आप यहां हैं : होम »   वीडियो 

मुजफ्फरनगर दंगों पर जारी है सियासत

पीढ़ियों से एक हैं हम... सदियां हैं गवाह... साथ रहना, साथ चलना गलियां हैं गवाह... आज के अखबारों में यूपी सूचना एवं जनसपंर्क विभाग के विज्ञापन के आखिर में छपे इस शेर को पढ़कर अच्छा लगा लेकिन अपील और मरहम की यह ज़ुबान भी अब रस्मी लगने लगी है।




Advertisement

 
विज्जी और बनारस

मैंने अपनी ज़िंदगी में चंद राज्यों के ही शहर देखिए हैं। कहीं किसी शहर में क्रिकेटर की मूर्ति नहीं देखी। बनारस में देखी। विज्जी और बनारस। हमने कभी विज्जी के बहाने बनारस के बारे में सोचा ही नहीं था...

Advertisement