NDTV Khabar

  • पर्सनल प्रोटेक्शन इक्विपमेंट्स (PPE) किट को लेकर लगातार सवाल खड़े हो रहे हैं. चीन से आए लगभग 63,000 किट खराब गुणवत्ता के हैं. असम ने चीन से मंगाए 50,000 PPE किट का इस्तेमाल तब तक नहीं करने का फैसला किया है, जब तक इनकी गुणवत्ता प्रमाणित नहीं हो जाती. PPE किट के महत्व का अंदाज़ा इस बात से लगाया जा सकता है कि बिना इसे पहने अगर कोई डॉक्टर या नर्स कोरोना मरीज़ का इलाज करता है तो उसके संक्रमित होने का खतरा ज़्यादा होता है. ऐसे में यह जानना ज़रूरी हो जाता है कि आखिर यह परीक्षण कैसे होता है और कौन करता है.
  • ये बात है एक ऐसे योद्धा की जिसने आतंकियों  को लड़ाई में कई बार धूल चटाई और हमेशा ही जीत हासिल की और कैंसर जैसी घातक बीमारी भी उसका हौसला नही तोड़ सकी. उन्होंने कैंसर के खिलाफ न केवल लंबी लड़ाई लड़ी बल्कि मैराथन तक में जौहर दिखाए. अंतिम क्षण तक उनके चेहरे पर शिकन का नामोनिशान नहीं था. अब वो हमारे बीच नहीं हैं लेकिन हमारे बीच है उनकी बहादुरी के किस्से और जांबाजी की कहानी अब इतिहास में दर्ज हो चुकी है.
  • कोरोना के कहर से बचने के लिये हम सबकी जिंदगी घर की चारदीवारियों में कैद हो गई है. लेकिन नींद कोसों दूर है. अलग तरह की बेचैनी और छटपटाहट है. दिल्ली से भागलपुर तक जिस किसी से बात हो रही है वो यही कह रहा है कि ऐसा नहीं होना चाहिए. सबको अंदर से झकझोर दिया है. मुद्दे की बात करूं तो सबसे पहले तीन तस्वीरें आपके सामने रखना चाहूंगा. मुंबईवासी के जिगर के टुकड़े  ब्रिटेन में कोरोना की वजह से फंस गये तो उसे लाने के लिये उसके परिवार ने विशेष विमान भेज दिया. खर्च आया मात्र 90 लाख. ऐसे ही जब वुहान, इटली, ईरान और मलेशिया जैसे देशों में सैकड़ों लोग कोरोना की वजह से फंस गये तो सरकार विशेष यात्री विमान भेजकर उनको सुरक्षित वापस ले आई.
  • कोरोना से आज दुनियाभर में सरकारी एजेंसियां ही मुकाबला कर रही हैं, कहीं भी कोई भी निजी संगठन योगदान देता नज़र नहीं आ रहा है. यही हाल अपने देश में भी है. कोरोना संक्रमण की पहचान से लेकर उपचार की बात हो या संदिग्ध मरीजों को अलग-थलग रखने की, हमेशा सेना और अर्द्धसैनिक बल ही सामने आए.
  • दिल्ली से लेकर मुंबई तक आज आप किसी से भी कश्मीर के बारे में पूछें तो वह यही कहेगा कि वहां कुछ होने वाला है. कश्मीर में रहने वाले लोगों से बात करें तो वे भी यही कहेंगे कि कुछ बड़ा होने वाला है. सुरक्षा बलों से बात करें तो उनका कहना है कि हमें तो जैसा ऊपर से आदेश मिलेगा हम उस पर अमल करेंगे. रही सही कसर अमरनाथ यात्रा को 15 दिन पहले खत्म करने और पर्यटकों को कश्मीर छोड़ने की हिदायत देने से पूरी हो गई है.
  • चीन तो क्या, यह बात हर कोई जानता है कि अब लड़ाई किसी देश के बूते की बात नहीं है. हां, बस इसके नाम पर दबाव जरूर बनाया जा सकता है. सच्चाई यह है कि भारत, अमेरिका और जापान की दोस्ती चीन को रास नहीं आ रही है, लिहाजा वह दबाव बनाने के लिए यह सब कर रहा है.
  • देश के इतिहास में ऐसा पहली बार हो रहा है कि जब 31 दिसंबर को थलसेना प्रमुख जनरल दलबीर सिंह, वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल अरूप राहा, रॉ प्रमुख राजेन्द्र खन्ना और इंटेलिजेंस ब्यूरो के प्रमुख दिनेश्वर शर्मा एकसाथ रिटायर हो रहे हैं, लेकिन सुरक्षा से जुड़े इन अहम पदों के उत्तराधिकारी कौन होंगे, यह अब तक तय नहीं हो पाया है.
