पटेलों; दलितों के बाद गुजरात में एक और आंदोलन, किसान वेदना यात्रा गांधीनगर पहुंची

पटेलों; दलितों के बाद गुजरात में एक और आंदोलन, किसान वेदना यात्रा गांधीनगर पहुंची

गुजरात में किसान वेदना यात्रा गांधीनगर पहुंची.

अहमदाबाद:

जूनागढ़ के किसान पिछले 20 दिन से सोमनाथ से शुरू हुई किसान वेदना यात्रा में 450 किलोमीटर पैदल चले हैं. किसानों की राज्य में बदहाली को लेकर विविध मांगों को लेकर गांधीनगर तक यह यात्रा निकाली गई. किसान नोटबंदी से भी बेहद परेशान हैं. उन्होंने कपास और फलों की खेती की थी लेकिन उसका पैसा नहीं मिला तो नई सीजन की बुवाई पर असर पड़ा है.

Newsbeep

14 दिसम्बर से सोमनाथ से शुरू हुई यात्रा सोमवार को गांधीनगर पहुंची. किसान और आदिवासी अपनी मांगों को लेकर 20 दिन तक पदयात्रा करते हुए गांधीनगर पहुंचे. वे रास्ते में रुककर नाचगान करके आपस में उत्साह भी बढ़ाते रहे.

 
kisaan vedana yatra gujarat

उनकी मुख्य मांगें हैं कि यूपीए सरकार द्वारा पास किए गए जमीन संपादन एक्ट में बदलाव करके राज्य सरकार ने किसानों को धोखा दिया है. स्पेशल इन्वेस्टमेंट रीजन में भी किसानों की अनदेखी की गई है. साथ में नोटबंदी की वजह से बड़ा नुकसान हुआ है तो किसानों को विशेष पैकेज दिया जाए.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इसी को लेकर गुजरात किसान समाज ने पदयात्रा की और आगे भी आंदोलन जारी रखने की चेतावनी दी. सोमवार को मुख्यमंत्री से मुलाकात नहीं हो पाई लेकिन आवेदन-पत्र जिला अधिकारी ने लिया है. मुख्यमंत्री से मुलाकात करवाने का वादा भी किया है.

 
kisaan vedana yatra gujarat

गुजरात में यह चुनाव का साल है ऐसे में अलग-अलग मुद्दों पर किसानों की नाराजगी राज्य सरकार के लिए चिंता का विषय बनी हुई है.