NDTV Khabar
होम | चुनाव |   उम्मीदवार को जानिए 

दिग्विजय सिंह

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री की गद्दी संभाल चुके दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) को दिग्गी राजा और अर्जुन सिंह के नाम से भी जाना जाता है. कांग्रेस (Congress) पार्टी ने लोकसभा चुनाव 2019 में(Lok Sabha Elections 2019) मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के भोपाल (Bhopal) से दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) को अपना प्रत्‍याशी बनाया है. आपको बता दें कि फिलहाल दिग्विजय सिंह कांग्रेस पार्टी में महासचिव के पद कार्यरत हैं. चुनाव 2019 (Elections 2019) में दिग्विजय सिंह का सामना बीजेपी प्रत्‍याशी प्रज्ञा ठाकुर से होगा.

दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) का जन्म 28 फरवरी 1947 को राघोगढ़ में सामंती परिवार में हुआ था. राघोगढ़, ग्वालियर राज्य के अधीन एक राज्य था. करीब 71 साल के दिग्विजय सिंह ने अपनी शुरुआती पढ़ाई इंदौर के डेली कॉलेज से ली और इसके बाद इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की. इंदौर के श्री गोविन्दराम सेकसरिया प्रौद्योगिकी एवं विज्ञान संस्थान से दिग्विजय सिंह ने मैकेनिकल इंजीनियरिंग की. उन्होंने दो शादियां की. पहली शादी साल 1969 में आशा कुमारी से की थी. साल 2013 में कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से जूझने की वजह से पत्नी की मृत्यु हो गई. जबकि दूसरी शादी राज्यसभा की टीवी एंकर अमृता राय से साल 2015 में की. राघोगढ़ को वर्तमान में मध्यप्रदेश के गुना जिले से जाना जाता है. 

दिग्विजय सिंह की जिस साल शादी हुई, उसी साल उन्होंने अपने राजनैतिक करियर में कदम रख दिया. सबसे पहले वह राघोगढ़ में नगर पालिका परिषद के अध्यक्ष बने और फिर 1970 में उन्होंने कांग्रेस पार्टी ज्वाइन कर ली. हालांकि दिग्विजय सिंह के पिता बालभद्र सिंह भारतीय जनसंघ पार्टी से जुड़े थे, फिर भी वह कांग्रेस पार्टी में कदम बढ़ाया. 1977 में दिग्विजय सिंह ने पहली बार विधानसभा चुनाव में उम्मीदवार बने और जीत भी हासिल की. गुना जिले में राघोगढ़ से विधायक चुने गए. सन् 1984 में लोकसभा चुनाव के दौरान राघोगढ़ के ही सांसद के रूप में चुने गए. यहां सांसद बनने के बाद पार्टी ने उन्हें मध्यप्रदेश कांग्रेस कमिटी का अध्यक्ष बनाया. 

सन् 1985 से लेकर 1988 तक इस पद पर दिग्विजय सिंह कार्यरत रहे. हालांकि 1993 में जब जीत हासिल की तो मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री बनने का मौका मिला. अपने कार्यकाल में अच्छे काम के चलते जनता ने उन्हें काफी पसंद किया और 1998 में फिर से जीत हासिल करके मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री बने. 2003 तक सीएम बने रहने के बाद दिग्विजय सिंह अगले चुनाव में हार गए और फिर अगले 10 साल तक कहीं से भी चुनाव नहीं लड़ा. हालांकि बाद में वापसी करते हुए पार्टी ने उन्हें 2013 में राष्ट्रीय महासचिव बनाया.

दिग्विजय सिंह
भोपाल
हारे501660 वोट*
कांग्रेस
*Provisional
उम्र71
लिंगM
शैक्षिक योग्यताग्रेजुएट प्रोफेशनल
व्यवसायखेती
आपराधिक मामले:Yes (8)
देनदारियां₹1.4 करोड़
चल संपत्ति:₹4.6 करोड़
अचल संपत्ति:₹33.5 करोड़
कुल संपत्ति:₹38.1 करोड़
कुल आय:₹51 लाख

Advertisement