NDTV Khabar
होम | चुनाव |   बांसवाड़ा 

बांसवाड़ा विधानसभा सीट चुनाव 2019

लोकसभा चुनाव 2019: राजस्‍थान (Rajasthan) की बांसवाड़ा संसदीय सीट (Banswara Lok Sabha Election Results 2019) के सभी प्रत्याशियों और परिणाम के साथ-साथ इतिहास और पूर्व सांसदों के बारे में जानिए. इसके अलावा राजस्‍थान की अन्य लोकसभा सीटों के बारे में विस्तृत जानकारी के लिए स्क्रॉल करें.

2014 विजेतामणिशंकर निनामा

  • बीजेपी

2019 विजेताकनकमल कटारा

  • बीजेपी

राजस्थान: अन्य चुनाव क्षेत्र

चुनाव क्षेत्रआगे पार्टीस्थिति
अजमेरभगीरथ चौधरीबीजेपीजीते
अलवरबालक नाथबीजेपीजीते
बांसवाड़ाकनकमल कटाराबीजेपीजीते
बाड़मेरकैलाश चौधरीबीजेपीजीते
भरतपुररंजीता कोलीबीजेपीजीते
भीलवाड़ासुभाष चंद्र बहरियाबीजेपीजीते
बीकानेरअर्जुन राम मेघवालबीजेपीजीते
चित्तौड़गढ़चंद्र प्रकाश जोशीबीजेपीजीते
चुरूराहुल कासवानबीजेपीजीते
दौसाजसकौर मीणाबीजेपीजीते
गंगानगरनिहाल चंदबीजेपीजीते
जयपुरराम चरण बोहराबीजेपीजीते
जयपुर ग्रामीणराज्यवर्द्धन राठौरबीजेपीजीते
जालौरदेवाजी पटेलबीजेपीजीते
झालावाड़-बारांदुष्यंत सिंहबीजेपीजीते
झुंझुनूंनरेंद्र कुमारबीजेपीजीते
जोधपुरगजेंद्र शेखावतबीजेपीजीते
करौली-धौलपुरमनोज राजौरियाबीजेपीजीते
कोटाओम बिरलाबीजेपीजीते
नागौरहनुमान बेनीवालआरएलपीजीते
पालीपी.पी. चौधरीबीजेपीजीते
राजसमंददिया कुमारीबीजेपीजीते
सीकरसुमेधानंद सरस्वतीबीजेपीजीते
टोंक-सवाई माधोपुरसुखबीर सिंह जौनपुरियाबीजेपीजीते
उदयपुरअर्जुनलाल मीणाबीजेपीजीते

बांसवाड़ा के बारे में

राजस्थान की बांसवाड़ा लोकसभा सीट (Banswara Lok Sabha Election Results  2019) पर 2014 के चुनाव में BJP के मणिशंकर निनामा ने जीत हासिल की थी. उन्हें 5,77,433 वोट मिले और कांग्रेस के प्रभु लाल रावत 4,85,517 वोटों के साथ दूसरे पायदान पर रहे. बता दें कि बांसवाड़ा लोकसभा सीट अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित है.

बांसवाड़ा लोकसभा सीट से 1952 से 1971 तक लगातार पांच बार कांग्रेस ने कब्जा जमाए रखा, जिसमें पहले सांसद पद के लिए भीखा भाई निर्वाचित हुए फिर 1957 में पीबी भोगजी भाई, 1962 में रतन लाल, 1967 हीरजी भाई, और 1971 में हीरा लाल दोड़ा सांसद बने. 1977 में जनता पार्टी के हीरा भाई ने जीत हासिल की और कांग्रेस को पछाड़ा, लेकिन एक बार फिर 1980 में कांग्रेस के भीखा भाई और 1984 में प्रभु लाल रावत ने सीट पर जीत दर्ज की. 1989 में जनता पार्टी के हीरा भाई ने फिर जीत हासिल की. 1991 से 1999 तक कांग्रेस की चार बार सरकार बनी, जिसमे दो बार ताराचंद भगोरा ने और एक-एक बार प्रभुलाल रावत और महेन्द्रजीत सिंह मालवीय ने जीत हासिल की. 2004 में BJP के धन सिंह रावत ने खाता खोला. 2009 में फिर कांग्रेस के ताराचंद भगोरा ने जीत हासिल की.

बांसवाड़ा लोकसभा से आठ विधानसभा सीटे आती हैं, जिनमें डूंगरपुर, सागवाड़ा, चौरासी, घाटोल, गढ़ी, बांसवाड़ा, बागीदौरा और कुशलगढ़ शामिल हैं, और ये सभी सभी सीटें अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित हैं.

फोटो सौजन्‍य: jharkhandvidhansabha.nic.in
ख़बर
फोटो
वीडियो

Advertisement