आप यहां हैं : होम » देश से »

अब पीएम के इस्तीफ़े की मांग पर अड़ी बीजेपी, भाजयुमो का जोरदार प्रदर्शन

 
email
email
BJP workers try to protest near Prime Minister's house

PLAYClick to Expand & Play

नई दिल्ली: ्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के इस्तीफे की मांग को लेकर रविवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की युवा इकाई ने प्रधानमंत्री आवास के बाहर प्रदर्शन किया। इस दौरान पुलिस ने करीब 200 प्रदर्शनकारियों को हिरासत में ले लिया। भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े और पानी की बौछारें भी की।

भ्रष्टाचार के मुद्दे पर प्रधानमंत्री को हटाने के लिए बीजेपी 27 मई से 3 जून तक जेल भरो आंदोलन करेगी लेकिन विरोध की शुरुआत रविवार को भारतीय जनता युवा मोर्चा के कार्कर्ताओं ने प्रधानमंत्री के घर के बाहर से की।

प्रधानमंत्री के इस्तीफे की मांग को लेकर भारतीय जनता युवा मोर्चा (भाजयुमो) के सदस्य दोपहर करीब 12 बजे प्रधानमंत्री के सात रेस कोर्स मार्ग स्थित सरकारी आवास के पास एकत्र हो गए। उन्होंने प्रधानमंत्री का पुतला भी फूंका। पुलिस ने हालांकि प्रदर्शनकारियों को रोकने के लिए नाकेबंदी कर रखी थी, लेकिन वे दो नाके तोड़ने में सफल रहे। प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने पानी की बौछारें की और आंसू गैस के गोले भी छोड़े।

पुलिस ने करीब 200 प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लिया। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा, "भाजयुमो के अध्यक्ष अनुराग ठाकुर और भाजपा की दिल्ली इकाई के अध्यक्ष विजय गोयल सहित करीब 200 प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लिया गया। प्रदर्शनकारियों को बस से तुगलकाबाद पुलिस स्टेशन ले जाया गया और दोपहर करीब दो बजे छोड़ दिया गया।" उन्होंने कहा, "प्रधानमंत्री आवास के आसपास सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध किए गए हैं। सात, रेस कोर्स मार्ग के साथ-साथ मध्य दिल्ली के कई इलाकों में अपराध प्रक्रिया संहिता की धारा 144 लागू कर दी गई है, जिसके तहत किसी भी स्थान पर चार से अधिक लोगों को एकत्र होने की अनुमति नहीं है।"

पुलिस के अनुसार, सात रेस कोर्स मार्ग की तरफ जाने वाले अकबर रोड, अशोक रोड सहित कई मार्गों को बंद कर दिया गया है।

इस बीच, प्रदर्शन को देखते हुए रेस कोर्स रोड मेट्रो स्टेशन को पूर्वाह्न 11 बजे बंद कर दिया गया, जिसे दोपहर दो बजे खोल दिया गया।

भाजयुमो कार्यकर्ता दो केंद्रीय मंत्रियों- रेल मंत्री पवन कुमार बंसल और कानून एवं न्याय मंत्री अश्विनी कुमार के इस्तीफे के बाद प्रधानमंत्री के भी इस्तीफे की मांग कर रहे हैं। बंसल ने अपने भांजे द्वारा रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी से पदोन्नति के लिए 90 लाख रुपये रिश्वत लेने का मामला उजागर होने के बाद रेल मंत्री के पद से त्याग-पत्र दिया, जबकि अश्विनी को कोयला ब्लॉक आवंटन की जांच कर रहे केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के कार्यो में दखल देने को लेकर पैदा हुए विवाद के कारण इस्तीफा देना पड़ा। दोनों मंत्रियों ने शुक्रवार को इस्तीफे दिए थे।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...



Advertisement

 
बिहार में चार कोच पीछे छोड़कर रवाना हुई सुपरफास्ट एक्सप्रेस

दरभंगा-नई दिल्ली संपर्क क्रांति सुपरफास्ट एक्सप्रेस दरभंगा जिले के लहेरियासराय स्टेशन में चार कोच पीछे छोड़कर रवाना हो गई।

Advertisement