आप यहां हैं : होम » विषय »Fast Track Court »

'Fast Track Court' - 11 news result(s)

पीएम नरेंद्र मोदी ने कानून मंत्रालय से कहा, सांसदों के खिलाफ मुकदमों को जल्द निपटाने के कदम उठाएंप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कानून मंत्रालय से कहा है कि सांसदों के खिलाफ लंबित आपराधिक मामलों की जल्द सुनवाई के लिए पहल की जाए। अपने चुनावी प्रचार के दौरन 63 वर्षीय नरेंद्र मोदी ने वादा किया था कि यदि वह सत्ता में आते हैं तब वह इस दिशा में काम करेंगे।
फास्ट ट्रैक कोर्ट में तेजी लाने की जरूरत : फरहान अख्तरसाल की शुरुआत में 'मेन अगेंस्ट रेप एंड डिस्क्रिमीनेशन' अभियान शुरू करने वाले अभिनेता-फिल्म निर्माता फरहान अख्तर मानते हैं कि फास्ट ट्रैक कोर्ट को अपनी अवधारणा के अनुसार दुष्कर्म पीड़ितों को तेजी से न्याय देना चाहिए।
दिल्ली दुष्कर्म : साक्षात्कार सीडी को सबूत मानने की इजाजतदिल्ली उच्च न्यायालय ने गुरुवार को दिल्ली दुष्कर्म पीड़िता के मित्र के साक्षात्कार की सीडी को सबूत के रूप में मानने की इजाजत दे दी। 16 दिसंबर 2012 की रात चलती बस में हुए सामूहिक दुष्कर्म की शिकार युवती का मित्र इस मामले का एकमात्र प्रत्यक्षदर्शी गवाह है।
दिल्ली गैंगरेप : सिंगापुर के डॉक्टर आज कोर्ट में देंगे गवाहीडॉक्टर पॉल चुई और डॉ एंजेला थॉमस की कोर्ट में गवाही रिकॉर्ड होने के बाद बचाव पक्ष के वकील उनसे सवाल जवाब भी करेंगे। डॉ पॉल चुई वही डॉक्टर हैं जिन्होंने बलात्कार पीड़ित की मौत के बाद पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट तैयार की थी।
दिल्ली गैंगरेप केस : बयान देने व्हीलचेयर पर पहुंचा पीड़िता का दोस्तदिल्ली गैंगरेप केस में मंगलवार को कोर्ट में पीड़ित के दोस्त समेत अहम गवाहों के बयान दर्ज होंगे। आरोपियों पर शिकंजा मजबूत करने के लिए पुलिस एक और चार्जशीट दाखिल कर सकती है।
दिल्ली गैंगरेप में आरोप तय, साबित होने पर हो सकती है मौत की सजादिल्ली में 16 दिसंबर, 2012 को 23-वर्षीय पैरा-मेडिकल छात्रा के साथ चलती बस में हुए गैंगरेप के मामले में जिन आरोपों के तहत मुकदमा चलेगा, उसमें अधिकतम मौत की सजा हो सकती है। मामले की सुनवाई 5 फरवरी को होगी।
दिल्ली गैंगरेप : सरकारी पक्ष की जिरह पूरी, 28 को बचाव पक्ष रखेगा अपनी बातदिल्ली में 16 दिसंबर को हुए गैंगरेप के मामले में साकेत की फास्ट ट्रैक कोर्ट में सरकारी पक्ष ने जिरह पूरी कर ली है।
दिल्ली गैंगरेप केस फास्ट-ट्रैक कोर्ट को सौंपा गयादिल्ली में चलती बस में 23-वर्षीय पैरामेडिकल छात्रा के साथ सामूहिक बलात्कार और उसकी निर्मम हत्या के मामले को फास्ट-ट्रैक कोर्ट में भेज दिया गया है, जहां अगली सुनवाई 21 जनवरी को होगी।
सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश अल्तमश कबीर ने देश की तमाम हाईकोर्टों को चिट्ठी लिखकर कहा है कि महिलाओं से जुड़े मामलों में फास्ट ट्रैक कोर्ट का गठन किया जाए।
दिल्ली गैंगरेप मामला : आज से होगी फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुनवाईदिल्ली पुलिस इस केस को पहले मजिस्ट्रेट की अदालत में दाखिल करेगी और वहां से यह केस फास्ट ट्रैक कोर्ट में चला जाएगा। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार कोर्ट में आरोपियों को नहीं लाया जाएगा।
राजधानी में एक बस के भीतर 23 वर्षीय लड़की के साथ हुई बलात्कार की घटना के बाद हो रहे हंगामे के मद्देनजर दिल्ली उच्च न्यायालय ने बुधवार को महिलाओं के साथ यौन उत्पीड़न के मामलों के निपटारे के लिए पांच विशेष फास्ट ट्रैक अदालतों का गठन करने का निर्णय लिया है।

Fast Track Court से जुड़े अन्य समाचार »

Advertisement

बच्चे को भूख से मारने वाली महिला को मौत की सजा

महिला को इस आरोप में दोषी करार दिया गया था कि उसने अपनी महिला मित्र (पार्टनर) के नौ साल के बेटे को भूख से तड़पाया और इतनी यातना दी कि उसने दम तोड़ दिया।

Advertisement