आप यहां हैं : होम » देश से »

गैंगरेप : सोनिया ने कहा, हमारी बेटियां, बहनें और माताएं सुरक्षित नहीं हैं

 
email
email
Gangrape: Sonia Gandhi says, our daughters, mothers, sisters are unsafe
नई दिल्ली: ांग्रेस प्रमुख सोनिया गांधी सामूहिक बलात्कार की पीड़ित 23-वर्षीय लड़की की हालत जानने मंगलवार रात सफदरजंग अस्पताल गईं और उन्होंने सरकार को यथासंभव कठोरतम कदम उठाने को कहा, ताकि ऐसी बर्बर घटना फिर नहीं हो।

कांग्रेस महासचिव जनार्दन द्विवेदी के अनुसार सोनिया गांधी अस्पताल में करीब 15-20 मिनट रहीं। उस दौरान उन्होंने डॉक्टरों से लड़की की स्थिति के बारे में पूछा और लड़की के माता-पिता से भेंट की। द्विवेदी ने कहा कि डॉक्टरों ने सोनिया गांधी को बताया कि लड़की की हालत गंभीर है।

डॉक्टरों के अनुसार इस पैरा-मेडिकल छात्रा की हालत मंगलवार शाम और बिगड़ गई, जिसके बाद उसे पूरी तरह जीवनरक्षक प्रणाली पर रखा गया है। रविवार को एक चलती बस में कुछ लोगों ने उससे सामूहिक बलात्कार किया था और उसके साथ मारपीट की थी।

कांग्रेस प्रमुख ने केंद्रीय गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे, दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित और राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष ममता शर्मा को पत्र लिखा है तथा उनसे यह सुनिश्चित करने के लिए सभी यथासंभव कदम उठाने को कहा कि ऐसी घटना की पुनरावृत्ति न हो।

शिंदे को लिखे पत्र में यूपीए प्रमुख सोनिया गांधी ने कहा, यह हम सभी, जो अपने शहरों की सुरक्षा के लिए जिम्मेदार हैं, के लिए शर्म की बात है कि देश की राजधानी में चलती बस में एक युवती का बलात्कार किया गया। उन्होंने कहा, इस भयावह अपराध की न केवल कड़ी निंदा की जानी चाहिए, बल्कि इस पर सरकार को तत्काल ध्यान देना चाहिए।

उन्होंने कहा, पुलिस और अन्य संबंधित एजेंसियों को उन खतरों से वाकिफ कराया जाए, जिनसे हमारी बेटियां, बहनें और माताएं हर रोज जूझती हैं। सोनिया गांधी ने कहा, सुरक्षा एजेंसियों को इस अपराध से निपटने के लिए प्रेरित, प्रशिक्षित एवं सुविधाओं से लैस किया जाए। उन्होंने आशा जताई कि गृहमंत्री इस स्थिति में सुधार के लिए तत्काल कदम उठाएंगे।

शीला दीक्षित को लिखी चिट्ठी में सोनिया गांधी ने कहा कि इस घटना से सभी स्तब्ध हैं। उन्होंने चिट्ठी में कहा, यह शर्म की बात है कि ऐसी घटना बार-बार घटती हैं और राष्ट्रीय शहर में हमारी बेटियां, बहनें एवं माताएं असुरक्षित हैं। उन्होंने कहा कि ऐसी हिंसा और अपराध की न केवल निंदा की जानी चाहिए, बल्कि उससे लड़ने का ठोस प्रयास भी किया जाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि कानून-व्यवस्था मजबूत करने और महिलाओं की सुरक्षा के लिए चौकसी बढ़ाने के लिए जो भी जरूरी हो, किया जाए। कांग्रेस प्रमुख ने कहा, अपनी ईमानदारी और संकल्प दिखाना तत्काल जरूरी है। उन्होंने कहा कि इस खतरे को काबू में करने के लिए जो भी प्रयास जरूरी हो, उन्हें उठाने में पार्टी पूरी तरह शीला दीक्षित के साथ है।

द्विवेदी के अनुसार सोनिया चाहती हैं कि दोषियों पर यथाशीघ्र मामले दर्ज किए जाएं। इससे पहले दिन में संसद के दोनों सदनों में सदस्यों ने पार्टी लाइन से ऊपर उठकर इस घटना की भर्त्सना की। सदस्यों ने ऐसे अपराध करने वालों के लिए मृत्युदंड की मांग की। विपक्षी सदस्यों ने गृहमंत्री से स्पष्ट आश्वासन मांगा कि ऐसी घटना की पुनरावृत्ति नहीं हो। दोनों सदनों में महिला सदस्यों ने इस घटना पर गुस्सा और दुख प्रकट किया।

सिनेस्टार से सांसद बनीं जया बच्चा ऊपरी सदन में भावुक हो गई। लोकसभा में अध्यक्ष मीरा कुमार ने इसे रोंगटे खड़े कर देने वाली घटना करार दिया और कहा कि यह समूचे समाज के लिए शर्मनाक है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...



Advertisement

 
ब्रिटेन में 12 साल की लड़की, 13 साल का लड़का, बने सबसे कम उम्र के मां-बाप

यह लड़की जब गर्भवती हुई, उस समय वह प्राइमरी स्कूल में पढ़ती थी। उसने सप्ताहांत एक पुत्री को जन्म दिया। जच्चा-बच्चा दोनों स्वस्थ बताए जाते हैं।

Advertisement