आप यहां हैं : होम » दुनिया से »

ट्यूशन फीस खर्च देने के बाद चीनी छात्रा ने की आत्महत्या

 
email
email
बीजिंग: ूर्वोत्तर चीन में 20 वर्षीय चीनी छात्रा ने अपनी दो साल की ट्यूशन फीस खरीददारी में उड़ा देने के बाद आत्महत्या कर ली।

भूविज्ञान के चीनी विश्वविद्यालय के तहत आने वाले ग्रेट वॉल कॉलेज की तीसरे वर्ष की छात्रा चैंग यनान ने बीते 18 जून को 13वीं मंजिल पर स्थित कमरे से कूदकर आत्महत्या कर ली थी।

चाइना यूथ डेली की खबर के अनुसार, चैंग ने 30,000 यूआन (5000 डॉलर) से भी ज्यादा राशि कपड़ों, सौंदर्य प्रसाधनों और त्वचा की देखभाल संबंधी उत्पादों पर खर्च दिए थे। इसमें से अधिकतर राशि उसके माता-पिता द्वारा भेजी जा रही वाषिर्क ट्यूशन फीस 11,500 यूआन में से बेईमानी करके निकाली गई।

अखबार ने कहा कि चैंग के दोस्त अक्सर उसे खरीददारी की इन आदतों पर टोका करते थे। हर बार उसका एक ही जवाब था- ‘बहुत हुआ’।

शिनजियांग प्रांत में रहने वाले चैंग के माता-पिता को जब भी उसके स्कूल से बकाया ट्यूशन फीस के बारे में नोटिस मिलता तो वे हैरान होकर संदेह से घिर जाते थे। उन्हें चिंता थी कि शायद उनकी बेटी किसी घोटाले का शिकार हुई है या फिर उसे कोई लड़का धोखा दे रहा है।

चैंग के पिता चैंग शुजेंग ने कहा कि एक बार उनकी बेटी ने उनसे अपना एटीएम खो जाने का झूठ भी बोला था। उसने इन्हें यह भी बताया था कि उसके खाते में से 20,000 रुपये चुरा लिए गए थे।

चैंग की मां शू किंगफांग ने कहा कि उन्होंने आत्महत्या के एक दिन पूर्व अपनी बेटी से बात की थी। शू ने बताया, हमने स्कूल फीस के बारे में बहस की लेकिन अंत में मैंने यही कहा, अपनी मां से झूठ मत बोलो और सच बताओ, मैं तुम्हारा यकीन करूंगी। चैंग ने अपने सुसाइड नोट में कहा, यह किसी की गलती नहीं है और किसी को पछतावा करने की जरूरत नहीं है। मैं एक अलग ही तरह की जीवनशैली में जी रही थी। ये सभी समस्याएं मेरी खुद की तैयार की हुई हैं और इनसे मुझे ही नुकसान पहुंचा है। चैंग का अंतिम संस्कार गुरुवार को हेबेई में किया गया। उसके अंतिम संस्कार में उसके साथ त्वचा की देखभाल वाले कुछ उत्पाद भी रखे गए।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...



Advertisement

 
विज्जी और बनारस

मैंने अपनी ज़िंदगी में चंद राज्यों के ही शहर देखिए हैं। कहीं किसी शहर में क्रिकेटर की मूर्ति नहीं देखी। बनारस में देखी। विज्जी और बनारस। हमने कभी विज्जी के बहाने बनारस के बारे में सोचा ही नहीं था...

Advertisement