आप यहां हैं : होम » विषय »Inflation »

'Inflation' - 126 video result(s)

'Inflation' - 140 news result(s)

भारत में थोक मूल्य सूचकांक पर आधारित थोक महंगाई दर मार्च महीने में 5.7 फीसदी पर पहुंच गया। यह गत तीन महीने का उच्चत्तम स्तर है।
मुद्रास्फीति घटकर नौ माह के निचले स्तर पर पहुंचीप्याज और आलू जैसी सब्जियों के दाम में नरमी आने के चलते फरवरी में मुद्रास्फीति घटकर नौ माह के निचले स्तर 4.68 प्रतिशत पर आ गई, जिससे रिजर्व बैंक के लिए ब्याज दर में कटौती की गुंजाइश बनी है।
केंद्रीय मंत्रिमंडल इस सप्ताह सरकारी कर्मचारियों का महंगाई भत्ता मौजूदा 90 प्रतिशत से बढ़ाकर 100 प्रतिशत करने के प्रस्ताव को मंजूरी दे सकता है।
खाद्य वस्तुओं विशेषकर सब्जियों की कीमतों में गिरावट से जनवरी में थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति घटकर सात महीने के निचले स्तर 5.05 प्रतिशत पर आ गई।
दिसंबर में थोक मूल्य पर आधारित मुद्रास्फीति घटकर 6.16 फीसदी पर आईनवंबर में मुद्रास्फीति 7.52 प्रतिशत थी, जबकि अक्टूबर में मुद्रास्फीति को संशोधित कर 7.24 प्रतिशत कर दी गई। प्रारंभिक आंकड़ों में इसे 7 प्रतिशत बताया गया था।
आर्थिक मामलों के सचिव अरविंद मायाराम ने कहा है कि आने वाले महीनों में मुद्रास्फीति हल्की होगी, पर लंबे समय को ध्यान में रखकर आवश्यक वस्तुओं की कीमतों पर लगाम के लिए मांग और पूर्ति की खाई पाटने का उपाय जरूरी है।
महंगाई चिंता का विषय, भारत के लिए आने वाला समय बेहतर होगा : प्रधानमंत्रीप्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने महंगाई को काबू में रखने में अपनी सरकार की विफलता को आज स्वीकार किया, लेकिन इसके साथ ही कहा कि ऊंचे दाम से किसानों को मदद मिली है और आने वाला समय देश के लिए बेहतर होगा।
देखना होगा कि 'आप' किस तरह महंगाई पर काबू करती है : शरद पवारकेंद्रीय कृषिमंत्री शरद पवार ने मंगलवार को कहा कि वह देखना चाहेंगे कि दिल्ली में सरकार बनाने का दावा पेश करने वाली आम आदमी पार्टी (आप) प्याज एवं अन्य जरूरी वस्तुओं की बढ़ती कीमतों पर लगाम लगाने का अपना चुनावी वादा किस तरह पूरा करती है।
दिसंबर में थोक मुद्रास्फीति घटकर 6.5 फीसद पर आ सकती है : रंगराजनसब्जियों के बाजार में नरमी से दिसंबर में थोक मुद्रास्फीति घटकर 6.5 प्रतिशत व खुदरा मुद्रास्फीति 9.20 प्रतिशत पर आ सकती है। प्रधानमंत्री की आर्थिक सलाहकार परिषद (पीएमईएसी) के चेयरमैन सी रंगराजन ने रविवार को यह बात कही।
थोक मूल्य मुद्रास्फीति नवंबर में 14 माह के उच्च स्तर परआलू, प्याज और अन्य सब्जियों की महंगाई से थोक मूल्य सूचकांक पर आधारित मुद्रास्फीति नवंबर माह में बढ़कर 7.52 प्रतिशत पर पहुंच गई।
