NDTV Khabar

योगी मंत्रिमंडल : 11 किसानों को बनाया मंत्री, लखनऊ से सबसे ज्यादा 7 मिनिस्टर

74 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
योगी मंत्रिमंडल : 11 किसानों को बनाया मंत्री, लखनऊ से सबसे ज्यादा 7 मिनिस्टर

योगी की मंत्रिपरिषद में 22 कैबिनेट, 9 राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) और 13 राज्यमंत्रियों ने शपथ ली.

खास बातें

  1. योगी मंत्रिपरिषद में कुल 44 मंत्री, 22 कैबिनेट बनाए गए
  2. मंत्रिमंडल में पांच महिलाओं को जगह दी गई है
  3. राज्य में पहली बार दो उपमुख्यत्री, केशव मौर्य, दिने शर्मा डिप्टी सीएम
नई दिल्ली: महंत आदित्यनाथ योगी ने उत्तर प्रदेश की कमान संभाल ली है. लखनऊ के कांशीराम स्मृति उपवन में रविवार को आदित्यनाथ के अवाला दो उपमुख्यमंत्रियों ने शपथ ली. उनके मंत्रीमंडल में 44 मंत्रियों ने शपथ ली. इसमें से पांच महिलाओं को भी मंत्री पद दिया गया है. योगी की मंत्रिपरिषद में 22 कैबिनेट, 9 राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) और 13 राज्यमंत्रियों ने शपथ ली. अगर पेशे के लिहाज से देखें तो 13 व्यवसायी, 11 किसान, 7 समाजसेवी, 5 अधिवक्ता और 4 शिक्षक मंत्रिमंडल में शामिल किए गए हैं जबकि दो मंत्री खिलाड़ी, एक डॉक्टर है.
 
 
ousters

नौ 'बाहरी' नेताओं को मिला मंत्री पद
सपा, कांग्रेस, बसप छोड़कर भाजपा में शामिल हुए नौ दलबदलुओं को भी मंत्री पद दिया गया है. इसमें रीता बह्गुणा जोशी, स्वामी प्रसाद मौर्य, बृजेश पाठक, नंदगोपाल नंदी, दारा सिंह चौहान, चौधरी लक्ष्मी नारायण, एसपी सिंह बघेल, धर्म सिंह सैनी और अनिल राजभर शामिल हैं.
 
 
lucknow ministers

लखनऊ से सबसे ज्यादा 7 मिनिस्टर
आदित्यनाथ योगी के मंत्रिमंडल में लखनऊ से सबसे ज्यादा सात मंत्री बनाए गए हैं. लखनऊ से दिनेश शर्मा, बृजेश पाठक, रीता बहुगुणा जोशी, आशुतोष टंडन, स्वाति सिंह, महेंद्र कुमार सिंह और मोहसिन रजा शामिल हैं.


मंत्रियों में 25 अगड़े तो 15 पिछड़े, 5 दलित
आदित्यनाथ योगी के मंत्रिमंडल में जातिगत समीकरण भी बखूबी साधा गया है. 25 अगड़े, 15 पिछड़े, 5 दलित, 1 मुस्लिम और एक सिख को शामिल किया गया है. अगड़ों में ब्राह्मण 7, ठाकुर 8, वैश्य 4, भूमिहार 2, खत्री 3 और 1 कायस्थ मंत्री है. पिछड़ों में 3 कुर्मी, 2 मौर्य, 2 लोध, 2 जाट, 2 राजभर, 1-1 नोनिया चौहान, निषाद, सैनी और यादव मंत्री हैं.

सीएम योगी समेत 5 मंत्री किसी सदन के सदस्य नहीं
मुख्यमंत्री महंत आदित्यनाथ योगी, दोनों डिप्टी सीएम केशय प्रसाद मौर्य और दिनेश शर्मा तथा मंत्री स्वतंत्रे देव सिंह व मोहसिन रजा किसी भी सदन के सदस्य नहीं हैं. इन्हें 6 माह में विधानमंडल का सदस्य बनना होगा.


सबसे युवा और सबसे बुजुर्ग मंत्री
मंत्रिपरिषद की औसत उम्र 54 साल है. यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह के पौत्र संदीप सिंह राज्यमंत्री बनाए गए हैं. वे 26 साल के हैं और सबसे युवा हैं. वहीं, पूर्वे क्रिकेटर और पूर्व सांसद चेतन चौहान सबसे बुजुर्ग हैं. वे 70 साल के हैं और उन्हें कैबिनेट मंत्री बनाया गया है. 44 वर्षीय श्रीकांत शर्मा कैबिनेट मंत्रियों में सबसे युवा हैं.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement