आप यहां हैं : होम » देश से »

'विश्वरूपम' रिलीज पर हुआ समझौता, सात डायलॉग हटेंगे

 
email
email
'Vishwaroopam' will be released with seven dialogue removed

PLAYClick to Expand & Play

चेन्नई: करीबन हफ्तेभर चले सस्पेंस और ड्रामे का खात्मा करते हुए कमल हासन की विवादित तमिल फिल्म ‘विश्वरूपम’ कुछ सीन हटाए जाने के बाद राज्य में रिलीज के लिए तैयार है। दरअसल, तमिलनाडु सरकार की मध्यस्थता में हासन और फिल्म का विरोध कर रहे मुस्लिम संगठनों के बीच शनिवार को बातचीत हुई जिसमें दोनों पक्षों के बीच सुलह हो गई।

सचिवालय में गृह सचिव आर राजगोपाल की मौजूदगी में छह घंटे तक चली बातचीत के बाद बाहर आए हासन ने कहा कि वे कुछ ऑडियो हिस्से हटाने को राजी हो गए हैं। उन्होंने उम्मीद जताई कि अब जल्द ही फिल्म पर लगी पाबंदी हटा ली जाएगी।

गौरतलब है कि इस फिल्म का विरोध करने वाले कुछ मुस्लिम संगठनों का आरोप था कि इसमें कुछ ऐसे दृश्य हैं जिनसे उनकी धार्मिक भावनाएं आहत होती हैं।

करीब 100 करोड़ रुपये की लागत से बनाई गई इस फिल्म के अभिनेता हासन ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘विचार-विमर्श के तुरंत बाद हम रिलीज की तारीख घोषित कर देंगे। हम अपनी तकनीकी टीम से भी विचार-विमर्श करेंगे।’’

हासन ने कहा कि वह मद्रास उच्च न्यायालय में दायर उस याचिका को वापस ले लेंगे जिसमें फिल्म की रिलीज पर लगाई गई दो हफ्ते की पाबंदी को चुनौती दी गयी थी। उन्होंने उम्मीद जताई कि सरकार फिल्म से पाबंदी हटा लेगी। तमिलनाडु मुस्लिम मुनेत्र कड़गम के प्रतिनिधि और विधायक एमएच जवाहिरुल्ला ने कहा कि हासन फिल्म के कुछ ऐसे दृश्य काटने पर राजी हुए हैं जिन पर मुस्लिमों को आपत्ति है।

मुख्यमंत्री जयललिता की ओर से फिल्म की रिलीज का रास्ता साफ कराने के वादे के बाद हुई त्रिपक्षीय बैठक संपन्न होने पर जवाहिरुल्ला ने कहा, ‘‘बैठक का नतीजा अच्छा रहा।’’ बहुभाषी फिल्म विश्वरूपम 11 जनवरी को ही रिलीज होने वाली थी। यह केरल सहित अन्य राज्यों में रिलीज हो चुकी है। शुक्रवार को उत्तर भारत के सिनेमाघरों में यह फिल्म रिलीज हुई।

हासन के मुताबिक, जहां-जहां यह फिल्म रिलीज हुई वहां इसे दर्शकों की बेहतर प्रतिक्रिया मिली।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...



Advertisement

 
विठ्ठल-रखुमाई मंदिर ने रखे सभी जातियों के पुजारी

महाराष्ट्र के मशहूर पंढरपुर के विठ्ठल−रखुमाई मंदिर ने नई मिसाल कायम की है। राज्य में ऐसा पहली बार हो रहा है कि इतने बड़े धार्मिक स्थल पर सभी जातियों के पुजारियों की नियुक्ति हुई है।

Advertisement