NDTV Khabar

... तो इस वजह से कांग्रेस और JDS ने प्रोटेम स्पीकर बोपैया के खिलाफ याचिका पर नहीं डाला दबाव

कर्नाटक विधानसभा के अस्थायी अध्यक्ष के तौर पर केजी बोपैया की नियुक्ति के खिलाफ कांग्रेस - जद ( से ) की याचिका पर सुनवाई के दौरान उच्चतम न्यायालय की शक्ति परीक्षण टालने की चेतावनी के बाद यह गठबंधन बैकफुट पर आ गया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
... तो इस वजह से कांग्रेस और JDS ने प्रोटेम स्पीकर बोपैया के खिलाफ याचिका पर नहीं डाला दबाव

कपिल सिब्बल (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

कर्नाटक विधानसभा के अस्थायी अध्यक्ष के तौर पर के जी बोपैया की नियुक्ति के खिलाफ कांग्रेस - जद ( से ) की याचिका पर सुनवाई के दौरान उच्चतम न्यायालय की शक्ति परीक्षण टालने की चेतावनी के बाद यह गठबंधन बैकफुट पर आ गया. बौपेया की नियुक्ति को लेकर इस ( जद ( एस )- कांग्रेस ) गठबंधन ने उंगली उठाई थी. 

फ्लोर टेस्‍ट से पहले कई दूसरे टेस्‍ट से गुजर चुकी है कर्नाटक की येदियुरप्‍पा सरकार

गठबंधन ने बोपैया द्वारा पहले निभाई गई विवादित भूमिका का हवाला देते हुए अपनी दलीलें रखनी शुरू की थीं. बोपैया 2009-2013 के बीच राज्य विधानसभा के अध्यक्ष रह चुके हैं और उन्होंने 2010 में शक्ति परीक्षण के दौरान बी एस येदियुरप्पा की जीत सुनिश्चित करने के लिए 16 विधायकों को अयोग्य करार दिया था.

कांग्रेस ने जारी किया एक और ऑडियो टेप, येदियुरप्पा कांग्रेस MLA को प्रलोभन देने की कर रहे हैं कोशिश


हालांकि जब न्यायाधीश ए के सीकरी के नेतृत्व वाली तीन सदस्यीय पीठ ने कहा कि जब अस्थायी अध्यक्ष की प्रमाणिकता पर ऊंगली उठाई जा रही है तो न्यायालय को बोपैया को भी सुनना पड़ेगा और इ ससे शक्ति परीक्षण टल जाएगा.

बीजेपी पर चिदंबरम का हमला, बोले- आखिर भगवा पार्टी विश्वास मत जीतने के लिये कितने तिकड़म ईजाद करेगी

पीठ ने कहा , “ आप चाहते हैं कि हम अस्थायी अध्यक्ष की नियुक्ति की उपयुक्तता पर आदेश दें तो हम आपको सुनने के लिए तैयार हैं और इसके लिए हमें अस्थायी अध्यक्ष को नोटिस जारी करना होगा और हमें शक्ति परीक्षण को टालना होगा. ” 

कर्नाटक फ्लोर टेस्ट LIVE : अगर नहीं जुटे नंबर तो बीएस येदियुरप्पा, वाजपेयी की तरह भाषण देकर देंगे इस्तीफा- सूत्र

सिब्बल 2011 के कर्नाटक शक्ति परीक्षण के उच्चतम न्यायालय के आदेश को पढ़ रहे थे लेकिन उन्होंने पीठ को तत्काल प्रतिक्रिया देते हुए कहा , “ मैं अस्थाीय अध्यक्ष पर उं गली नहीं उठा रहा हूं. मैं सिर्फ न्यायालय से यह कह रहा हूं कि उन्हें शक्ति परीक्षण कराने की अनुमति नहीं मिलनी चाहिए. ” 

कपिल सिब्बल बोले- हम खुश हैं कि सारी प्रक्रिया पारदर्शी तरीके से होगी, जो जीतेगा वही सिकंदर

कर्नाटक विधानसभा के अध्यक्ष बोपैया के 16 विधायकों को अयोग्य करार देने के फैसले को उच्चतम न्यायालय ने 2011 में निरस्त कर दिया था. येदियुरप्पा के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार को बचाने के लिए विधायकों को अयोग्य करार दिया गया था.

LIVE : केजी बोपैया बने रहेंगे प्रोटेम स्पीकर, सुप्रीम कोर्ट में कांग्रेस ने याचिका पर आगे न बढ़ने की बात मानी

टिप्पणियां

पीठ की इस मामले में बोपैया को सुनने की टिप्पणी के बाद कांग्रेस और जद ( एस ) ने अपनी रणनीति बदल ली और अस्थाई अध्यक्ष के खिलाफ अपनी अंतरिम याचिका पर जोर नहीं दिया.

VIDEO: बहुमत के लिए जरूरी नंबर न जुटने पर इस्तीफा दे सकते हैं येदियुरप्पा


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों (Election News in Hindi), LIVE अपडेट तथा इलेक्शन रिजल्ट (Election Results) के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement