आप यहां हैं : होम » देश से »

नरेंद्र मोदी ने गुजरात दंगों में नहीं दिखाई मुस्तैदी : जेडीयू

 
email
email
Modi didn't show alertness during Gujarat riots: JDU

PLAYClick to Expand & Play

नई दिल्ली: ेडीयू ने कहा है कि 2002 के गुजरात दंगों के दौरान मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुस्तैदी नहीं दिखाई। जेडीयू प्रवक्ता केसी त्यागी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि नीतीश कुमार प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नहीं हैं।

इस बीच, आपसी रिश्तों में बढ़ती दरार की खबरों के बीच बीजेपी और उसकी सहयोगी पार्टी जेडीयू आज शाम को अहम बैठक कर सकती है, जिसमें यह कोशिश हो सकती है कि क्या दोनों दलों के बीच मतभेदों को खत्म किया जा सकता है। जेडीयू नेता नीतीश कुमार और शरद यादव बीजेपी अध्यक्ष राजनाथ सिंह के साथ मुलाकात करेंगे।

इधर, जेडीयू की राष्ट्रीय कार्यकारिणी और राष्ट्रीय परिषद की दो-दिवसीय बैठक नई दिल्ली में शुरू हो गई है। बैठक में जेडीयू अध्यक्ष शरद यादव, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, बिहार प्रदेश जेडीयू अध्यक्ष वशिष्ट नारायण सिंह, वरिष्ठ नेता रामसुंदर दास, शिवानंद तिवारी समेत कई अन्य नेता शामिल हुए।

बैठक की औपचारिक शुरुआत शरद यादव के संबोधन के साथ हुई, जिसमें उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं से अनुशासित एवं संगठित होकर राज्य और देश के विकास में योगदान करने का आह्वान किया। यह बैठक ऐसे समय हो रही है, जब जेडीयू ने गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी को बीजेपी का प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बनाए जाने की स्थिति में इसका विरोध करने के संकेत दिए हैं।

बैठक से पहले जेडीयू नेता अली अनवर ने एनडीटीवी से कहा, हम सिर्फ चाहते हैं कि बीजेपी उम्मीदवार का एक नाम घोषित करे, ऐसा नाम जिसकी सेक्युलर छवि हो और जो देश को आगे ले जाने का काम करे। हमने कुछ खासियतें सामने रखी हैं जो उस उम्मीदवार  में हों। उन्होंने यह भी कहा, हम बीजेपी के लिए कोई समयसीमा तय नहीं कर सकते, लेकिन लंबे समय तक इंतजार भी नहीं कर सकते हैं।

इससे पहले, सूत्रों ने बताया था कि राजनाथ ने नीतीश कुमार और शरद यादव से फोन पर भी बात की थी। जेडीयू नेताओं ने कहा है कि पार्टी का बीजेपी के साथ गठबंधन साझा राष्ट्रीय एजेंडे पर आधारित है और सांप्रदायिकता के मुद्दे पर वह कोई समझौता नहीं करेगी।

जेडीयू की राष्ट्रीय कार्यकारणी और राष्ट्रीय परिषद की इस बैठक में शरद यादव को पार्टी का लगातार तीसरी बार अध्यक्ष बनाए जाने की औपचारिक घोषणा की गई। जेडीयू के संविधान में 5 मार्च को संशोधन किया गया था, जिसके जरिये शरद के तीसरी बार अध्यक्ष बनने का मार्ग प्रशस्त हुआ। शरद यादव 2006 में जॉर्ज फर्नांडिस के स्थान पर पार्टी के अध्यक्ष बनाए गए थे।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...



Advertisement

 
विठ्ठल-रखुमाई मंदिर ने रखे सभी जातियों के पुजारी

महाराष्ट्र के मशहूर पंढरपुर के विठ्ठल−रखुमाई मंदिर ने नई मिसाल कायम की है। राज्य में ऐसा पहली बार हो रहा है कि इतने बड़े धार्मिक स्थल पर सभी जातियों के पुजारियों की नियुक्ति हुई है।

Advertisement