यह ख़बर 25 अक्टूबर, 2013 को प्रकाशित हुई थी

मुजफ्फरनगर दंगा पीड़ितों से पाक एजेंसियों ने की थी संपर्क की कोशिश : राहुल गांधी

मुजफ्फरनगर दंगा पीड़ितों से पाक एजेंसियों ने की थी संपर्क की कोशिश : राहुल गांधी

मध्य प्रदेश में एक रैली में राहुल गांधी

नई दिल्ली / इंदौर:

भारतीय जनता पार्टी पर चुनावी फायदे के लिए मुजफ्फरनगर में पिछले महीने सांप्रदायिक दंगे भड़काने का आरोप लगाते हुए कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने गुरुवार को इंदौर में एक चुनावी रैली में कहा कि उत्तर प्रदेश के इस शहर के दंगा प्रभावित मुस्लिम युवाओं को पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी बरगलाने की कोशिश कर रही है।

इंदौर के दशहरा मैदान में कांग्रेस की 'सत्ता परिवर्तन' रैली को संबोधित करते हुए राहुल ने कहा, परसों मेरे दफ्तर में एक भारतीय गुप्तचर अधिकारी आया। उसने मुझे बताया कि पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी के लोगों ने मुजफ्फरनगर के उन 10-15 मुसलमान लड़कों से बात करके उन्हें बरगलाना शुरू कर दिया है, जिनके भाई-बहन दंगों में मारे गए हैं।

भाजपा ने राहुल के बयान पर कहा है कि राहुल गांधी का यह कहना कि सांप्रदायिक दंगों के शिकार परिवारों के युवाओं को पाकिस्तानी एजेंसियां आतंकी गतिविधियों में शामिल होने के लिए चारा डाल रही हैं, एक तरह से मुसलमानों की देशभक्ति पर संदेह करने जैसा है। उसने कहा कि अपने ऐसे बयान के लिए कांग्रेस उपाध्यक्ष को माफी मांगनी चाहिए।

भाजपा प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन ने कहा, राहुल गांधी ने आज ऐसा कह कर मुसलमानों पर संदेह की सुई घुमाने का प्रयास किया है, जबकि यह मुसलमान देश के विभाजन के समय भी पाकिस्तान नहीं गए थे और यहीं रहने का फैसला किया था। भाजपा नेता ने कहा, राहुल गांधी ने यह कहकर कि आईएसआई भारतीय मुसलमानों को चारा डाल रही है, मुस्लिम समुदाय की राष्ट्रभक्ति पर सवाल खड़ा किया है। यह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है। अपनी ऐसी टिप्पणी के लिए उन्हें माफी मांगनी चाहिए। उन्होंने कहा, भाजपा ने तो कभी ऐसा नहीं कहा कि भारतीय मुसलमान सांप्रदायिक हैं या उन्हें पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी द्वारा फुसलाया जा सकता है।

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा था कि भारतीय गुप्तचर अफसर ने मुझे बताया कि वह मुजफ्फरनगर के इन दंगा प्रभावित लड़कों को समझा रहा है कि वे पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी के लोगों की बातों में न आएं। राहुल ने कहा कि जब वह मुजफ्फरनगर के दंगा प्रभावित लोगों से मिले, तो उन लोगों ने उन्हें बताया कि इस शहर में दंगों की आग जान-बूझकर लगाई गई।

कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा, भाजपा को लगा कि उत्तरप्रदेश में सांप्रदायिक लड़ाई करवाए बगैर उनकी बात नहीं बनेगी, इसलिए उन्होंने वहां दंगों की आग लगा दी। उन्होंने (भाजपा नेताओं ने) इसकी चिंता नहीं कि यह आग कौन बुझाएगा और इससे देश का कितना नुकसान होगा। मुजफ्फरनगर दंगों के पीड़ित कुछ मुस्लिम युवकों से पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी द्वारा संपर्क किए जाने संबंधी कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के दावे पर उत्तर प्रदेश पुलिस ने कहा है कि वह इसकी पड़ताल करेगी।

उत्तर प्रदेश के अपर पुलिस महानिदेशक (कानून-व्यवस्था) मुकुल गोयल ने कहा, उन्हें (राहुल गांधी को) कहीं से खबर मिली होगी। हमें जानकारी नहीं है, हम इसकी पुष्टि करवाएंगे।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com