खत्म होगा MP में कांग्रेस का वनवास? ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बताया कैसे 2013 से अलग है 2018 की राह

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने यह संकेत दिया है कि पार्टी में इस समय काफी एकता है और राज्य में कांग्रेस की जीत की संभावना है.

खत्म होगा MP में कांग्रेस का वनवास? ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बताया कैसे 2013 से अलग है 2018 की राह

मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव 2018 : ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि कांग्रेस में काफी एकता है.

खास बातें

  • ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा 2013 से अलग है 2018 की राह
  • उन्होंने कहा कि कांग्रेस की जीत की संभावना ज्यादा है
  • '2013 में गुटबाजी की वजह से हुई थी हार'
भोपाल:

मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव (Madhya Pradesh Assembly Elections) होने में अब काफी कम समय बचा है. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) ने यह संकेत दिया है कि पार्टी में इस समय काफी एकता है और राज्य में कांग्रेस की जीत की संभावना है. उनसे यह पूछे जाने पर कि कांग्रेस ने साल 2013 में शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chouhan ) सरकार को हराने का मौका क्यों खो दिया था और इस बार इतना अलग क्या है. इस पर सिंधिया ने कहा, 'पार्टी में इस समय पूरी एकता है. सभी स्तर के नेताओं और लोगों को पता है यह एक 'करो या मरो' की स्थिति है.' उन्होंने कहा कि साल 2013 में कांग्रेस की हार की प्रमुख वजहों में से एक पार्टी में विभाजन की स्थिति थी.

'करो या मरो' की जंग पर ज्योतिरादित्य सिंधिया बोले- पद का मोह नहीं, पहले जीत, फिर राहुल तय करेंगे CM कौन

इस महीने की शुरुआत में मतदाताओं की सूची जारी करने के दौरान एक बैठक में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह और ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीच साफ-साफ मतभेद दिखे थे. इस संबंध में सूत्रों ने बताया कि मतभेद के बाद दोनों नेता बैठक से बाहर चले गए थे, जिसके बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को इस मुद्दे को हल करने के लिए तीन सदस्यीय समिति का गठन करना पड़ा. लेकिन सिंधिया ने इस आरोपों को सिरे से नकार दिया और कहा कि पार्टी की एकता तोड़ने के लिए यह बीजेपी की साजिश है.

सिंधिया ने शिवराज को बताया ‘कंस' और ‘शकुनी', बोले-‘ऐसा कोई सगा नहीं, जिसको इन्होंने ठगा नहीं'

मध्य प्रदेश की 230 सीटों पर 28 नवंबर को विधानसभा चुनाव होना है. राज्य में कांग्रेस पिछले 15 सालों से सत्ता से बाहर है. कांग्रेस ने सत्ता पर काबिज शिवराज सिंह चौहान पर जमकर हमला बोला और कहा कि यह सरकार यहां हर मोर्चे पर विफल रही है. बाते चाहे युवाओं को नौकरी देने की हो, किसानों की हो या कानून व्यवस्था काबिज करने में.

सिंधिया ने शिवराज को बताया ‘सबसे बड़ा ढोंगी', बोले- उड़नखटोले में सवार CM को सड़क का गड्ढा मखमल नजर आता है

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

मध्य प्रदेश में साल 2013 में कांग्रेस की बड़ी हार हुई थी. पार्टी 71 सीटों से घटकर 58 सीटों पर पहुंच गई थी और यह 2014 के लोकसभा चुनावों में भी जारी रहै. लेकिन पिछले साल हुए नगरपालिका चुनावों के नतीजों ने कांग्रेस के लिए संजीवनी का काम किया है.  

VIDEO: 'मेरा मोह किसी पद के साथ नहीं'