NDTV Khabar

  • बिहार के लोग कभी अटल जी को नहीं भूल पाएंगे क्‍योंकि उन्‍होंने हमें स्‍वर्णिम चतुर्भुज राजमार्ग और कोशी नदी समेत तीन बड़े पुल दिए
  • वर्ष 2005 में राज्य में काम करने का अवसर मिलने के उपरान्त न्याय के साथ विकास के सिद्धान्त पर पारदर्शी एवं उत्तरदायी प्रशासन के साथ-साथ विकास योजनाओं के कार्यान्वयन से होने वाले लाभों को लोगों तक उपलब्ध कराने की दिशा में कार्य प्रारंभ किया गया. सुशासन के लिए आवश्यक है कि शिकायतों का निवारण तथा जमीनी प्रतिक्रिया/सुझाव का प्रत्यक्ष ज्ञान लोक सेवकों को रहे.
  • मेरा सार्वजनिक रिकॉर्ड पारदर्शी रहा है. जब किसी मसले पर मैं लोगों को वचन देता हूं तो उसको पूरा करने के लिए अपना सर्वश्रेष्‍ठ देता हूं. मैंने पिछले साल एक सार्वजनिक कार्यक्रम में घोषणा करते हुए कहा था कि यदि हम दोबारा सत्‍ता में आते हैं तो हम शराब पर पाबंदी लागू करेंगे.
  • कोई घोटाला न होना कोई उपलब्धि नहीं है, यह एक नैतिक और कानूनी बाध्यता है। यह महान देश तब खुशहाल होगा, जब गांधी का ताबीज़ हमारी सरकारी नीतियों का मार्गदर्शन करेगा - कि खाते-पीते लोगों के मुक़ाबले गरीब से गरीब और हाशिये पर पड़े नागरिक के हितों का खयाल रखना ज़रूरी है।
  • क्या सहयोगी संघवाद के नारे के साथ अंतर्विरोध चल सकते हैं? मुझे नहीं लगता। राज्यों की आवाज़ और बिहार के हक़ में, मैं लगातार संवाद करता रहूंगा, एक रुख अख्तियार करूंगा, ताकि केंद्र न भूले कि भले ही ताकत उसके पास हो, भारत की जनता राज्यों में रहती है और जनता के हित सर्वोच्च हैं।

Advertisement