NDTV Khabar
होम | चुनाव |   पार्टीवार 

पार्टीवार परिणाम 2019

पाएं 2019 चुनावों के पार्टीवार परिणामों की तुलना. इसके अलावा, जानिए 2014 में कैसा रहा इनका प्रदर्शन.




परिणाम तय करेंगे कि बीजेपी फिर होगी सत्तासीन, या रहेगी सिंहासन से दूर सात चरणों में हुए लोकसभा चुनाव के साथ दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक अभ्यास खत्म हो गया. अब मतगणना शुरू होगी. आने वाले चुनाव परिणाम तय कर देंगे कि बीजेपी की सरकार की सत्ता में वापसी होगी या नहीं. सन 2014 के लोकसभा चुनाव में कुल 543 सीटों में से 282 सीटें जीतकर बीजेपी ने संसद के निचले सदन में पूर्ण बहुमत हासिल किया था. इस संसदीय चुनाव में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के खाते में सिर्फ 44 सीटें आई थीं. इस चुनाव में दो क्षेत्रीय दलों पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस और तमिलनाडु में एआईएडीएमके ने अपनी हैसियत बढ़ाई थी. पश्चिम बंगाल की 42 सीटों में से ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली तृणमूल कांग्रेस ने 34 सीटें जीती थीं. उधर तमिलनाडु की 39 लोकसभा सीटों में से जयललिता के नेतृत्व वाले दल एआईएडीएम ने 37 सीटों पर विजय हासिल की थी.
इसके अलावा पिछले संसदीय चुनाव में एक अन्य क्षेत्रीय पार्टी बीजू जनता दल (बीजेडी) ने ओडिशा में अपना वर्चस्व साबित किया. नवीन पटनायक के नेतृत्व वाले बीजेडी ने ओडिशा में 21 में से 20 लोकसभा क्षेत्रों में फतह हासिल की थी.
साल 2014 के लोकसभा चुनाव में मायावती की बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) को अप्रत्याशित रूप से एक भी सीट हासिल नहीं हुई थी. अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी उत्तर प्रदेश की पांच सीटों पर जीती थी. इन दोनों दलों ने मौजूदा लोकसभा चुनाव गठबंधन करके लड़ा है.
सन 2014 के चुनाव में बीजेपी ऐसे इकलौते दल के रूप में सामने आया जिसने तीन दशकों में पहली बार सिर्फ अपने बलबूते पूर्ण बहुमत हासिल किया.
मौजूदा लोकसभा चुनाव में 90 करोड़ मतदाता थे. यह संख्या साल 2014 के चुनाव से नौ करोड़ अधिक है.
लोकसभा चुनाव में पहले चरण का मतदान 11 अप्रैल हुआ जिसमें 69.43 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने अधिकार का उपयोग किया. मतदान के दूसरे चरण (18 अप्रैल) और तीसरे चरण (23) में एक बराबर 66 प्रतिशत मतदान हुआ. चौथे चरण में 29 अप्रैल को 64 फीसदी मतदान हुआ. इसे बाद पांचवे चरण में 6 मई को 57.33 प्रतिशत और फिर छठे चरण में 63.3 प्रतिशत मतदान हुआ.

Advertisement