आप यहां हैं : होम » ख़बरें क्रिकेट की »

स्पॉट फिक्सिंग मामला : कभी क्रिकेट नहीं खेल सकेंगे श्रीसंत, चव्हाण

 
email
email
Spot fixing: Sreesanth, Chavan get life ban, decision on Chandila deferred

श्रीसंत की फाइल तस्वीर

नई दिल्ली: ीसीसीआई ने आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग प्रकरण में एंटी करप्शन यूनिट के चीफ रवि सवानी की जांच रिपोर्ट पर कार्रवाई करते हुए राजस्थान रॉयल्स के खिलाड़ी श्रीसंत और अंकित चव्हाण पर आजीवन प्रतिबंध लगा दिया है।

इस प्रकरण में सबसे प्रमुख अभियुक्त बताए जा रहे अजित चंदीला पर फैसला बाद में लिया जाएगा। आईपीएल टीम राजस्थान रॉयल्स के इन तीनों खिलाड़ियों के अलावा अमित सिंह पर पांच साल की पाबंदी लगाई गई है, जबकि सिद्धार्थ त्रिवेदी पर एक साल का बैन लगाया गया है। हरमीत सिंह के खिलाफ सबूत न मिल पाने की वजह से उसके खिलाफ मामले को बंद कर दिया गया।

स्पॉट फिक्सिंग करने के आरोपों से घिरे खिलाड़ियों - शांताकुमारन श्रीसंत, अंकित चव्हाण और अजित चंदीला शुक्रवार को भारतीय क्रिकेट नियंत्रण बोर्ड (बीसीसीआई) की अनुशासनात्मक समिति के सामने पेश होने के लिए कहा गया था।

दो-सदस्यीय अनुशासन समिति में अरुण जेटली और निरंजन शाह शामिल थे। बीसीसीआई की एंटी करप्शन यूनिट के प्रमुख रवि सवानी ने स्पॉट फिक्सिंग मामले की जांच की और अनुशासनात्मक समिति ने उनकी रिपोर्ट पर गौर किया।

आईपीएल की राजस्थान रॉयल्स टीम के तीनों खिलाड़ी - श्रीसंत, अंकित चव्हाण और अजित चंदीला इस मामले में जेल जा चुके हैं।

हालांकि शुक्रवार को ही अनुशासन समिति की बैठक से पहले श्रीसंत ने कहा था कि वह इस मामले में पाक-साफ साबित होंगे।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...



Advertisement

 
विठ्ठल-रखुमाई मंदिर ने रखे सभी जातियों के पुजारी

महाराष्ट्र के मशहूर पंढरपुर के विठ्ठल−रखुमाई मंदिर ने नई मिसाल कायम की है। राज्य में ऐसा पहली बार हो रहा है कि इतने बड़े धार्मिक स्थल पर सभी जातियों के पुजारियों की नियुक्ति हुई है।

Advertisement