NDTV Khabar

नक्सलियों का बहिष्कार बेअसर, पहले चरण में 67 फीसदी मतदान

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
रायपुर: छत्तीसगढ़ में नक्सलियों के चुनाव बहिष्कार के आह्वान को नकारते हुए यहां सोमवार को विधानसभा चुनाव के पहले चरण में 18 सीटों के लिए हुए मतदान में करीब 67 फीसदी मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। इस दौरान दंतेवाड़ा में नक्सलियों के हमले में एक जवान शहीद हो गया। कांकेर जिले में विस्फोट और जगदलपुर में झड़प के समाचार हैं।

छत्तीसगढ़ के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी सुनील कुजूर ने सोमवार शाम संवाददाओं से कहा कि अभी तक मिली सूचना के मुताबिक, 67 फीसदी मतदान हुए। यह आंकड़ा बढ़ सकता है कि क्योंकि कई केंद्रों पर कतार में खड़े लोग देर शाम तक मतदान में हिस्सा ले रहे थे।

कुजूर ने कहा कि सूबे के दंतेवाड़ा जिले में नक्सलियों ने मतदान दल पर हमला कर दिया, जिसमें सीआरपीएफ के एक जवान वी.सी जोसेफ की मौत हो गई। वहीं कांकेर में हुए मुठभेड़ में सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के दो जवान घायल हो गए।

कुजूर ने बताया कि बस्तर क्षेत्र के 12 और राजनांदगांव के एक विधानसभा सीट पर सुबह सात बजे से मतदान शुरू हुआ और दोपहर बाद तीन बजे मतदान समाप्त हो गया। वहीं पांच अन्य सीटों पर सुबह आठ बजे मतदान शुरू हुआ और शाम पांच बजे मतदान समाप्त हो गया। उन्होंने कहा कि इन 18 सीटों पर औसत मतदान 67 प्रतिशत दर्ज किया गया। सर्वाधिक मतदान राजनांदगांव और सबसे कम मतदान बीजापुर में होने की खबर है।

कुजूर ने बताया कि तीन बजे तक नक्सल प्रभावित कुछ क्षेत्रों में लगभग 70 फीसदी मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग कर लिया था। मतदान के प्रतिशत के बारे में सही जानकारी मतदान दलों के वापस लौटने के बाद ही मिल सकेगी।

छत्तीसगढ़ में पहले चरण में बस्तर में 12 और राजनांदगांव में छह सीटों के लिए मतदान कराए गए। दोनों ही खनिज पदार्थों से संपन्न और घने जंगलों वाले इलाके हैं। ये नक्सलियों के गढ़ माने जाते हैं।

दंतेवाड़ा में एक मतदान केंद्र पर संदिग्ध नक्सलियों द्वारा गोलीबारी शुरू करने पर मतदान 10-15 मिनट के लिए रोक दिया गया था।

उधर, कांकेर जिले में हुए विस्फोट में सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) का एक जवान घायल हो गया, जबकि बीजापुर में 10 किलोग्राम विस्फोटक बरामद किया गया।

बस्तर क्षेत्र की 12 और राजनांदगांव की छह सीटों के लिए हो रहे चुनाव में सुरक्षा के कड़े प्रबंध किए गए थे।

पहले चरण में 18 विधानसभा क्षेत्रों के 4,142 मतदान केंद्रों पर मतदान कराया गया। इनमें से 1,311 केंद्र अति संवेदनशील और 1,517 संवेदनशील थे।

पुलिस महानिदेशक रामनिवास ने बताया कि  बस्तर के अलग-अलग हिस्सों से 15 देसी बम बरामद किए गए।

बीजापुर, सुकमा, कोंटा और अनंतगढ़ विधानसभा क्षेत्रों में जंगली इलाकों में स्थित नौ केंद्रों पर नक्सलियों ने मतदान में बाधा डाली।

मुख्यमंत्री रमन सिंह ने कहा कि यहां अच्छा मतदान हुआ है। मतदाताओं के बीच उत्साह है, जो भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के लिए अच्छा संकेत है।

इधर, जगदलपुर और कोंटा विधानसभा क्षेत्रों में कांग्रेस और भाजपा के कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हुई है। झड़प में जगदलपुर से कांग्रेस उम्मीदवार सामू कश्यप को चोटें आई हैं और उन्हें अस्पताल ले जाया गया।

नक्सल प्रभावित 18 विधानसभा क्षेत्रों के लिए मतदान सोमवार सुबह धीमी गति से शुरू हुआ। ये क्षेत्र नक्सलियों के गढ़ माने जाते हैं और यहां के जंगली इलाकों में स्थित मतदान केंद्र वीरान नजर आ रहे थे, यहां दिन चढ़ने के साथ मतदान में तेजी आई।

'राइट टू रिजेक्ट' के नाम से लोकप्रिय नन ऑफ द एबव (एनओटीए) के विकल्प को भी वोटिंग मशीन में रखा गया है, जिसकी शुरुआत भारत में छत्तीसगढ़ विधानसभा के प्रथम चरण के मतदान से हुई।

यहां 13 विधानसभा क्षेत्रों के लिए मतदान सुबह सात बजे और पांच अन्य केंद्रों पर सुबह आठ बजे शुरू हुआ। बस्तर क्षेत्र के जंगली इलाकों के अधिकांश मतदान केंद्र शुरुआत में वीरान नजर आए।
 
जिन केंद्रों पर सुबह सात बजे मतदान शुरू हुआ, वहां दोपहर तीन बजे मतदान संपन्न हो गया, ताकि अधिकारी सूर्यास्त तक नक्सल प्रभावित इलाकों से सुरक्षित लौट सकें।

इधर, जगदलपुर, कांकेर और राजनांदगांव में मतदान तेज गति से हुआ और यहां मतदान शुरू होने से पहले ही मतदाताओं की लंबी कतारें लग गई थीं।

राजनांदगांव से मुख्यमंत्री और भाजपा के उम्मीदवार रमन सिंह चुनाव लड़ रहे हैं। यहां महिलाओं और युवाओं की लंबी कतारें देखी गईं।

उल्लेखीय है राज्य में दूसरे और अंतिम चरण में 72 सीटों पर इस महीने की 19 तारीख को मतदान होगा।
 
पहले चरण में योग्य 29 लाख मतदाताओं में से 67 फीसदी ने मुख्यमंत्री रमन सिंह, उनके मंत्रिमंडल के तीन सदस्य, जीरम घाटी हमले में शहीद पूर्व नेता प्रतिपक्ष महेंद्र कर्मा की पत्नी देवती कर्मा और इस हमले में शहीद पूर्व विधायक उदय मुदलियार की पत्नी अलका मुदलियार समेत 143 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला ईवीएम में बंद कर दिया। इन मतदाताओं में 14 लाख 53 हजार 730 पुरुष और 14 लाख 78 हजार 659 महिला मतदाता हैं। वहीं 811 सर्विस वोटर हैं।

टिप्पणियां

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement