NDTV Khabar

कर्नाटक विधानभा उपचुनाव से पहले पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी ने की पार्टी नेताओं से अपील, कहा - हमें अब सामूहिक नेतृत्व में...

पाटिल ने बताया कि गांधी ने राज्य के नेताओं से निजी अहम् को त्यागने और राज्य में मजबूत पार्टी खड़ी करने की भी सलाह दी है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
कर्नाटक विधानभा उपचुनाव से पहले पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी ने की पार्टी नेताओं से अपील, कहा - हमें अब सामूहिक नेतृत्व में...

सोनिया गांधी ने पार्टी नेताओं को दिया निर्देश

खास बातें

  1. कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने पार्टी नेताओं से की बात
  2. कर्नाटक नेताओं को दिया निर्देश
  3. उप-चुनाव से पहले पार्टी ने बनाई रणनीति
नई दिल्ली:

कर्नाटक में होने वाले विधानसभा उपचुनाव से ठीक पहले पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी ने अपने नेताओं से एक अपील की है. उन्होंने कहा कि है कि प्रदेश इकाई के नेता अब सामूहिक नेतृत्व के अंतर्गत काम करने और राज्य के प्रभावशाली समुदायों को विश्वास में लेने को लेकर काम करें. पार्टी के वरिष्ठ नेता एस आर पाटिल ने एम सी वेणुगोपाल के साथ गांधी से उनके आवास पर मुलाकात की थी. उन्होंने गुरुवार को बताया कि पार्टी प्रमुख से राज्य में बाढ़ की स्थिति और 15 विधानसभा सीटों पर आगामी उपचुनाव के बारे में विस्तार से चर्चा की.

केसी वेणुगोपाल ने चुनाव आयोग पर साधा निशाना, कहा- सरकारी विभाग की तरह काम कर रहा है EC

पाटिल ने मीडियाकर्मियों से कहा था कि पार्टी प्रमुख ने हमसे सामूहिक नेतृत्व में काम करने और सभी प्रमुख जातियों और समुदायों को विश्वास में लेने की सलाह दी. उन्होंने कहा कि वह प्रमुख समुदायों, खासकर, वोक्कालिगा, लिंगायत और ब्राह्मण का जिक्र कर रही थी. पाटिल ने बताया कि गांधी ने राज्य के नेताओं से निजी अहम् को त्यागने और राज्य में मजबूत पार्टी खड़ी करने की भी सलाह दी है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस प्रमुख ने कहा कि पार्टी को दिसंबर में होने वाले उपचुनाव में जीत दर्ज करनी चाहिए. 


Karnataka Bypolls: कर्नाटक में उपचुनाव टालेगा चुनाव आयोग, अयोग्य विधायकों पर SC से फैसला आने का इंतजार

गौरतलब है कि कुछ दिन पहले ही  कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने कहा था कि कांग्रेस-जद (एस) के अयोग्य ठहराए गए विधायक अगर उप चुनाव लड़ना चाहते हैं तो उन्हें बीजेपी के टिकट दिए जाएंगे, हालांकि पार्टी के भीतर से ही किसी भी ऐसे कदम के खिलाफ विरोध के स्वर उठ रहे हैं. उन्होंने कहा था कि पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा है कि पूर्व विधायकों को टिकट देने की 'हमारी जिम्मेदारी' है. तत्कालीन विधायकों द्वारा की गई बगावत के कारण जुलाई में कांग्रेस-जद(एस) की सरकार गिर गई थी और उसके बाद राज्य में बीजेपी ने सरकार बना ली थी. अयोग्य विधायक जिन निर्वाचन क्षेत्रों से आते हैं वहां पर दिसंबर माह में उप चुनाव होने है.  येदियुरप्पा ने 2018 में हारे उम्मीदवारों और भाजपा के टिकट के आकांक्षियों को यह कहकर संतुष्ट करने का प्रयास किया है कि उन लोगों के लिए राज्य संचालित बोर्ड एवं निगमों में अवसर गढ़े जाएंगे. 

अपनी 2 महीने की बच्ची को लेकर इस चोटी पर चढ़ी ये एक्ट्रेस, सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है Video

उन्होंने शिमोगा जिले के शिकारीपुरा में संवाददाताओं से कहा था कि उप चुनाव नजदीक हैं, 15 सीटों के लिए तारीखों की घोषणा हो गई है. अमित शाह ने कहा था कि इस्तीफा देने वाले और बीजेपी से चुनाव लड़ने के इच्छुक लोगों को सीट (टिकट) दिए जाएंगे, यह हमारी जिम्मेदारी है.' उन्होंने कहा था कि यदि आप हमारी पार्टी की ओर से खड़ा होना चाहते हैं तो आपको प्राथमिकता दी जाएगी, उम्मीदवार बनाया जाएगा. आपकी जीत की जिम्मेदारी भाजपा कार्यकर्ता और नेताओं की होगी.' येदियुरप्पा की टिप्पणियां इस मायने में अहम हैं कि अयोग्य विधायकों को उप चुनाव के टिकट देने के खिलाफ भाजपा के भीतर से ही आवाजें उठ रही हैं. 

मॉल में 'हिंदू राष्ट्र' की वकालत कर रहा था शख्स, छात्रों ने कर दी पिटाई, Video वायरल होने पर हुआ एक्शन

टिप्पणियां

कांग्रेस के अयोग्य विधायक बीसी पाटिल ने येदियुरप्पा के बयान का स्वागत किया. हालांकि उन्होंने कहा कि अयोग्य विधायकों ने बीजेपी में शामिल होने के बारे में अभी विचार नहीं किया है. उन्होंने कहा था कि अदालत को हमारी योग्यता के बारे में फैसला करने दीजिए उसके बाद हम इस पर विचार करेगे और फैसला लेंगे. भाजपा को सत्ता में बने रहने के लिए आगामी उप चुनाव में कम से कम छह सीटें जीतनी होंगी.  

Video: तुष्टीकरण का नाम उपमुख्यमंत्री



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement