल्य में गिरावट के कारण महंगाई दर घटी है।

थोक मूल्य सूचकांक पर आधारित महंगाई दर फरवरी के बाद सबसे निचले स्तर पर दर्ज की गई। हालांकि यह भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा बताए गए सुविधाजनक दर से काफी ऊपर बनी हुई है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...



Advertisement

 

Advertisement