NDTV Khabar

वाराणसी में पीएम नरेंद्र मोदी के रोड शो के दौरान समाजवादी पार्टी और बीजेपी कार्यकर्ताओं में होते-होते बची भिड़ंत

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
वाराणसी में पीएम नरेंद्र मोदी के रोड शो के दौरान समाजवादी पार्टी और बीजेपी कार्यकर्ताओं में होते-होते बची भिड़ंत

वाराणसी में रोड शो के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी...

खास बातें

  1. सपा का दावा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का रोडशो बिना पूर्वानुमति के हुआ.
  2. पीएम मोदी की रैली से पहले टाउन हॉल का घेराव करने पहुंचे सपाई
  3. गड़बड़ी शाम में करीब साढ़े बजे शुरू हुई.
वाराणसी: वाराणसी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के रोड शो के दौरान समाजवादी पार्टी कार्यकर्ताओं और बीजेपी कार्यकर्ताओं में जोरदार भिड़ंत होते होते बच गई. वाराणसी में समाजवादी पार्टी के सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने दावा किया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का रोडशो बिना पूर्वानुमति के हुआ है और इसलिए सैकड़ों कार्यकर्ता पीएम मोदी की रैली से पहले टाउन हॉल का घेराव करने पहुंच गए थे, जिसके कारण यहां तनावपूर्ण स्थिति उत्पन्न हो गई थी. उल्लेखनीय है कि शनिवार को ही वाराणसी में मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने भी रोड शो किया था.

गड़बड़ी शाम में करीब साढ़े बजे शुरू हुई, जब टाउन हॉल के बिल्कुल पास से ही कांग्रेस नेता राहुल गांधी, मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और उनकी पत्नी सपा सांसद डिम्पल यादव का संयुक्त रोडशो पास से गुजरा.

रोडशो के लिए सड़कों पर जुटे और अपने नेताओं की गाड़ी के पीछे चल रहे सपा कार्यकर्ता वहां से हटकर टाउन हॉल की ओर चले गए तथा उसका घेराव किया. वे नारेबाजी करने लगे. इसने पुलिस और प्रशासन को मुश्किल में डाल दिया. कहा जा रहा है कि पीएम मोदी के रोड शो से समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं के मनोबल पर कुछ असर पड़ता दिखाई दे रहा है.

कुछ अधिकारी जहां सपा समर्थकों को शांत कराने में जुटे वहीं कुछ मोदी की रैली के लिए वहां पहुंच रहे भाजपा कार्यकर्ताओं को संभालने में जुट गए. घटना के करीब दो घंटे पहले जब अखिलेश, राहुल और डिम्पल की रैली चौकाघाट से गुजर रही थी, उस दौरान सपा और भाजपा के कार्यकर्ताओं में झड़प हुई थी.

सपा कार्यकर्ताओं ने नारेबाजी करते हुए आरोप लगाया कि पीएम मोदी को आज सिर्फ वाराणसी आना था और दोनों मंदिरों में पूजा करनी थी, लेकिन उन्होंने रोडशो किया, खुले वाहन में यात्रा की और प्रशासन की पूर्वानुमति के बिना अपने संसदीय क्षेत्र में शक्तिप्रदर्शन किया. अधिकारियों ने जब सपा कार्यकर्ताओं को समझाया कि वे प्रधानमंत्री की रैली में बाधा ना पहुंचाएं और इस संबंध में औपचारिक शिकायत दर्ज कराएं, इस पर वे शांत हुए.

दूसरी ओर कांग्रेस ने निर्वाचन आयोग में मोदी के 'अनधिकृत' रैली के खिलाफ शिकायत की है और प्रदेश में अपने गठबंधन सहयोगी सपा से भी ऐसा करने का अनुरोध किया है.
(इनपुट भाषा से भी)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement