पोल ऑफ पोल्स : असम में पहली बार खिलेगा कमल, 15 साल बाद तरुण गोगोई की विदाई तय

पोल ऑफ पोल्स : असम में पहली बार खिलेगा कमल, 15 साल बाद तरुण गोगोई की विदाई तय

सर्वानंद सोनोवाल असम में बीजेपी के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार हैं (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

पोल ऑफ एग्जिट पोल्स दर्शाते हैं कि पूर्वोत्तर में पहली बार कमल खिल सकता है। असम की कुल 126 विधानसभा सीटों में से बीजेपी 74 सीटों पर जीत दर्ज कर सकती है। राज्य में तरुण गोगोई के नेतृत्व में पिछले 15 साल से सत्तारूढ़ कांग्रेस सिर्फ 34 सीटों पर सिमट सकती है।

मौलाना बदरूद्दीन अजमल के नेतृत्व वाले ऑल इंडिया डेमोक्रेटिक फ्रंट यानी एआईयूडीएफ को 13 सीटें मिलने का अनुमान है, जबकि अन्य के खाते में पांच सीटें जा सकती हैं। असम में सरकार बनाने के लिए 64 सीटों की जरूरत है।
2011 में कांग्रेस ने 79 सीटें जीतकर लगातार तीसरी बार सरकार बनाई थी। बीजेपी को पांच और एआईयूडीएफ को 18 सीटें हासिल हुई थीं।

2014 के आम चुनावों में बीजेपी ने कुल 14 लोकसभा सीटों में से सात पर जीत दर्ज की थी। इस बार के विधानसभा चुनावों में बीजेपी ने स्थानीय नेता सर्वानंद सोनोवाल को मुख्यमंत्री उम्मीदवार बनाया है। असम में कांग्रेस की करारी हार के लिए हेमंत बिस्व सरमा का कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में जाना एक बड़ी वजह बनेगा। हेमंत ने तरुण गोगोई के खिलाफ बागी रुख अख्तियार कर लिया था।

न्यूजएक्स-टुडेज चाणक्य एग्जिट पोल ने असम में बीजेपी को 90 सीटें मिलने का अनुमान जताया है, जबकि एबीपी-आनंदा ने पार्टी को 81 सीटें हासिल होने की बात कही है। एक्सिस इंडिया टुडे एक्जिट पोल ने बीजेपी को 79-93 सीटें मिलने का अनुमान जताया है। इंडिया टीवी और सी वोटर के एक्जिट पोल के अनुसार बीजेपी हालांकि राज्य में सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरेगी, लेकिन वह बहुमत के आंकड़े से थोड़ी दूर रहेगी।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com