आप यहां हैं : होम » देश से »

दिल्ली : चलती बस में युवती के साथ गैंगरेप, दो गिरफ्तार

 
email
email
Girl gangraped in moving bus in Delhi, male friend beaten up; both thrown off bus

PLAYClick to Expand & Play

नई दिल्ली: िल्ली में रविवार रात चलती बस में सामूहिक दुष्कर्म की शिकार हुई 23 वर्षीया युवती की हालत सोमवार को बिगड़ गई। वह जीवन के लिए संघर्ष कर रही है। सामूहिक दुष्कर्म के बाद युवती को उसके पुरुष मित्र के साथ बस से फेंक दिया गया था।

मामले में दो लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है। इनमें से एक बस का ड्राइवर है। दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने इस भयानक घटना पर नाराजगी प्रकट की।

दोनों पीड़ितों को पुलिस की जीप से सफदरजंग अस्पताल ले जाया गया। चिकित्सकों के मुताबिक युवती की हालत नाजुक है, उसे वेंटिलेटर पर रखा गया है जबकि उसके 28 वर्षीय मित्र को अस्पताल से छुट्टी मिल गई है और पुलिस ने उसका बयान लेकर मामला दर्ज कर दिया है। अस्पताल के प्रवक्ता एसएन मकवाना ने कहा, "मरीज की हालत नाजुक है।"

चिकित्सकों ने कहा कि अमानवीय घटना की शिकार हुई पीड़िता के पेट और आंत में गंभीर चोटें आई हैं तथा उसके शरीर पर किसी भोथरी चीज से मारने के निशान हैं।

यह घटना रविवार रात उस वक्त हुई जब पैरामेडिकल की एक छात्रा फिल्म देखने के बाद रात 9.15 बजे अपने मित्र के साथ बस में सवार होकर मुनीरका से द्वारका जा रही थी।

पुलिस उपायुक्त छाया शर्मा के मुताबिक लड़की के बस में बैठते ही चालक और कंडक्टर सहित लगभग सात लोगों ने उसके साथ छेड़छाड़ शुरू कर दी। उस बस में और यात्री नहीं थे।

छाया शर्मा ने बताया कि युवती के मित्र ने उसे बचाने की कोशिश की लेकिन उन लोगों ने उसके साथ मारपीट की और चार लोगों ने युवती के साथ चलती बस में सामूहिक दुष्कर्म किया। उन्होंने कहा, "सात में से चार लोगों ने दुष्कर्म किया। हमने संदिग्धों के स्केच तैयार करवा लिए हैं।"

आरोपियों ने मोबाइल छीनने के बाद रात करीब 10.30 बजे युवती और उसके मित्र को दक्षिण दिल्ली के महिपालपुर में बस से फेंक दिया।

मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने कहा कि युवती की इज्जत पर हमला करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने पत्रकारों से कहा, "परिवहन विभाग ने मुझे बताया है कि बस का लाइसेंस रद्द कर दिया गया है और व्हाइट लाइन बस के खिलाफ कड़ी कारवाई की जाएगी जिससे इस तरह की घटनाएं न हों।"

शिक्षा और समाज कल्याण मंत्री किरण वालिया ने मुख्यमंत्री की बात दोहराते हुए कहा, "किसी को नहीं बख्शा जाएगा। यह बेहद शर्मनाक घटना है, हम कड़ी कार्रवाई करेंगे।"

राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष ममता शर्मा ने कहा कि है कि वह दिल्ली की मुख्यमंत्री से इस मामले की जांच कराने की मांग करेंगी। उन्होंने कहा, "अगर मुनीरका जैसे घनी आबादी वाले इलाके में ऐसी घटना हो जाती है तो इसका मतलब है कि पुलिस सतर्क नहीं है।"

भारतीय जनता पार्टी के प्रवक्ता मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा, "न तो गृह मंत्रालय और न ही दिल्ली पुलिस इस तरह की घटनाओं की जांच कर पाने के योग्य है जो कि दिनों दिन बढ़ती जा रही हैं।" उन्होंने कहा, "दिल्ली सरकार राजधानी की कानून व्यवस्था के साथ बेहद गैरजिम्मेराना तरीके से निपट रही है।"

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...



Advertisement

 

Advertisement