असम : पीएम मोदी व कई केंद्रीय मंत्रियों की मौजूदगी में आज मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे सोनोवाल

असम : पीएम मोदी व कई केंद्रीय मंत्रियों की मौजूदगी में आज मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे सोनोवाल

जोरहाट/गुवाहाटी:

सर्वानंद सोनोवाल असम के पहले बीजेपी मुख्यमंत्री के तौर पर मंगलवार को शपथ लेने वाले हैं। शपथ ग्रहण को लेकर तमाम तैयारियां कर ली गई हैं। सोनोवाल के शपथ ग्रहण समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ कई केंद्रीय मंत्री और कई राज्यों के मुख्यमंत्री आदि भाग लेंगे।

उधर ब्रह्मपुत्र नदी में स्थित उनके निर्वाचन क्षेत्र माजुली द्वीप की उनकी यात्रा को लेकर तैयारियां जोरशोर से चल रही है। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि सोनोवाल को ब्रह्मपुत्र होकर उनके निर्वाचन क्षेत्र में ले जाने के लिए निर्धारित 'मणिकंचन नौका' को अंतरदेशीय जल परिवहन विभाग इस वीवीआईपी यात्रा के लिए तैयार कर रहा है।

यह नौका डीआरडीए विभाग की है। यह दो वाहन ले जाने में सक्षम है। इस पर एक 'टॉप फ्लोर पार्लर' है जहां से वीवीआइपी चारों ओर का दृश्य देख सकते हैं। हालांकि, नए मुख्यमंत्री किस दिन माजुली की यात्रा करेंगे, उसकी तारीख अभी तय नहीं है।

माजुली एशिया का सबसे बड़ा नदी द्वीप है
माजुली एशिया का सबसे बड़ा नदी द्वीप है, जो असम के जोरहाट जिले में स्थित है। यह नव वैष्णववाद संस्कृति का केंद्र है, जिसकी शुरुआत 15वीं-16वीं सदी में शंकरदेव ने की थी जो राज्य के सांस्कृतिक और धार्मिक इतिहास में एक प्रमुख व्यक्तित्व हैं।

सूत्रों ने बताया कि मणिकंचन नौका के साथ पुलिस, स्वास्थ्य, पीडब्ल्यूडी, डीआरडीए विभागों की कई नौकाएं भी होंगी। इसके अलावा एक नियमित यात्री नौका अधिकारियों, सुरक्षाकर्मियों, समर्थकों और नागरिकों को उनके साथ ले जाने के लिए जोरहट जिले के निमाटीघाट में तैयार की जा रही है।

निमाटीघाट एशिया में एक सर्वाधिक व्यस्त बंदरगाह है जो बदलाव, जीर्णोद्धार और नए रंग रोगन के साथ कुछ अलग नजर आ रहा है। जोरहाट के पास स्थित निमाटीघाट से ब्रह्मपुत्र को पार किया जा सकता है और नौकाओं के जरिए माजुली पहुंचा जा सकता है।

सिर्फ नाव से ही पहुंचा जा सकता है माजुली द्वीप तक
माजुली द्वीप पर फिलहाल सिर्फ नौकाओं के जरिए ही पहुंचा जा सकता है। नौकाओं पर वाहनों और लोगों को जोरहट से पहुंचाया जाता है। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने जोरहाट और लखीमपुर को माजुली होते हुए जोड़ने के लिए एक पुल की फरवरी में आधारशिला रखी थी।

ब्रह्मपुत्र में आने वाली बाढ़ से लगातार भूमि का कटाव होने के कारण माजुली द्वीप 352 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्रफल में सिमट गया है, जबकि इसका वास्तविक क्षेत्रफल 1,250 वर्गकिमी होने का दावा किया जाता है।

सोनोवाल सर्वसम्मति से विधायक दल के नेता चुने गए
सर्बानंद सोनोवाल को रविवार को सर्वसम्मति से असम बीजेपी विधायक दल का नेता चुन लिया गया। असम विधानसभा चुनाव के बाद बीजेपी विधायकों की पहली बैठक में पार्टी विधायक हिमंत विश्वशर्मा ने सोनोवाल का नाम सदन में पार्टी के नेता के रूप में प्रस्तावित किया।

विधायक पी फूकन, अतुल बोरा, अंगूरलता डेका, भबेश कलिता, ए.सी. जैन ने सोनोवाल के नाम का समर्थन किया। इस बैठक में बीजेपी की केंद्रीय इकाई के पर्यवेक्षक के तौर पर भाग लेने वाले केंद्रीय मंत्री थावर चंद गहलोत ने सर्वसम्मति से सोनोवाल के विधायक दल के नेता चुने जाने की घोषणा की।

सोनोवाल ने पीएम मोदी को दिया धन्यवाद
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को उनके समर्थन के लिए धन्यवाद देते हुए सोनोवाल ने कहा, 'हमारे अंदर एकता का जज्बा है और हमें लोगों की आकांक्षाओं पर खरा उतरना है।' पीएम मोदी से शनिवार को हुई अपनी भेंट का जिक्र करते हुए सोनोवाल ने कहा कि प्रधानमंत्री ने सभी से समाज के सर्वांगीण विकास के वास्ते ईमानदारी से काम करने का आह्वान किया।

उन्होंने कहा, 'पीएम मोदी ने कहा कि हमें सभी के लिए काम करने का मौका मिला है। वह हर जरूरत में हमारे लिए मौजूद हैं। हमें अधूरे कार्यों को पूरा करना है।' उन्होंने कहा कि असम में अपने दम पर बीजेपी द्वारा 60 सीटें जीतना खुद उनके लिए अप्रत्याशित है।

'लोगों ने पूरे दिल से हमें जनादेश दिया, अब हमारी बड़ी जिम्मेदारी'
सोनोवाल ने कहा, 'लोगों ने पूरे दिल से हमारे पक्ष में जनादेश दिया। इससे बेहतर कुछ नहीं हो सकता। अब हमारी बड़ी जिम्मेदारी है।' बैठक के बाद, जब मीडिया ने उनसे उनकी प्राथमिकताओं के बारे में पूछा, तो सोनोवाल ने कहा कि असम समझौते का क्रियान्वयन उनके लिए शीर्ष प्राथमिकता है।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

उन्होंने यह भी कहा कि अपने पूर्व वरिष्ठ और अगप नेता प्रफुल्ल कुमार महंत से साथ काम करने में उन्हें कोई दिक्कत नहीं है और वह उनसे मार्गदर्शन लेंगे।

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है)