आप यहां हैं : होम »   वीडियो 

छोटे शहरों की नब्ज पकड़ती फिल्में...

हिन्दी फिल्मों में कहानियां कभी किसी बड़े शहर की होती है, तो कभी गांवों-कस्बों की। कभी फिल्मकार अलग-अलग प्रांतों और प्रदेशों की आम बोलचाल की भाषाओं को अपनी फिल्मों में इस्तेमाल करते हैं। इसी सिलसिले को आगे बढ़ाते हुए रिलीज हुई है विशाल भारद्वाज की फिल्म 'मटरू की बिजली का मंडोला'...





Advertisement

 
दिवाली पर इस कंपनी ने बोनस में दिए कार, घर और गहने!

सूरत के हीरा व्यापारी सवजी भाई ढोलकिया ने अपने 1200 कमर्चारियों को घर कार और सोने के गहने जैसे तोहफे दीवाली बोनस के तौर पर दिए हैं।

Advertisement

तिब्बत में एनडीटीवी इंडिया