NDTV Khabar
होम | ब्लॉग |   उमाशंकर सिंह 

उमाशंकर सिंह

यूमैटिक कैमरा से मोबाइल जर्नलिज़्म तक, पत्रकारिता के 23 साल. वर्ष 2000-2002 तक कश्मीर में रहे. 2007 में पाकिस्तान की एमरजेंसी के अलावा स्वात और बाजौर जैसे इलाकों से रिपोर्टिंग कर चुके हैं. अफ़ग़ानिस्तान से तालिबान पर और बुंदेलखंड में पानी की किल्लत पर रिपोर्ट के लिए दो बार रामनाथ गोयनका अवार्ड. NDTV इंडिया के फॉरेन अफेयर्स एडिटर को स्थानीय मुद्दों से लेकर विदेशी मामलों तक सभी में दिलचस्पी. व्यंग्य में रुचि.

  • आज सुबह का कार्यक्रम है हमें तिब्बती हस्तशिल्प और तिब्बती चिकित्सा पद्धति से रूबरू कराने का। पहले हमें एक छोटे से शोरूम में ले जाया गया, जहां तिब्बती राजघरानों में सजाया जाने वाले तान्खा पेंटिग्स तो हैं ही, यहां की पारंपरिक पोशाकें, जूते, कपड़े सब कुछ हैं।
  • पहली नजर में लगा ही नहीं कि यह कोई गांव है। किसी हाउसिंग सोसाइटी की तरह सजा-संवरा है ये। मुख्य दरवाजे से ही सोलर लैंप पोस्ट का सिलसिला शुरू हो जाता है। धूप यहां तीखी होती है, जिसका भरपूर इस्तेमाल ऊंर्जा संबंधी जरूरतों को पूरा करने के लिए होता है...
  • मां ने, जो अपने बेटे को प्रधानमंत्री देखना चाहती है, भी काफी मेहनत की होगी कि राहुल राजनीतिक भाषा की गहराई को पकड़ें, ताकि वह न सिर्फ अपने, अपनी पार्टी और सरकार पर लगने वाले आरोपों का सटीक भाषा में जवाब दे सकें, बल्कि अपने बयानों से विरोधी दलों पर धारदार हमला भी बोल सकें।
  • चुनाव के ऐलान के साथ ही कांग्रेस पार्टी और खुद राहुल गांधी की तरफ से यह साफ कर दिया गया था कि प्रियंका गांधी न तो चुनाव लड़ने जा रही हैं और न ही देशभर में घूमकर प्रचार करने।
  • बात लालू की चली तो एक ने कहा, लालू जो किए भुगत लिए और भुगत रहे हैं। ये तो जातिवाद है, जिसके चलते वे वापस आने की गुंजाइश में हैं। ऐसा गढ्ढा खोदे थे कि दलदल बन गया था।
  • यह नाम आपको जरूर चौंकाएगा, लेकिन बिहार के पूर्णियां जिले में एक गांव का नाम है पाकिस्तान टोला। सबसे दिलचस्प बात है कि नाम बेशक पाकिस्तान हो, लेकिन यहां एक भी मुसलमान नहीं रहता है। यह संथाल आदिवासियों की बस्ती है। यहां करीब दो दर्जन घर हैं।
  • तपती दोपहरी में लालमुनि अपनी देहरी पर अपने सांसद को हाथ जोड़े खड़ा पाता है। उसे कोई अचंभा नहीं होता। पता है चुनाव की तारीख नज़दीक आ गई है। ऐसे में नेताजी तो आएंगे ही। कुट्टी (मवेशी का चारा) काटने के काम थोड़ी देर के लिए रोक कर वो नेताजी से मुखातिब होता है। नेताजी वोट के लिए कहते हैं।
«123

Advertisement