Hindi news home page
Collapse
Expand

केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो के काफिले पर हमला, टीएमसी कार्यकर्ताओं पर लगाया ईंट मारने का आरोप

ईमेल करें
टिप्पणियां
केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो के काफिले पर हमला, टीएमसी कार्यकर्ताओं पर लगाया ईंट मारने का आरोप

बाबुल सुप्रियो

खास बातें

  1. प. बंगाल के कानून मंत्री मलय घोटक के समर्थकों पर लगाया पथराव का आरोप
  2. तृणमूल कार्यकर्ताओं और बीजेपी नेता सुब्रत मिश्रा के बीच हुआ था टकराव
  3. घटनास्थल पर पहुंचने पर भीड़ ने उनके काफिले पर किया हमला
कोलकाता: केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो पर बुधवार को कथित तौर पर तृणमूल कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने यहां ईंट से हमला किया, जब वह कुछ भाजपा कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी के खिलाफ प्रदर्शन करने के एक पुलिस थाना जा रहे थे.

भारी उद्योग एवं लोक उपक्रम राज्य मंत्री सुप्रियो  ने बताया, "मैं अपनी पार्टी के कुछ लोगों की रिहाई सुनिश्चित करने के लिए थाना जा रहा था. मुझ पर तृणमूल कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने ईंट से हमला किया गया और मेरी कार की खिड़की का कांच क्षतिग्रस्त हो गया." उन्होंने बताया, "उन्होंने काले झंडे भी दिखाए. मैं नहीं जानता कि पुलिस ने भीड़ को मेरी कार के पास क्यों आने दिया." घटना की वीडियो फुटेज से जाहिर होता है कि सुप्रियो  एक वाहन के फूटबोर्ड पर खड़े थे और एक पत्थर उनके सीने पर आ लगा.

भाजपा सूत्रों ने बताया कि हमले में केंद्रीय मंत्री को चोट लगी है. आसनसोल के पुलिस आयुक्त एलएन मीणा ने बताया कि भाजपा समर्थकों ने तृणमूल नेता के घर का घेराव करने की योजना बनाई थी और जिस वक्त संकट शुरू हुआ उस वक्त मंत्री मलय घटक आसनसोल उत्तर पुलिस थाना इलाके में थे.

सूत्रों के मुताबिक भाजपा कार्यकर्ताओं को घटक के आवास की ओर जाने से रोक दिया गया जिसके चलते वे आसनसोल दक्षिण पुलिस थाना की ओर बढ़े. भाजपा और तृणमूल के समर्थकों के बीच उस वक्त झड़प हुई जब भगवा पार्टी कार्यकर्ता प्रदर्शन के लिए जा रहे थे. मीणा ने बताया कि घटना के सिलसिले में सभी 57 लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है. सुप्रियो ने प्रदर्शन का अधिकार होने की बात करते हुए दावा किया कि भाजपा कार्यकर्ताओं को तृणमूल के लोगों ने पीटा .

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा कि उनकी पार्टी ने कल इलाके में गाय तस्करी के खिलाफ प्रदर्शन किया था तभी तृणमूल कार्यकर्ताओं ने उनकी पिटाई की. भाजपा के कुछ कार्यकर्ताओं को पुलिस भी कथित तौर पर उठा ले गई जिनकी सुप्रियो  रिहाई सुनिश्चित कराना चाहते थे. स्थानीय तृणमूल नेता शिवदासन ने कहा कि भाजपा कार्यकताओं को मंत्री के घर के सामने प्रदर्शन करने की बजाय प्रशासन के समक्ष विरोध दर्ज कराना चाहिए.

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement

 
 

Advertisement