NDTV Khabar
होम | चुनाव |   तुलनात्मक मानचित्र 

लोकसभा चुनाव परिणाम 2019 vs 2014

2014 vs 2019 Results: 2014 और 2019 के आम चुनाव परिणामों की राज्यवार तुलना.



एक्जिट पोल्स में NDA के फिर से सरकार बनाने की प्रबल संभावनाएं
लोकसभा चुनाव 2019 के परिणाम आज घोषित हो जाएंगे. एक माह से अधिक समय तक चला लोकसभा चुनाव का सिलसिला सातवें चरण के मतदान के साथ रविवार को समाप्त हो गया. एक्जिट पोल्स और पोल ऑफ पोल्स में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) के आसानी से जीत हासिल करके सरकार का गठन करने की संभावना जताई गई है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बीजेपी साल 2014 की तरह बड़ी संख्या में सीटें जीतकर आसानी से सरकार बनाने की स्थिति में आ सकती है. रविवार को अंतिम चरण के मतदान के बाद परिणामों को लेकर एक्जिट पोल्स के अनुमान जारी किए गए थे.
सभी एक्जिट पोल्स के अनुमानों के कुल औसत के आधार पर बने पोल ऑफ पोल्स के अनुसार लोकसभा की कुल 543 सीटों में बीजेपी के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) को 302 और कांग्रेस और उसके सहयोगी दलों को 122 सीटों पर विजय हासिल हो सकती है. एक्जिट पोल्स का अनुमान है कि बंगाल में राज्य की कुल 42 सीटों में से मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस को 26 और बीजेपी को पिछले चुनाव में मिलीं दो सीटों के मुकाबले इस बार 14 सीटें मिल सकती हैं. यानी इस बार बीजेपी दो अंकों में सीटें हासिल कर सकती है. पोल ऑफ पोल्स का कहना है कि ओडिशा में नवीन पटनायक के बीजू जनता दल और बीजेपी के बीच कड़ा मुकाबला है. ओडिशा में पिछले चुनाव में 21 में से सिर्फ एक सीट जीतने वाली बीजेपी के प्रदर्शन में इस चुनाव में व्यापक सुधार होने की संभावना है.
दो राज्यों में बीजेपी के बढ़त पाने से उसको उत्तर प्रदेश में होने वाले संभावित नुकसान की भरपाई होने की संभावना जताई जा रही है. यूपी में साल 2014 के चुनाव में बीजेपी को 80 में से 71 सीटें मिली थीं. पोल ऑफ पोल्स में संभावना जताई गई है कि इस राज्य में बीजेपी 49 सीटों पर कब्जा कर सकती है. यदि पोल्स के अनुमान सही सबित हुए तो यूपी में इस बार मायावती-अखिलेश यादव की जोड़ी 29 सीटें जीत सकती है जबकि कांग्रेस से 2014 के चुनाव परिणामों से बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद नहीं की गई है.
चेतावनी- एक्जट पोल्स अक्सर गलत सबित होते हैं.
साल 2014 में विभिन्न एक्जिट पोल्स के आधार पर पोल ऑफ एक्जिट पोल्स में बीजेपी के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) को संसद की 545 में से 288 सीटें हासिल होने और कांग्रेस नेतृत्व वाले यूपीए को 102 सीटें मिलने की संभावना जताई गई थी.
परिणाम आने पर इसमें काफी बड़ा अंतर सामने आया. एनडीए ने 336 सीटें जीतीं जबकि यूपीए, जो कि दो लगातार दो बार से सत्ता में था, 59 सीटों पर सिमट गया.

Advertisement