Hindi news home page

आरएसएस के इस शख्स ने पहले ही कह दिया था कि आदित्यनाथ बनेंगे यूपी के सीएम...

ईमेल करें
टिप्पणियां
आरएसएस के इस शख्स ने पहले ही कह दिया था कि आदित्यनाथ बनेंगे यूपी के सीएम...

राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ के विचारक राकेश सिन्‍हा (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. मनोज सिन्हा ने खुद कहा था कि वह सीएम की रेस में नहीं हैं
  2. आरएसएस से जुड़े राकेश सिन्हा आदित्यनाथ के नाम को लेकर कॉन्‍फिडेंट थे
  3. मीडिया में कई अन्‍य नाम भी चल रहे थे लेकिन अंतत: योगी चुने गए
नई दिल्‍ली: उत्तर प्रदेश का मुख्‍यमंत्री कौन होगा, इसको लेकर जो सस्पेंस चल रहा था अब वह ख़त्म हो गया है. बीजेपी ने योगी आदित्यनाथ के नाम पर मुहर लगा दी है. शनिवार को लखनऊ में सीएम के रूप में उनके नाम की घोषणा की गई. एक बार फिर हम कह सकते हैं कि मीडिया के साथ-साथ दूसरों की भविष्‍यवाणी गलत साबित हुई है. पिछले कुछ दिनों से जिन नामों पर सबसे ज्यादा चर्चाएं चल रही थीं उनमें से कोई भी मुख्यमंत्री नहीं बना, बल्कि जिस नाम को लेकर चर्चाएं नहीं थी वह मुख्यमंत्री बन गया.

मीडिया में जिन चार नामों को लेकर सबसे ज्यादा चर्चा चल रही थी वो थे मनोज सिन्हा, दिनेश शर्मा, केशव प्रसाद मौर्य और श्रीकांत शर्मा. केशव प्रसाद मौर्य तब रेस से बहार नज़र आए जब अमित शाह ने यह ऐलान कर दिया कि मौर्य ही तय करेंगे कौन होगा उत्तर प्रदेश का अगला मुख्यमंत्री. राजनाथ सिंह का नाम भी मीडिया में खूब चला. मीडिया में यह भी खबर आई कि राजनाथ सिंह के स्टाफ भी लखनऊ पहुंच चुके हैं और तैयारी शुरू हो चुकी है. कानपुर से सात बार विधायक रहे सतीश महाना के नाम पर भी काफी चर्चा हुई. कई जगह यह लिखा गया कि महाना भी मुख्यमंत्री पद की रेस में हैं. दिनेश शर्मा लेकर भी अटकलें लगाई जा रही थीं. संघ प्रचारक मनीराम का नाम भी सामने आया. मीडिया की रिपोर्ट में रामलाल का नाम भी था.

शनिवार की सुबह सूत्रों हवाले से यह पता चलता है कि मनोज सिन्हा का नाम कन्फर्म है. लेकिन वाराणसी में मनोज सिन्हा ने एनडीटीवी से बात करते हुए कहा था कि वह सीएम की रेस में नहीं हैं और मीडिया बेकार में उनका नाम उछाल रहा है. लेकिन फिर भी कुछ पत्रकार मनोज सिन्हा के नाम पर निश्चिंत रहे. फिर आज उत्तर प्रदेश के कई बड़े नेता जो सीएम की रेस में थे वह बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह से मिले. योगी आदित्यनाथ भी अमित शाह से मिलने दिल्ली पहुंचे. करीब दोपहर के बाद मनोज सिन्हा का नाम पीछे हटने लगा. योगी आदित्यनाथ के नाम की चर्चाएं शुरू हो गईं. सबसे पहले वाराणसी से हमारे संवाददाता अजय सिंह ने कहा कि आदित्यनाथ का चांस बढ़ गया है. फिर शाम को आदित्यनाथ के नाम पर ही मुहर लग गई.  

जब ज्यादा से ज्यादा लोग मनोज सिन्हा के नाम की अटकलें लगा रहे थे तब आरएसएस से जुड़े राकेश सिन्हा योगी आदित्यनाथ के नाम को लेकर काफी कॉन्‍फिडेंट थे. शुक्रवार को जब एनडीटीवी ने राकेश सिन्हा से बात की और उत्तर प्रदेश के भावी सीएम के बारे में पूछा तो राकेश सिन्हा का कहना था योगी आदित्यनाथ सबसे आगे हैं. राकेश सिन्हा योगी आदित्यनाथ को लेकर आश्‍वस्‍त थे. यानी कल एक दिन पहले ही राकेश सिन्हा ने कह दिया था कि योगी आदित्यनाथ के सीएम बनने की संभावना ज्यादा है. राकेश सिन्हा की बात सच हुआ और आदित्यनाथ का नाम पर मुहर लग गई. यह कहा जा सकता है कि आरएसएस का दवाब काम में आया.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement

 
 

Advertisement