NDTV Khabar
होम | चुनाव |   टोंक-सवाई माधोपुर 

टोंक-सवाई माधोपुर लोकसभा सीट परिणाम

लोकसभा चुनाव 2019: राजस्‍थान (Rajasthan) की टोंक-सवाईमाधोपुर संसदीय सीट (Tonk-Sawai Madhopur Lok Sabha Election Results 2019) के सभी प्रत्याशियों और परिणाम के साथ-साथ इतिहास और पूर्व सांसदों के बारे में जानिए. इसके अलावा राजस्‍थान की अन्य लोकसभा सीटों के बारे में विस्तृत जानकारी के लिए स्क्रॉल करें.

  • पार्टी
  • उम्मीदवार

  • वोट*
  • स्थिति
*प्रोविजनल डेटा

2014 विजेतासुखबीर सिंह जौनपुरिया

  • बीजेपी

2019 विजेतासुखबीर सिंह जौनपुरिया

  • बीजेपी

राजस्थान: अन्य चुनाव क्षेत्र

चुनाव क्षेत्रअग्रणी पार्टीस्थिति
अजमेरभगीरथ चौधरीबीजेपीजीते
अलवरबालक नाथबीजेपीजीते
बांसवाड़ाकनकमल कटाराबीजेपीजीते
बाड़मेरकैलाश चौधरीबीजेपीजीते
भरतपुररंजीता कोलीबीजेपीजीते
भीलवाड़ासुभाष चंद्र बहरियाबीजेपीजीते
बीकानेरअर्जुन राम मेघवालबीजेपीजीते
चित्तौड़गढ़चंद्र प्रकाश जोशीबीजेपीजीते
चुरूराहुल कासवानबीजेपीजीते
दौसाजसकौर मीणाबीजेपीजीते
गंगानगरनिहाल चंदबीजेपीजीते
जयपुरराम चरण बोहराबीजेपीजीते
जयपुर ग्रामीणराज्यवर्द्धन राठौरबीजेपीजीते
जालौरदेवाजी पटेलबीजेपीजीते
झालावाड़-बारांदुष्यंत सिंहबीजेपीजीते
झुंझुनूंनरेंद्र कुमारबीजेपीजीते
जोधपुरगजेंद्र शेखावतबीजेपीजीते
करौली-धौलपुरमनोज राजौरियाबीजेपीजीते
कोटाओम बिरलाबीजेपीजीते
नागौरहनुमान बेनीवालआरएलपीजीते
पालीपी.पी. चौधरीबीजेपीजीते
राजसमंददिया कुमारीबीजेपीजीते
सीकरसुमेधानंद सरस्वतीबीजेपीजीते
टोंक-सवाई माधोपुरसुखबीर सिंह जौनपुरियाबीजेपीजीते
उदयपुरअर्जुनलाल मीणाबीजेपीजीते

राजस्थान के बारे में

राजस्थान की टोंक-सवाईमाधोपुर लोकसभा सीट (Tonk-Sawai Madhopur Lok Sabha Election Results 2019) पर 2014 के चुनाव में BJP के सुखबीर सिंह ने यह सीट हासिल की थी. उन्हें 5,48,179 वोट मिले थे. वहीं कांग्रेस के मोहम्मद अजहरुद्दीन 4,12,868 वोटों से दूसरे नंबर पर रहे थे.

अगर यहां के इतिहास पर बात करें, तो 2008 में परिसीमन के बाद यह सीट अस्तित्व में आई थी. 2009 के चुनावों में यह सीट नमो नारायण मीणा के हाथ में थी.

इस संसदीय क्षेत्र के अंतर्गत विधानसभा की 8 सीटें आती हैं, जिनमें गंगापुर, बामनबास, सवाईमाधोपुर, खंडर, मालपुरा, निवाई, टोंक व दवेली-उनियारा शामिल हैं.राजस्थान की सीकर लोकसभा सीट से BJP के सुमेधानंद सरस्वती सांसद हैं. 2014 में हुए चुनाव में जीत दर्ज करने वाले सरस्‍वती को 4,99,428 वोट मिले थे. वहीं कांग्रेस के प्रताप सिंह 2,60,232 वोटों के साथ दूसरे नंबर पर रहे थे.

अगर यहां के इतिहास पर नजर डालें तो, सन् 1952 में राम राज्य परिषद (आरआरपी) के नंदलाल, 1957 व 1962 में कांग्रेस के रामेश्वर लाल, 1967 में जनसंघ के गोपाल साबू, 1971 में कांग्रेस के श्रीकृष्ण, 1977 में जनता पार्टी के जगदीश प्रसाद, 1980 में जनता पार्टी के एसके कुंभाराम ने इस सीट से जीत दर्ज की. इसके बाद 1984 में हुए चुनाव में कांग्रेस के बालराम, 1989 में जनता दल के देवीलाल, 1991 में कांग्रेस के बलराम, 1996 में कांग्रेस के हरि सिंह, 1998 व 2004 में BJP के सुभाष महारिया ने यहां अपना परचम लहराया. इसके बाद 2009 में कांग्रेस की इस सीट पर वापसी हुई.

इस संसदीय क्षेत्र के अंतर्गत विधानसभा की 8 सीटें आती हैं, जिनमें सीकर, लक्ष्मणगढ़, नीम का थाना, धोद, श्रीमाधोपुर, खंडेला, दांतारामगढ़ व चौमूं शामिल हैं. धोद सीट अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित है.

फोटो सौजन्‍य: loksabha.nic.in
ख़बर
फोटो
वीडियो

Advertisement