यह ख़बर 17 नवंबर, 2013 को प्रकाशित हुई थी

छत्तीसगढ़ : दूसरे चरण में 72 सीटों के लिए मतदान, तैयारियां पूरी

छत्तीसगढ़ : दूसरे चरण में 72 सीटों के लिए मतदान, तैयारियां पूरी

रायपुर:

छत्तीसगढ़ में होने वाले द्वितीय चरण के चुनाव के लिए चुनाव आयोग ने तैयारी पूरी कर ली है। राज्य के 19 जिलों के 72 विधानसभा सीटों के लिए 19 नवंबर को सुबह 8 से शाम 5 बजे तक 80 हजार कर्मचारी मतदान कराएंगे। इन क्षेत्रों में 843 उम्मीदवार भाग्य आजमा रहे हैं।

छत्तीसगढ़ के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी सुनील कुजूर ने बताया कि मतदान कार्यो के लिए 80 हजार कर्मचारी तैनात किए गए हैं। 72 विधानसभा सीटों में से 46 सीट सामान्य वर्ग के लिए 17 अजजा के लिए तथा 9 अजा वर्ग के लिए आरक्षित हैं। लगभग 1 करोड़ 39 लाख, 75 हजार 470 मतदाता इस चरण में मतदान करेंगे। इनमें से पुरुष मतदाताओं की संख्या 71,39,631 तथा महिला मतदाताओं की संख्या 68,30,179 है।

वहीं सुरक्षा बल में शामिल सर्विस वोटरों की संख्या 5660 है। विधानसभा चुनाव 2013 के लिए 75 महिला प्रत्याशी भी चुनाव मैदान में हैं। इनमें से मान्यता प्राप्त राष्ट्रीय दलों के 236, पंजीकृत राजनीतिक दलों के 289 तथा 318 निर्दलीय प्रत्याशी हैं।

कुजूर ने बताया कि सबसे कम प्रत्याशी सरायपाली विधानसभा सीट में हैं जहां मात्र 5 प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं। सबसे अधिक प्रत्याशी रायपुर नगर दक्षिण विधानसभा सीट से चुनाव मैदान में हैं। यहां से 38 प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं। इनके लिए 3 बीयू (बैलेट यूनिट) मशीन लगाई जाएगी।

वहीं शांतिपूर्ण तथा निष्पक्ष चुनाव कराने के लिए 72 मुख्य तथा सामान्य आब्जर्वरों के साथ ही पुलिस विभाग से 19 आब्जर्वर तैनात किए गए हैं। प्रत्येक स्तर पर निगरानी के लिए 4675 माइक्रो आब्जर्वर तैनात किए गए हैं।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

गड़बड़ी पकड़ने के लिए उड़नदस्ते की 216 टीमें बनाई गई हैं। वीडियो निगरानी के लिए 75 टीमें गठित की गई हैं। गड़बड़ी रोकने के लिए 3 हजार वीडियो कैमरे उपयोग किए जा रहे हैं। 72 विधानसभा सीटों में मतदान के लिए 17350 मतदान केंद्र बनाए गए हैं, इसमें सहायक मतदान केन्द्रों की संख्या 665 है। इस तरह कुल मतदान केन्द्रों की संख्या 18015 है।

कुजूर ने एक सवाल के जवाब में बताया कि राज्य के नक्सल प्रभावित जिलों और उन सभी जिलों में जहां नक्सली गतिविधियों की सूचना मिली है या जहां नक्सली हलचल की आशंका है, वहां विशेष सुरक्षा व्यवस्था की गई है। संवेदनशील इलाकों में सरगुजा, महासमुंद, गरियाबंद, बालोद, बलरामपुर, सुरजपुर आदि शामिल हैं।