जब खाने के लिए कुछ नहीं होगा, शौचालय का क्या करेंगे : वीएस अच्युतानंदन का पीएम पर कटाक्ष

जब खाने के लिए कुछ नहीं होगा, शौचालय का क्या करेंगे : वीएस अच्युतानंदन का पीएम पर कटाक्ष

तिरुअनंतपुरम:

बेहद साफ-साफ बातें करने के लिए 93 साल की उम्र में अनुभव ही काफी जमा हो चुका होता है, सो, केरल के पूर्व मुख्यमंत्री वीएस अच्युतानंदन साफ-साफ कहते हैं - अगर आप खाएंगे ही नहीं, तो शौचालय किसी काम का नहीं...

केरल के मुख्यमंत्री की कुर्सी के दावेदारों में शुमार किए जा रहे वामपंथी दिग्गज का यह कटाक्ष प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके स्वच्छ भारत अभियान को निशाना बनाकर किया गया था। NDTV के एक कार्यक्रम के दौरान प्रणय रॉय से बातचीत में उन्होंने कहा, "वह (प्रधानमंत्री) प्रत्येक भारतीय के सामने गाते रहते हैं शौचालयम्, शौचालयम्, शौचालयम्... लेकिन जब कुछ खाने के लिए ही नहीं होगा, शौचालयों का इस्तेमाल वे कैसे करेंगे...?"

प्रधानमंत्री को एक भाषण की वजह से झेलनी पड़ी थी आलोचना...
प्रधानमंत्री के ज़रिये उनकी भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) राज्य में अपने प्रचार अभियान को चला रही है, हालांकि हाल ही में उनकी यह रणनीति उल्टी पड़ गई थी, जब एक भाषण के दौरान नवजात मृत्यु दर के मामले में केरल की तुलना सोमालिया से करने को लेकर ट्विटर पर पीएम नरेंद्र मोदी की जमकर आलोचना होने लगी।

वामपंथियों की ओर से सीएम पद की दौड़ में माने जा रहे अच्युतानंदन...
वामपंथियों का अभियान वीएस अच्युतानंदन और पिनारायी विजयन के नेतृत्व में चलाया जा रहा है, हालांकि दोनों में से किसी का भी नाम मुख्यमंत्री के रूप में घोषित नहीं किया गया है, और दोनों को ही पद की दौड़ में शामिल माना जा रहा है।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

चौतरफा आरोपों से घिरे हैं कांग्रेसी मुख्यमंत्री चांडी...
फिलहाल सत्तासीन कांग्रेस-नीत गठबंधन, जिसका नेतृत्व मुख्यमंत्री ओमेन चांडी कर रहे हैं, राजनैतिक हत्याओं और भ्रष्टाचार के आरोपों से जूझ रहा है। ऊपर से हाल ही में राज्य में एक दलित छात्रा के साथ उसके ही घर में बलात्कार और हत्या की वारदात हुई, जिसके लिए संदिग्ध का स्केच जारी हो जाने के बावजूद अभी तक कोई गिरफ्तारी नहीं हो पाई है।

इस अपराध की वीभत्सता ने - छात्रा की आंतें उसके शरीर से बाहर निकली पड़ी थीं - इसे चुनावी अभियान का मुद्दा बना दिया है, और विपक्ष इसे राज्य में कानून एवं व्यवस्था की बुरी हालत के रूप में पेश कर रहा है।