NDTV Khabar
होम | चुनाव |   ओडिशा 

कुल सीटें- 21

ओडिशा लोकसभा चुनाव परिणाम 2019

ओडिशा (Odisha Lok Sabha Election Results 2019) के राजनीतिक अखाड़े की बात की जाए तो यहां नवीन पटनायक की बीजद का दबदबा कायम है, लेकिन बीते सालों में बीजेपी के बेहतरीन प्रदर्शन ने इस बार के ओडिशा लोकसभा चुनाव 2019 में मुकाबला और कड़ा कर दिया है. ओडिशा चुनाव 2019 में बीजेपी बेहतरीन प्रदर्शन की हर कोशिश कर रही है.ओडिशा की सभी लोकसभा सीटों के बारे में विस्तार से जानकारी के लिए स्क्रॉल करें.

चुनाव क्षेत्रअग्रणी प्रत्याशीपार्टीस्थिति
अस्काप्रमिला बिसाईबीजेडीजीते
बालासोरप्रताप चंद्र सारंगीबीजेपीजीते
बरगढ़सुरेश पुजारीबीजेपीजीते
बेरहामपुरचंद्रशेखर साहूबीजेडीजीते
भद्रकमंजुलता मंडलबीजेडीजीते
भुवनेश्वरअपराजिता सारंगीबीजेपीजीते
बोलनगीरसंगीता कुमारी सिंह देवबीजेपीजीते
कटकभर्तृहरि महताबबीजेडीजीते
ढेंकनालमहेश साहूबीजेडीजीते
जगतसिंहपुरराजश्री मलिकबीजेडीजीते
जाजपुरशर्मिष्ठा सेठीबीजेडीजीते
कालाहांडीबसंत कुमार पांडाबीजेपीजीते
कंधमालअच्युतानंद सामंतबीजेडीजीते
केंद्रपाड़ाअनुभव मोहंतीबीजेडीजीते
क्योंझारचंद्राणी मुर्मूबीजेडीजीते
कोरापुटसप्तगिरी उलाकाकांग्रेसजीते
मयूरभंजबिश्वेश्वर तुदूबीजेपीजीते
नबरंगपुररमेश चंद्र माझीबीजेडीजीते
पुरीपिनाकी मिश्राबीजेडीजीते
संबलपुरनितेश गंगा देबबीजेपीजीते
सुंदरगढ़जुआल ओरमबीजेपीजीते

ओडिशा के बारे में

ओडिशा (Odisha) पूर्व भारत में सबसे दिलचस्प राज्यों में से एक हैं. उत्तर में ओडिशा (Odisha Lok Sabha Election Results 2019) की सीमा झारखंड (Jharkhand) से, उत्तर पूर्व में पश्चिम बंगाल (West Bengal) से, दक्षिण में आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh) से, और पश्चिम से छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) से सटी हुई है. 2011 की जनगणना के अनुसार ओडिशा की जनसंख्या करीब 4.2 करोड़ है, जोकि साल 2001 में 3.68 करोड़ थी. जिनमें 21,212,136 पुरुष और 20,762,082 महिलाएं शामिल हैं. ओडिशा (Odisha Elections 2019) 155,707  वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है. ज्यादातर अबादी ग्रामीण इलाकों में रहती है. 2011 में हुई जनगणना के अनुसार 83.31 फीसदी जनता ग्रामीण इलाकों में रहती है जबकि 16.69 प्रतिशत जनता शहरी इलाकों में वास करती है. बात करें राज्य की साक्षरता दर की, तो आपको बता दें कि ओडिशा की साक्षरता दर 72.87 फीसदी है. ओडिशा में लिंगानुपात 979 है. यहां की आधिकारिक भाषा (Official Language of Odisha) ओड़िआ है. ओडिशा के राजनीतिक अखाड़े की बात की जाए तो यहां नवीन पटनायक की बीजद का दबदबा कायम है, लेकिन बीते सालों में बीजेपी के बेहतरीन प्रदर्शन ने इस बार के ओडिशा लोकसभा चुनाव 2019 में मुकाबला और कड़ा कर दिया है. ओडिशा चुनाव 2019 में बीजेपी बेहतरीन प्रदर्शन की हर कोशिश कर रही है.

ओडिशा की अर्थव्यवस्था में कृषि की महत्वपूर्ण भूमिका है. 80 फीसदी जनसंख्या खेती कामों में लगी हुई है. चूंकि यहां की भूमि अनुपजाऊ है यानी की साल में एक से ज्यादा फसल करने के अनुपयुक्त, लिहाजा राज्य के ज्यादातर किसान गैर कृषि कामों में सलंग्न रहते हैं. 30 जिले वाले ओडिशा में 21 लोकसभा सीटे हैं. साल 2014 में हुए लोकसभा चुनावों में 21 में से 20 सीटों पर बीजद को जीत मिली थी. बीजद के चीफ नवीन पटनायक हैं. नवीन पटनायक (Naveen Patnaik) का नाम ओडिशा (Odisha) के इतिहास में सबसे लम्बे समय तक मुख्यमंत्री बनने का कीर्तिमान है. 2019 में राज्य में लोकसभा और विधानसभा चुनाव साथ-साथ हो रहे हैं. दोनो ही स्तर पर मुकाबला त्रिकोणिय (बीजद बीजेपी और कांग्रेस के बीच) माना जा रही है.

ओडिशा (Odisha Lok Sabha Seat) की लोकसभा सीटों में बारगढ़, सुंदरगढ़, संभलपुर, क्योंझर, मयूरभंज, बालासोर, भद्रक, जाजपुर, ढेंकनाल, बालांगीर, कालाहांडी, नबरंगपुर, कंधमाल, कटक, केंद्रापाड़ा, जगतसिंहपुर, पुरी, भुवनेश्वर, अस्का, बेहरमपुर और कोरापुट शामिल हैं. प्रदेश में सत्ताधारी बीजू जनता दल (बीजेडी), कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के बीच में कड़ा मुकाबला माना जा रहा है.  2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेडी को 21 में से 20 और बीजेपी को एक सीट पर जीत मिली थी.

चुनाव आयोग (Election Commission) द्वारा प्राप्त जानकारी के अनुसार 2019 के लोकसभा और विधानसभा चुनावों में कुल 31800787 मतदाता अपने अधिकार का इस्तेमाल करेंगे. जिनमें पुरुषों की जनसंख्या 16337310 और महिलाओं की संख्या 15460545 है. जबकि 2932 थर्ड जेंडर्स वोटर्स भी अपने पसंदीदा प्रत्याशियों को वोट देंगे.

कुल सीटें- 21

ख़बर
फोटो
वीडियो

Advertisement