NDTV Khabar

केरल की तुलना सोमालिया से करना भारी पड़ा पीएम को, ट्विटर पर हो रही जोरदार आलोचना

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
केरल की तुलना सोमालिया से करना भारी पड़ा पीएम को, ट्विटर पर हो रही जोरदार आलोचना
नई दिल्ली:

केरल विधानसभा चुनाव के लिए स्टार प्रचारक के रूप में गए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बुधवार को माइक्रो-ब्लॉगिंग वेबसाइट ट्विटर पर जमकर आलोचना की जा रही है, क्योंकि उन्होंने राज्य में हाल ही में दिए एक भाषण में राज्य की तुलना सोमालिया से की थी।

बुधवार सुबह ट्विटर के टॉप ट्रेंड में #PoMoneModi भी शामिल था, जो दरअसल एक मलयालम फिल्म के मशहूर संवाद 'पो मोने दिनेशा' (Po Mone Dinesha) से प्रेरित है, और जिसका अर्थ है, "बेटे, तुम्हारा काम यहां खत्म... अब घर जाओ..."

गौरतलब है कि अगली सरकार चुनने के लिए केरल की जनता सोमवार, 16 मई को मतदान करने जा रही है।

रविवार को रैली में बोले थे प्रधानमंत्री...
रविवार को प्रचार के दौरान प्रधानमंत्री ने कहा था कि मूलभूत एवं आवश्यक स्वास्थ्य व विकास मानकों के आधार पर केरल की स्थिति सोमालिया से भी ज़्यादा खराब है। बस, इसी बात को लेकर जनता में गुस्सा फूट पड़ा और राज्य के मुख्यमंत्री ओमेन चांडी ने भी सख्त शिकायती खत लिखा, जिसे मंगलवार को सार्वजनिक किया गया।
 


मुख्यमंत्री ओमेन चांडी ने खत में लिखा है, "आपने ऐसे बयान दिए, जिनका वास्तविकता से कोई लेना-देना नहीं है, और केरल की तुलना सोमालिया से कर डाली... यह प्रधानमंत्री को शोभा नहीं देता, और इससे बहुत ज़्यादा तकलीफ हुई है..."

चांडी ने खत लिखकर विरोध दर्ज करवाया...
राज्य में कांग्रेस-नीत सरकार के मुखिया ओमेन चांडी ने खत में सवाल किया, "क्या यह प्रधानमंत्री के लिए शर्मिन्दगी की बात नहीं है कि वह घोषणा करें कि उनके देश में सोमालिया जैसा एक राज्य मौजूद है...?"


प्रधानमंत्री ने अपने भाषण के दौरान राज्य में हुई हालिया गंभीर आपराधिक घटनाओं का ज़िक्र करते हुए कहा कि कहा कि यह राज्य खुद को 'भगवान का घर' कहता रहा है।

टिप्पणियां

हाल ही में कई गंभीर अपराध हुए राज्य में...
दरअसल, चुनावी हिंसा की घटनाओं में वामपंथियों तथा दक्षिणपंथी आरएसएस के कार्यकर्ताओं की हत्या शामिल रही हैं, जो प्रतिद्वंद्वी गुटों ने कीं। इसके अलावा कुछ ही सप्ताह पहले एक दलित छात्रा को उसी के घर में बलात्कार के बाद इतनी नृशंसता से मार डाला गया था कि उसकी आंतें तक शरीर के बाहर निकल आई थीं। इस वारदात के सिलसिले में अब तक कोई गिरफ्तारी नहीं हो पाई है, हालांकि पिछले सप्ताह पुलिस ने संदिग्ध का स्केच जारी कर दिया था।

उधर, मुख्यमंत्री ओमेन चांडी भी लंबे समय से भ्रष्ट प्रशासन और खुद भ्रष्टाचार के आरोपों से घिरे रहे हैं, तथा उनकी पूरी कोशिश वामपंथियों के हाथों सत्ता छिन जाने से रोकने की है। बीजेपी यहां तीसरे मोर्चे का नेतृत्व कर रही है।



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement