आप यहां हैं : होम » फिल्मी है »

आसान नहीं होगी कॉमेडियन से नेता बने राजू श्रीवास्तव की डगर

 
email
email
Political journey won't be easy for comedian Raju Shrivastav
लखनऊ: लग-अलग मंचों और कार्यक्रमों में राजनेताओं का हमेशा मजाक उड़ाने वाले स्टैन्ड-अप कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव अब खुद नेता बनने जा रहे हैं, लेकिन 'कॉमेडी किंग' के नाम से मशहूर राजू और उन्हें उनके गृहनगर कानपुर की सीट से लोकसभा प्रत्याशी बनाने वाली सत्तारूढ़ समाजवादी पार्टी के लिए यह बड़ी चुनौती है, क्योंकि उनका मुकाबला केंद्रीय कोयला मंत्री श्रीप्रकाश जायसवाल से होगा।

वर्ष 2014 के आम चुनाव में ज़्यादा से ज़्यादा लोकसभा सीटें जीतने की कवायद में जुटी समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय महासचिव रामगोपाल यादव ने बुधवार को अपने ही एक लोकप्रिय चरित्र 'गजोधर भैया' के नाम से पुकारे जाने वाले राजू की उम्मीदवारी की आधिकारिक घोषणा की।

इस मौके पर राजू श्रीवास्तव का कहना था, "अब तक मैंने घंटे-आधा घंटे के शो करके लोगों को थोड़ी देर तक खुशी दी है, लेकिन अब मैं लोगों को हमेशा के लिए खुशियां देना चाहता हूं। मैं लोगों के बीच उतरकर विकास के लिए संघर्ष करना चाहता हूं। मुझे अपने जीवन में जो कुछ भी लोगों से मिला है, मैं अब उसे लौटाना चाहता हूं।"

कानपुर के किदवई नगर मोहल्ले में रहने वाले राजू श्रीवास्तव वैसे तो कई राजनीतिक दलों के नेताओं के यहां हास्य शो कर चुके हैं और हर दल के नेताओं के साथ उनके अच्छे संबंध हैं, लेकिन राजनीति में कदम रखने के लिए उन्होंने समाजवादी पार्टी को क्यों चुना, इस सवाल पर उन्होंने कहा, "वैसे तो मेरा सभी राजनीतिक दलों के नेताओं के साथ भाईचारा है, लेकिन हाल ही में मैं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री एवं समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव के सम्पर्क में आया, और मैंने उनकी कार्यशैली को देखा। मुझे लगा कि वह विकास के लिए कुछ करना चाहते हैं, और उनके साथ काम करके मैं जनता के लिए कुछ कर सकता हूं।"

उधर, समाजवादी पार्टी का यह निर्णय कानपुर से तीन बार कांग्रेस के सांसद रहे और फिलहाल केन्द्रीय मंत्री श्रीप्रकाश जयसवाल की चुनावी डगर को मुश्किल बना सकता है, क्योंकि वर्ष 1991 से 1998 तक इस सीट से जीतने वाली भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) भी इस बार किसी कद्दावर नेता को यहां से चुनावी जंग में उतारने की तैयारी कर रही है, और इसके लिए पार्टी के वर्तमान विधायक सतीश महाना और पूर्व प्रदेशाध्यक्ष कलराज मिश्र के नामों की चर्चा जारी है।

राजू श्रीवास्तव की उम्मीदवारी के बारे में सवाल किए जाने पर श्रीप्रकाश जायसवाल ने टिप्पणी करने से इनकार करते हुए सिर्फ इतना कहा कि यह समाजवादी पार्टी का अपना निर्णय है। सो, अब देखना यह है कि लोगों को हंसाने वाले वाले राजू राजनीति के मैदान में उतरकर जनता को अपनी तरफ आकर्षित करने और दिग्गज नेता श्रीप्रकाश जायसवाल को पटखनी देने के लिए समाजवादी पार्टी का ब्रह्मास्त्र सिद्ध होते हैं या नहीं। मौजूदा विधानसभा में कानपुर जिले की 10 विधानसभा सीटों में से पांच पर समाजवादी पार्टी काबिज है, जबकि चार पर भाजपा और एक पर कांग्रेस के विधायक हैं।

राजू श्रीवास्तव की उम्मीदवारी से उत्साहित उनके छोटे भाई काजू श्रीवास्तव ने कहा कि श्रीप्रकाश जायसवाल तीन बार से कानपुर के सांसद हैं, और दो बार से लगातार केंद्र में मंत्री हैं, लेकिन उन्होंने कानपुर का कोई विकास नहीं किया, इसलिए मुझे पूरी उम्मीद है कि विकास के संकल्प को लेकर राजनीति में उतरने वाले मेरे भाई को कानपुर की जनता जरूर विजयी बनाएगी।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...



Advertisement

 
मध्य प्रदेश : दरगाह पर हिंदू मनाते हैं ईद

खास बात यह है कि आठ हजार की आबादी वाले इस गांव में एक भी मुस्लिम परिवार नहीं है। बाबा मुक्कनशाह की दरगाह सागर जिले के बसाहरी गांव में है।

Advertisement