आप यहां हैं : होम » देश से »

'विश्वरूपम' : कमल हासन ने कहा, इंसाफ के लिए लड़ रहा हूं, शांति बनाए रखें

 
email
email
I am struggling for justice, remain calm, says Kamal Haasan to fans

PLAYClick to Expand & Play

चेन्न्ई: पनी मेगा बजट फिल्म 'विश्वरूपम' को लेकर जारी विवाद पर आहत निर्देशक-अभिनेता कमल हासन ने आज कहा है कि उनके दिल में इंसाफ मिलने की उम्मीद अब भी कायम है, लेकिन अगर अब इस देश में उन्हें कोई धर्मनिरपेक्ष जगह नहीं मिल पाई, तो वह देश छोड़ने के लिए भी तैयार हैं।

सुबह दिए इस बयान के बाद जब कोर्ट ने उन्हें राहत नहीं मिली तब शाम को कमल हासन ने अपने समर्थकों से अपील की कि वह न्याय के लिए लड़ रहे हैं और समर्थक शांति बनाए रखें। बता दें कि आज दो जजों की बेंच ने भी फिल्म पर बैन बरकरार रखा है। अब कहा जा रहा है कि कमल हासन हाईकोर्ट की बड़ी बेंच के आदेश के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अपील करेगी।

गौरतलब है कि सुबह भावुक स्वर में दिए गए वक्तव्य में कमल हासन ने कहा कि अदालत से उन्हें न्याय मिलने की आशा है, लेकिन तमिलनाडु सरकार उन्हें राज्य से भगाना चाहती है। उन्होंने यह भी कहा कि वह सिर्फ एक कलाकार हैं, और वह जहां भी जाएंगे, उनकी कला हमेशा उनके साथ रहेगी।

उन्होंने कहा कि उन्हें नहीं मालूम कि यह खेल कौन खेल रहा है और अब उन्हें इस विवाद के बाद महसूस हो रहा है कि तमिलनाडु सरकार उन्हें यहां नहीं रहने देना चाहती है, इसलिए उन्हें रहने के लिए एक धर्मनिरपेक्ष जगह की जरूरत है। उन्होंने बेहद आहत स्वर में कहा कि यदि उन्हें ऐसी जगह भारत में नहीं मिलती है, तो वह विदेश चले जाएंगे।

वैसे उन्होंने कहा कि तमिलनाडु को छोड़कर कश्मीर से केरल तक वह ऐसी जगह ढूंढेंगे, परंतु अगर किसी भी राज्य में उन्हें शरण नहीं मिलती तो वह किसी न किसी धर्मनिरपेक्ष देश को तलाश लेंगे। उन्होंने कहा कि मकबूल फिदा हुसैन (मशूहर पेंटर एमएफ हुसैन) को भी ऐसा करना पड़ा था, और अब हासन भी ऐसा ही करेगा।

कमल हासन ने साफ किया कि यदि देश छोड़ने की नौबत आती है, तो भी वह अपने लोगों (प्रशंसकों) से नाराज नहीं हैं और तमिल में ही फिल्में बनाते रहेंगे। उन्होंने कहा कि मैं सिर्फ एक कलाकार हूं और किसी भी धर्म को दोष नहीं दे रहा हूं। मुझे उम्मीद है कि मेरे प्रशंसक शांति बनाए रखेंगे, जिनमें बहुत-से मुस्लिम भी शामिल हैं। मैंने मुस्लिमों को अपनी फिल्म इसीलिए दिखाई थी, क्योंकि वे मेरे भाई हैं।

हासन ने कहा, मैंने इस फिल्म के लिए अपनी सारी जायदाद गिरवी रख दी है और रिलीज में देरी के कारण अपना घर भी गंवा चुका हूं। कमल के मुताबिक फिल्म की कहानी अफगानिस्तान पर आधारित है, इसलिए वह हैरान हैं कि भारतीय मुस्लिमों को किस चीज ने आहत किया और इस बात से भी उन्हें आश्चर्य होता है कि सिर्फ एक फिल्म पूरे देश की एकता को कैसे बिगाड़ सकती है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...



Advertisement

 

Advertisement