झारखंड विधानसभा चुनाव के पहले चरण में करीब 65 फीसदी मतदान, नक्सलियों के मंसूबे फेल  

झारखंड विधानसभा चुनाव के प्रथम चरण में भारी सुरक्षा व्यवस्था के बीच लगभग 65 प्रतिशत मतदान के साथ जहां लोकतंत्र प्रथम श्रेणी में पास हो गया, वहीं किसी भी तरह हिंसा करने और मतदान को बाधित करने के प्रयासों में विफल होकर नक्सली लोकतंत्र को फेल करने में खुद ही बुरी तरह फेल हो गए.

झारखंड विधानसभा चुनाव के पहले चरण में करीब 65 फीसदी मतदान, नक्सलियों के मंसूबे फेल  

पहले चरण के मतदान में नक्सलियों के मंसूबे कामयाब नहीं हुए.

रांची:

झारखंड विधानसभा चुनाव के प्रथम चरण में भारी सुरक्षा व्यवस्था के बीच लगभग 65 प्रतिशत मतदान के साथ जहां लोकतंत्र प्रथम श्रेणी में पास हो गया, वहीं किसी भी तरह हिंसा करने और मतदान को बाधित करने के प्रयासों में विफल होकर नक्सली लोकतंत्र को फेल करने में खुद ही बुरी तरह फेल हो गए. झारखंड के अपर पुलिस महानिदेशक, कानून व्यवस्था और चुनावों के लिए सुरक्षा के नोडल अधिकारी मुरारी लाल मीणा ने बताया कि आज 13 सीटों के लिए हुए मतदान में कहीं से भी किसी भी प्रकार की हिंसा की खबर नहीं है. उन्होंने बताया कि नक्सली दो जंगली इलाकों में कुछ विस्फोट कर लोगों को डराना चाहते थे लेकिन उसका मतदाताओं के उत्साह पर कोई प्रभाव नहीं हुआ.

मीणा ने कहा कि आज झारखंड विधानसभा चुनाव के पहले चरण में राज्य के छह जिलों, चतरा, गुमला, लोहरदगा, लातेहार, पलामू और गढ़वा की तेरह विधानसभा सीटों -चतरा, गुमला, बिशुनपुर, लोहरदगा, मनिका, लातेहार, पांकी, डाल्टनगंज, विश्रामपुर, छतरपुर, गढ़वा, हुसैनाबाद और भवनाथपुर के लिए मतदान हुआ. इन सभी क्षेत्रों में झारखण्ड पुलिस द्वारा निष्पक्ष एवं भयमुक्त चुनाव कराने के लिये सुरक्षा की चाक चौबंद व्यवस्था की गई थी जो पूरी तरह सफल रही.उन्होंने बताया कि नक्सलियों द्वारा चुनाव में व्यवधान उत्पन्न करने के उद्देश्य से गुमला जिले के बिशुनपुर के बानालात और वीरानपुर के बीच जंगल में एक पुलिया के निकट विस्फोट किया गया. इससे कोई नुकसान नहीं हुआ. सूचना प्राप्त होते ही सुरक्षाबलों ने उक्त क्षेत्र को घेर लिया. अधिकारी ने बताया कि लोहरदगा में भी एक स्थान पर कम तीव्रता का विस्फोट किये जाने की खबर मिली है लेकिन इसकी पुष्टि नहीं हुई है.

एक दशक पूर्व तक इन इलाकों को चुनाव के समय नियमित हिंसा के लिए जाना जाता था. इस स्थिति में इन चुनावों में इस बार संपूर्ण बदलाव देखने को मिला. पुलिस सूत्रों ने बताया कि इसके अतिरिक्त डाल्टनगंज विधानसभा क्षेत्र के चैनपुर के कोशियरा बूथ पर एक पूर्व मंत्री तथा कांग्रेस प्रत्याशी द्वारा ग्रामीणों के बीच पिस्तौल लहराने की घटना हुई जिसके कारण प्रशासन ने उनकी पिस्तौल जब्त कर ली. इस मामले में पुलिस ने दो प्राथमिकियां दर्ज की हैं. एक अन्य घटना में हुसैनाबाद विधानसभा क्षेत्र के हरिहरगंज के डेमा में दो दलों के प्रत्याशियों के बीच झड़प हुई जिसे वहाँ मौजूद पुलिसबल ने समय से नियंत्रित कर लिया. मीणा ने बताया कि इन छिटपुट घटनाओं को छोड़कर अन्य सभी जगहों पर पूरी तरह शान्तिपूर्ण ढंग से मतदान संपन्न हुआ. 



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com