आप यहां हैं : होम » दुनिया से »

केन्या हमले में दो भारतवंशी सहित 59 की मौत

 
email
email
Kenya mall attack: Two Indians among 59 people killed

नैरोबी के मॉल पर आतंकी हमले के बाद पहुंचे सुरक्षाकर्मी

नैरोबी / नई दिल्ली: ेन्या की राजधानी नैरोबी के वेस्टगेट शॉपिंग मॉल में शनिवार को हुए आतंकवादी हमले में दो भारतवंशियों सहित 59 लोगों की मौत हो गई। इस बीच, रविवार को सोमालिया के आतंकवादी संगठन अल-शबाब के 15 बंदूकधारी आतंकवादियों ने अभी भी शॉपिंग मॉल के अंदर बड़ी संख्या में लोगों को बंधक बना रखा है।

इस आतंकवादी हमले में 59 मौतों के अलावा करीब 175 अन्य घायल हुए हैं। यह जानकारी केन्या के मंत्रिमंडल सचिव जोसेफ ओले लेंकु ने रविवार को दी।

इधर, भारत की राजधानी दिल्ली में अधिकारियों ने हमले में मारे गए भारतवंशियों की पहचान तमिलनाडु के 40 वर्षीय श्रीधर नटराजन तथा मनोज जैन के आठ वर्षीय बेटे परमशु जैन के रूप में की।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता सैयद अकबरुद्दीन ने बताया कि इस हमले में तमिलनाडु से ताल्लुक रखने वाले 40 वर्षीय श्रीधर नटराजन और बैंक ऑफ बड़ौदा की स्थानीय शाखा के प्रबंधक के आठ वर्षीय बेटे परमशु जैन की मौत हो गई है।

हमले में नटराजन की पत्नी मंजुला श्रीधर भी घायल हो गई हैं, जबकि परमशु जैन की मां मुक्ता जैन एवं बहन पूर्वी जैन भी जख्मी हो गए हैं। हमले में एक और भारतवंशी नटराजन रामचंद्रन भी घायल हुए हैं।

आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक नैरोबी में भारतीय उच्चायुक्त शिबाब्रत त्रिपाठी सहित भारतीय उच्चायोग के कई वरिष्ठ अधिकारी हमले में घायल पीड़ितों के उपचार केंद्रों पर उपस्थित थे।

भारतीय प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने रविवार को केन्या के राष्ट्रपति केन्याटा को पत्र लिखकर इस जघन्य एवं घृणित आतंकी हमले की निंदा की।

केन्या के राष्ट्रपति उहुरू केन्याता को भेजे एक शोक संदेश में मनमोहन सिंह ने कहा, "ऐसी पागलपन वाली हिंसा को नियंत्रित करने के लिए एक ठोस वैश्विक प्रयास की जरूरत है।"

समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने केन्या में स्थित रेड क्रॉस सोसायटी के सूत्रों के हवाले से कहा है कि केन्या के सुरक्षा बलों एवं अल शबाब के संदिग्ध आतंकवादियों के बीच तनावपूर्ण गतिरोध जारी है तथा करीब 50 व्यक्तियों का अभी भी कोई पता नहीं चल सका है।

राष्ट्रपति उहुरू केन्याता के मुताबिक, इस हमले में उनके परिवार के कुछ करीबी सदस्य भी मारे गए हैं।

लेंकु ने कहा कि लोग अभी भी इमारत के अंदर मौजूद हैं जहां केन्या के सुरक्षाकर्मियों ने पहली और दूसरी मंजिल को नियंत्रण में ले लिया है जबकि बंदूकधारियों ने तीसरे और चौथे मंजिल पर लोगों को बंधक बना रखा है।

अधिकारी ने बंधक बनाए गए लोगों की संख्या स्पष्ट नहीं की है जहां मुख्यत: विदेशी नागरिक और अमीर केन्याई नागरिकों का जमावड़ा रहता है।

प्राप्त खबरों के मुताबिक, मारे गए विदेशी नागरिकों में कनाडा, फ्रांस और चीन के भी नागरिक शामिल हैं।

केन्याई अधिकारियों का कहना है कि सुरक्षा अभियान में 10-15 हमलावर भी मारे गए हैं।

राष्ट्रपति केन्याता ने शनिवार रात टेलीविजन संबोधन में कहा, "पूरे राष्ट्र के साथ मैं मृतकों के परिवार वालों के साथ खड़ा हूं और सभी देशवासियों की तरफ से गहरी संवेदना प्रकट करता हूं।"

घटना की जिम्मेदारी लेने वाले अल शबाब ने ट्विटर पर लिखा, "आतंकवादी वेस्टगेट मॉल में शनिवार दोपहर घुसे और अभी भी वहां मौजूद हैं, केन्याई लोगों के घर में उनके खिलाफ लड़ रहे हैं।"

इसके साथ ही आतंकवादी संगठन ने हमले में 100 से अधिक लोगों के मारे जाने का भी दावा किया है।

रूसी संघ परिषद की अंतर्राष्ट्रीय संबंध समिति के अध्यक्ष मिखाइल मार्गलोव ने कहा कि हमले की जिम्मेदारी लेने वाला अल शबाब गुट, पूर्वी अफ्रीकी देश में फरवरी 2010 से ही अलकायदा की सैन्य शाखा के रूप में काम कर रहा है।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद और अमेरिका ने भी इस आकंदवादी हमले की कड़ी निंदा की है। सुरक्षा परिषद के 15 सदस्यों ने इस संकट के समय में केन्या की सरकार और जनता के प्रति साथ खड़े होने की बात कही है।

संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की-मून ने केन्या के राष्ट्रपति केन्याट्टा के साथ बातचीत में अपनी चिंता प्रकट की।

ब्रिटेन के विदेश मंत्री विलियम हेग ने भी घटना के प्रति चिंता प्रकट की और एक वक्तव्य जारी कर कहा कि वह इस हमले से भयभीत महसूस कर रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...



Advertisement

 

Advertisement