  • पंपोर में तीन आतंकियों के खात्मे में सेना को तीन दिन लग गए. इस ऑपरेशन में सेना का एक जवान मामूली तौर पर घायल हुआ. इसके अलावा सेना को कोई नुकसान नहीं पहुंचा है. ऐसे में कई लोग सवाल उठाने लगे है कि आखिर सेना की क्षमता या फिर ताकत इतनी कम हो गई जो उसे चंद आतंकियों को मार गिराने इतना वक्त लग गया!
  • सर्जिकल आपरेशन न हुआ मानो किसी राजनीतिक दल का घोषणा-पत्र हो गया जिस पर हर ‘ऐरा-गैरा नत्थू खैरा’ सवाल खड़े कर रहा है. अलग-अलग अंदाज में पूरे ऑपरेशन पर प्रश्नचिह्न लगाए जा रहे हैं और उस पर जुमला यह कि ‘हम पूरी तरह से सरकार और सेना के साथ हैं.’ क्या साथ ऐसा होता है जिससे विश्वास से ज्यादा अविश्वास की बू आए?
  • उरी में आतंकवादी हमला हुए तकरीबन एक हफ्ते का वक़्त बीत चुका है. ऐसा नहीं है कि इस हमले में 18 जवानों की शहादत के बाद सेना या सरकार चुप बैठे हैं. बावजूद इसके देश में हर तरफ से ढेरों बातें आने लगी हैं. कोई कह रहा है कि सर्जिकल स्ट्राइक कीजिए तो कोई युद्ध न किये जाने का पैरोकार है.
  • हिज्बुल मुजाहिदीन के आतंकी कमांडर बुरहान वानी के मारे के बाद सुरक्षा बल और प्रदर्शनकारियों के बीच अब तक सैकड़ों दफा हिंसक झड़पें हो चुकी है। कई दफा भीड़ को तितर बितर करने के लिए सुरक्षा बल पैलेट गन का इस्तेमाल करते हैं।
  • पंपोर में हुए आतंकी हमले के बाद हाफिज सईद का दामाद और आतंकी संगठन जमात उद दावा का नंबर टू अब्दुल रहमान मक्की ने कहा कि दो शेरों ने गीदड़ों के काफिलों को घेर लिया।
  • मुंबई हमले के कसूरवार कसाब के बाद अब उस्मान जिंदा पकड़ा गया है । हालांकि अभी इस पर विवाद चल रहा है कि आखिर इस आतंकी को जिंदा किसने पकड़ा।
  • करीब बीस सालों के बाद पंजाब में हुए आतंकी हमले ने सबकी कलई खोलकर रख दी। कलई इसलिए अगर आतंकी अपने नापाक मंसूबे में कामयाब हो जाते तो मरने वालों की तादाद कहीं ज्यादा होती। इस हमले में कुल नौ लोगों की मौत हुई है।
  • किसी ने क्या खूब कहा है इट हैपंस ओनली इन इंडिया। करगिल विजय दिवस है आज। 16 साल पहले दो महीने की लड़ाई के बाद पाकिस्तानी घुसपैठिओं को हमारे सेना के जांबाजों ने मार भगाया था। अलग बात है कि इसकी कीमत करीब 500 जवानों को अपनी जान देकर चुकानी पड़ी।
  • बिहार के चुनाव को ध्यान में रखकर नरेंद मोदी सरकार कमर कस रही है। कोशिश यही है कि कोई कसर न रह जाए। लोकनायक जयप्रकाश नारायण को भुनाने की कोशिश भी शुरू हो गई है।
  • वन रैंक वन पेंशन को लेकर दिल्ली के जंतर-मंतर पर पूर्व सैनिकों का आमरण अनशन अब दूसरे हफ्ते में दाखिल हो चुका है और सरकार का कोई भी नुमाइंदा अभी तक पूर्व सैनिकों से मिलने तक नहीं आया है।
  • स्वयंसेवी संगठन मास फॉर अवेयरनेस द्वारा संचालित रिसर्च सेंटर ‘सेंटर फॉर डेमोक्रेसी एंड पीस’ द्वारा 15वीं लोकसभा के पूरे पांच साल के काम-काज पर तैयार रिपोर्ट 'रिप्रेजेंटेटिव एट वर्क' से पता चलता है कि संसद के तमाम दिग्गज जनता के प्रति अपने दायित्वों को लेकर लापरवाह हैं।
  • खास बात यह है कि पीएम ने यह बात चुनावी भाषण के दौरान कही... किसी बंद कमरे या किसी प्रेस कॉन्फ्रेंस में नहीं... यह शायद पहला मौका था, जब किसी प्रधानमंत्री ने फौज को कश्मीर की चुनावी राजनीति में घसीटा हो।
  • करगिल युद्ध के बाद जम्मू-कश्मीर में शुरू हुए फिदायीन हमलों का रूप अब बदल गया है। यहां शुरुआत के फिदायीन हमलों में एक से दो आतंकी शामिल हुआ करते थे, अब उनकी संख्या बढ़ कर 4 से 6 तक हो गई है।
12»

Advertisement

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com