आप यहां हैं : होम » दुनिया से »

स्कूल में गोलीबारी की घटना से हमारे दिल टूट गए हैं : ओबामा

 
email
email
US school shooting: Barack Obama says, Our hearts are broken
वाशिंगटन: मेरिका में एक स्कूल में हुई गोलीबारी से अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा काफी दुखी हैं। व्हाइट हाउस प्रेस के सामने उनका गला कई बार रुंधा। उन्होंने कहा, आज हमारे दिल टूट गए हैं।

व्हाइट हाउस प्रेस के समक्ष ओबामा ने कहा, इस हादसे में मारे गए छोटे बच्चों के माता-पिता, दादा-दादी, बहनों-भाइयों और वयस्कों के परिवारों के लिए आज हमारे दिल में दर्द है। उन्होंने कहा, जिनके बच्चे भाग्यवश इस हादसे से बच गए हैं, वे बहुत भाग्यशाली हैं कि आज उनके बच्चे उनके साथ घर पर ही हैं।

ओबामा को इस दर्दनाक हादसे की खबर ओवल ऑफिस में उनके होमलैंड सुरक्षा सलाहाकार जॉन ब्रेनान ने सुबह करीब साढ़े 10 बजे दी थी। उन्होंने एफबीआई के निदेशक और कनेक्टीकट के गवर्नर से बात भी की थी। गोलीबारी की यह घटना कनेक्टीकट में ही हुई है।

प्रेस को संबोधित करते हुए ओबामा ने कई बार बीच में रुककर अपने आंसू पोंछे। उन्होंने अपने संबोधन में कहा, एक देश के तौर पर हमें कई बार ऐसी घटनाओं का सामना करना पड़ा है। फिर चाहे वह न्यूटाउन में कोई प्रारंभिक शिक्षा का स्कूल हो या ओरेगॉन का शॉपिंग मॉल, विस्कोंसिन का गुरुद्वारा हो या ऑरोरा का कोई सिनेमा थियेटर या फिर शिकागो की कोई सड़क...। ये बच्चे हमारे अपने बच्चे हैं। ऐसी त्रासदियों को रोकने के लिए हम राजनीति से परे एक साथ मिलकर कड़े कदम उठाने वाले हैं।

दो बेटियों के पिता ओबामा ने कहा, आज शाम मिशेल और मैं वही करेंगे, जो आज अमेरिका के सभी माता-पिता करेंगे। हम सब आज अपने-अपने बच्चों को गले लगाएंगे और उन्हें बताएंगे कि हम उन्हें बहुत प्यार करते हैं। हम एक दूसरे को यह याद दिलाएंगे कि हम एक-दूसरे से कितना प्यार करते हैं।

अमेरिकी राष्ट्रपति ने माना कि अपने बच्चे या किसी अन्य प्रियजन को खोने की भरपाई नहीं की जा सकती। साथ ही उन्होंने कहा कि पीड़ितों के परिवारों की मदद के लिए सरकार हरसंभव प्रयास करेगी।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...



Advertisement

 
खत्म हो जाएगा पेट्रोल संकट, गन्ने के रस से चलेंगी गाड़ियां

शर्करा तकनीकी विशेषज्ञ एनके शुक्ला के मुताबिक गन्ने के रस से बना एथेनॉल ऊर्जा के अन्य साधनों से सस्ता है। उन्होंने बताया कि नागपुर व मुंबई में एथेनॉल से चलने वाली तीन बसें आ चुकी हैं।

Advertisement