खुदरा मुद्रास्फीति नौ माह की ऊंचाई पर, नवंबर में 11.24 प्रतिशत पर पहुंचीफल और सब्जियों विशेष रूप से प्याज व टमाटर की कीमतों में बढ़ोतरी से नवंबर माह में खुदरा मुद्रास्फीति की दर बढ़कर 11.24 प्रतिशत हो गई, जो इसका नौ माह का उच्च स्तर है। ऐसे मे भारतीय रिजर्व बैंक के लिए आगे ब्याज दरों में कटौती और मुश्किल हो जाएगी।
सत्ता में बैठी पार्टी को भुगतना पड़ता है महंगाई का खामियाजा : चिदंबरमविधानसभा चुनावों में कांग्रेस की करारी हार के लिए एक तरह से मूल्यवृद्धि को प्रमुख वजह मानते हुए वित्तमंत्री पी चिदंबरम ने कहा है कि यह सामान्य ज्ञान की बात है कि ऊंची महंगाई का खामियाजा सत्ता में बैठी पार्टी को ही भुगतना पड़ता है।
महंगाई से पोषक पदार्थों की खपत 40 फीसदी कम : सर्वेक्षणसर्वेक्षण में 62 फीसदी वेतनभोगियों ने कहा कि वे सब्जियों और फलों पर ही 4,000 से 6,000 रुपये खर्च कर डालते हैं, जबकि पांच साल पहले इस मद पर एक-चौथाई ही खर्च होता था।
भारत में एक साल में 13,300 करोड़ रुपये के फलों, सब्जियों की बर्बादीअमेरिका स्थित प्रौद्योगिकी फर्म एमरसन की रिपोर्ट में कहा गया है कि पर्याप्त शीत भंडारण सुविधा की कमी से हर साल भारत में करीब 13,300 करोड़ रुपये के फल एवं सब्जियों की बर्बादी होती है।
बिहार में नमक बिका 100 रुपये किलोमहंगाई को लेकर लोग कितने परेशान हो गए हैं, इसका अंदाजा उत्तर बिहार में नमक की कीमतों में वृद्धि की अफवाह उड़ने के बाद की स्थिति को देखकर लगाया जा सकता है।
मुद्रास्फीति में जल्द होगा सुधार : मोंटेक सिंह अहलूवालियाअक्टूबर की थोक मुद्रास्फीति में वृद्धि को तकलीफदेह बताते हुए योजना आयोग के उपाध्यक्ष मोंटेक सिंह अहलूवालिया ने कहा कि मुद्रास्फीति में जल्द सुधार होगा, क्योंकि यह मौसमी कारणों से है।
अक्टूबर में थोक मुद्रास्फीति बढ़कर 7 फीसदी, चालू वित्तवर्ष का उच्चतम स्तरसब्जी समेत विभिन्न खाद्य उत्पादों के महंगा होने से थोक मुद्रास्फीति अक्टूबर महीने में बढ़कर 7 प्रतिशत पर पहुंच गई। यह चालू वित्तवर्ष में इसका उच्चतम स्तर है।
सब्जियां, फल महंगे होने से खुदरा मुद्रास्फीति 10 फीसदी के पारप्याज, टमाटर जैसी सब्जियों एवं फलों के दाम बढ़ने से अक्टूबर माह में खुदरा मुद्रास्फीति 10.09 प्रतिशत पर पहुंच गई। सात माह बाद खुदरा मुद्रास्फीति फिर से दहाई अंक में पहुंची है।
अमीरों पर महंगाई की मार अधिक : रिपोर्टउद्योग संगठन पीएचडी चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री ने एक रिपोर्ट में कहा है कि मौजूदा त्योहारी सीजन में महंगाई की मार आम लोगों की बजाय धनी लोगों पर अधिक देखने को मिल रही है, क्योंकि उनके इस्तेमाल वाले उत्पादों के दाम अधिक बढ़े हैं।
बढ़ती मुद्रास्फीति को लेकर सख्त कदम उठाएंगे : रघुराम राजनआरबीआई गवर्नर रघुराम राजन ने कहा कि मुद्रास्फीति की प्रत्याशा ऊंची हैं और उसे पांच प्रतिशत तक सीमित रखने के लिए कड़े कदम उठाए जाएंगे, जो भारत जैसे गरीब देश के लिए खराब नहीं है।

Inflation से जुड़े अन्य समाचार »

Advertisement

Advertisement