आप यहां हैं : होम » वीडियो »

औरत होने की सजा अब और नहीं...!

आज ऐसा दिन है जब भूगोल के अलग-अलग हिस्से में अलग-अलग भाषा बोली और मुल्कों में दबी हुई हिंसा के किस्सों से निकलकर एक अरब की संख्या में औरतों ने आवाज़ उठाई है।





संबंधित

ख़बरें

Advertisement

Advertisement