आप यहां हैं : होम »   वीडियो 

'ऐ मेरे वतन के लोगों...' के 50 साल

27 जनवरी, 1963 की शाम को दिल्ली में जब लता मंगेशकर ने कवि प्रदीप द्वारा लिखे गए इस गीत को गाया था, तो जवाहर लाल नेहरू की आंखें नम हो गई थीं। यह गीत दरअसल युद्ध के नायकों और शहीदों को एक श्रद्धांजलि है और आज 50 साल बाद भी जब यह गीत कहीं सुनाई देता है, तो हमारी संवेदनाओं को छू जाता है।





Advertisement

 
खत्म हो जाएगा पेट्रोल संकट, गन्ने के रस से चलेंगी गाड़ियां

शर्करा तकनीकी विशेषज्ञ एनके शुक्ला के मुताबिक गन्ने के रस से बना एथेनॉल ऊर्जा के अन्य साधनों से सस्ता है। उन्होंने बताया कि नागपुर व मुंबई में एथेनॉल से चलने वाली तीन बसें आ चुकी हैं।

Advertisement