आप यहां हैं : होम » देश से »

'विश्वरूपम' : अब सुप्रीम कोर्ट नहीं जाएंगे हासन, सीएम का दिया धन्यवाद

 
email
email
Vishwaroopam: Kamal Haasan will not go to Supreme Court

PLAYClick to Expand & Play

चेन्नई: मल हासन की मेगा बजट की फिल्म 'विश्वरूपम' के हिंदी रूपांतरण के प्रदर्शन से एक दिन पहले कमल हासन ने तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जे जयललिता को यह बताने के लिए धन्यवाद दिया कि आखिर इस फिल्म पर 15 दिनों का प्रतिबंध क्यों लगाया गया है।

उधर 'विश्वरूपम' पर प्रतिबंध को लेकर गुरुवार को राजनीतिक खेमे में बयानबाजी ने जोर पकड़ लिया वहीं तमिलनाडु सरकार फिल्मकारों के निशाने पर रही।

इस बीच अभिनेता कमल हासन ने कहा है कि उन्हें मामला सुलझ जाने की पूरी उम्मीद है इसलिए वे सर्वोच्च न्यायालय जाने से पहले इंतजार करेंगे।

दक्षिण भारतीय फिल्मों के स्टार कमल हासन ने मुंबई में मीडिया से कहा कि हालांकि बुधवार को देश छोड़ने की धमकी उन्होंने गुस्से में दी थी, लेकिन यदि उनकी फिल्म को लेकर इसी प्रकार के प्रदर्शन और हुए तो वे निश्चित रूप से देश छोड़ देंगे।

इस बीच कमल हासन के भाई चंद्र हासन के साथ-साथ तमिल फिल्म निर्माता अमीर सुल्तान ने चेन्नई में मुस्लिम नेताओं से मुलाकात की। एक दिन पहले कमल हासन ने अपनी फिल्म से उन दृश्यों को निकलने पर सहमति जताई थी जिसे लेकर कुछ मुस्लिम समूहों ने आपत्ति जताई है। विरोध करने वालों का कहना है कि इसमें समुदाय का चेहरा खराब रोशनी में पेश किया गया है।

उधर, जयललिता ने कहा है कि 'विश्वरूपम' पर प्रतिबंध हिंसात्मक प्रदर्शन के डर से लगाया गया है न कि कमल हासन से किसी दुश्मनी की वजह से। जयललिता के इस बयान के बाद 95 करोड़ रुपये की लागत से बनी इस फिल्म के तमिल में रिलीज होने के आसार धूमिल हो गए हैं।

इस बीच चंद्र हासन ने भी पत्रकारों को बताया, "जहां तक हमें मालूम है, कानून व्यवस्था को बनाए रखने के लिए फिल्म पर प्रतिबंध लगाया गया। हमें नहीं लगता इसके पीछे कोई राजनीतिक वजह होगी।"

उधर फिल्म को लेकर तमिलनाडु के दो चिरपरिचित राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों के बीच गुरुवार को आरोप प्रत्यारोप का दौर चलता रहा। द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (डीएमके) के अध्यक्ष एम करुणानिधि ने बुधवार को कहा कि क्या तमिलनाडु सरकार ने फिल्म 'विश्वरूपम' पर सिर्फ इसलिए प्रतिबंध लगाया कि अभिनेता ने धोती पहनने वाले प्रधानमंत्री का समर्थन किया है।

कमल हासन के साथ जयललिता की पुरानी दुश्मनी का दावा करते हुए करुणानिधि ने आरोप लगाया कि एक समय जयललिता ने उनके खिलाफ एमजी रामचंद्रन को पत्र लिखा था। उनके इस आरोप से तिलमिलाई जयललिता ने उनके खिलाफ मुकदमा ठोकने की धमकी दी, लेकिन करुणानिधि ने कहा कि उनके पास पक्के सबूत हैं और समय पर वे उसे उजागर कर देंगे।

करुणानिधि ने पार्टी कार्यकर्ताओं को लिखे एक पत्र में कहा कि कुछ लोगों का मानना है कि अभिनेता कमल हासन और उनकी फिल्म तमिलनाडु सरकार की नाराजगी का कारण बनी क्योंकि एक किताब के लांच पर वित्तमंत्री पी चित्तंबरम का हवाला देते हुए उन्होंने बयान दिया था कि देश का प्रधानमंत्री कोई धोती पहनने वाला व्यक्ति होना चाहिए।

इस बीच फिल्म निर्माता-निर्देशक महेश भट्ट का मानना है कि अभिनेता और निर्देशक कमल हासन सरकारी आतंकवाद के शिकार हुए हैं।

महेश ने कहा, "क्या हम ऐसे देश में रह रहे हैं जहां कानून व्यवस्था नाम की कोई चीज नहीं है? यह सवाल फिल्म वालों को ही नहीं बल्कि भारत के लोगों को भी पूछना चाहिए।"

उन्होंने कहा, "ऐसा देश जहां आपको अभिव्यक्ति की आजादी हो, सेंसर बोर्ड का प्रमाणपत्र हो, उच्च न्यायालय हो और तब भी अगर उन्हें जगह-जगह जाकर याचना करनी पड़े तो फिर इन सबका का क्या मतलब रह जाता है।"

उधर कमल हासन ने कहा कि उन्हें उनकी फिल्म 'विश्वरूपम' के संदर्भ में सकारात्मक फैसला आने की उम्मीद है इसलिए वह फिलहाल सर्वोच्च न्यायालय का दरवाजा नहीं खटखटाएंगे।

हासन ने कहा, "मुझे तमिलनाडु सरकार के साथ अभी भी समझौता होने की उम्मीद है। फिलहाल मैं सर्वोच्च न्यायालय जाने से पहले इंतजार करूंगा।"

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...



Advertisement

 

Advertisement