NDTV Khabar

Final Election Results 2018: छत्तीसगढ़ में BJP सन्न, हार के इन 5 कारणों को भांपने में हुई भूल

Final Election Results 2018: राजधानी रायपुर की सभी 7 सीटों पर कांग्रेस के प्रत्याशी आगे हैं. रायपुर जिले की दो सीटों रायपुर पश्चिम पर राजेश मूणत और रायपुर दक्षिण से बृजमोहन अग्रवाल पीछे हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Final Election Results 2018: छत्तीसगढ़ में BJP सन्न, हार के इन 5 कारणों को भांपने में हुई भूल

Final Election Results 2018: छत्तीसगढ़ में कांग्रेस से बुरी तरह हारी बीजेपी

नई दिल्ली:

Final Election Results 2018: छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव के लिए जारी मतगणना में बस्तर संभाग की 12 में से 10 सीटों पर कांग्रेस जीत दर्ज कर रही है. इससे पहले साल 2013 विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को यहां आठ सीटें मिली थीं. इसके अलावा एक सीट पर भाजपा और एक सीट पर भाकपा को बढ़त है. वर्तमान में अंतागढ़ विधानसभा सीट पर कांग्रेस के अनूप नाग भाजपा के विक्रम उसेंडी से आगे हैं. भानुप्रतापपुर से कांग्रेस के मनोज मंडावी भाजपा के देवलाल दुग्गा से आगे, कांकेर में कांग्रेस के शिशुपाल सोरी भाजपा के हीरा लाल मरकाम से आगे, केशकाल में कांग्रेस के संतराम नेताम भाजपा के हरिशंकर नेताम से आगे, कोण्डागांव में कांग्रेस के मोहन मरकाम भाजपा के लता उसेंडी से आगे, नारायणपुर में कांग्रेस के चंदन कश्यप भाजपा के मंत्री केदार कश्यप से आगे, बस्तर में कांग्रेस के लखेश्वर बघेल भाजपा के डॉ. सुभाऊ कश्यप से आगे, जगदलपुर में रेखचंद जैन भाजपा के संतोष बाफना से आगे चल रहे हैं. चित्रकूल में दीपक बैज भाजपा के लच्छूराम कश्यप से आगे, दंतेवाड़ा में भाजपा के भीमा मंडावी कांग्रेस की देवती कर्मा से आगे, बीजापुर में कांग्रेस के विक्रम मंडावी भाजपा के मंत्री महेश गागड़ा और कोंटा में भाकपा के मनीष कुंजाम कांग्रेस के कवासी लखमा से आगे चल रहे हैं.  छत्तीसगढ़ की 90 विधानसभा सीटों पर मंगलवार को जारी मतगणना के अब तक के रुझानों में कांग्रेस को बड़ी बढ़त मिली हुई है। कांग्रेस को 60 से ज्यादा सीटें मिलती दिखाई दे रही हैं. जबकि भाजपा 17 सीटों पर बढ़त बनाए हुए है. अन्य को यहां 7 सीटों पर बढ़त हासिल है. राजधानी रायपुर की सभी 7 सीटों पर कांग्रेस के प्रत्याशी आगे हैं. रायपुर जिले की दो सीटों रायपुर पश्चिम पर राजेश मूणत और रायपुर दक्षिण से बृजमोहन अग्रवाल पीछे चल रहे हैं. 15 सालों से सत्ता में काबिज बीजेपी के हारने के पांच प्रमुख कारण हैं.

विधानसभा चुनावों में हार के बाद राज्यों में साइडलाइन हो सकते हैं शिवराज, वसुंधरा राजे और रमन सिंह, दिख सकते हैं नई भूमिका में !


किसानों की नाराजगी : राज्य की बीजेपी सरकार से किसान काफी नाराज थे. किसानों की नाराजगी की बड़ी वजह उनकी उपज की सही कीमत नहीं मिलना था.
 
Chhattisgarh Chunav Result 2018 : कांग्रेस की आंधी में उड़ी 'चावल वाले बाबा' की सरकार, कांग्रेस इस 'बाबा' को बना सकती है सीएम

युवा वर्ग की नाराजगी : सत्ता  विरोधी लहर में रमन सिंह सरकार के खिलाफ बेरोजगारी एक बड़ा मुद्दा बन गया था. बेरोजगारी की वजह से कई परिवारों को पलायन करना पड़ा. 

विधानसभा चुनाव परिणाम : अखिलेश यादव ने कहा ...तब बड़े-बड़ों की सत्ता हो जाती है नौ दो ग्यारह
बीजेपी से नाराज इसके नेता शत्रुघ्न सिन्हा ने बीजेपी की हार पर कहा है किआखिरकार सच्चाई की जीत हुई. 

सरकारी का आंदोलनों के खिलाफ सख्त रवैया : छत्तीसगढ़ में सरकारी भ्रष्टाचार और नीतियों के खिलाफ दमन की जो कार्रवाई की गई उससे आम जनता बहुत ही नाराज थी.

बीजेपी के 'चाणक्य' अमित शाह को ऐसे मिला 'चौथा झटका', कांग्रेस मुक्त भारत का सपना हुआ चकनाचूर!

सरकारी कर्मचारियों के खिलाफ 'पुलिस एक्शन' : चुनाव ठीक से पहले सरकारी कर्मचारियों का एक बड़ा आंदोलन हुआ जिसमें पुलिस की कार्रवाई से सरकार से काफी लोग नाराज हो गए. 

मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव 2018 : आखिर ऐसा क्या है कि मध्य प्रदेश में 'मामा' शिवराज हारते ही नहीं?

टिप्पणियां

सत्ता विरोधी लहर को भांप नहीं रमन सिंह : 15 सालों से कुर्सी पर बैठे डॉ. रमन सिंह सत्ता विरोधी लहर को भांप नहीं पाए. बीजेपी को लगा कि रमन सिंह के खिलाफ कांग्रेस के पास कोई कद्दावर चेहरा नहीं है. पार्टी के नेता इस बात को नहीं मानते थे कि उनके खिलाफ सत्ता विरोधी लहर जबरदस्त है. 

छत्तीसगढ़ में वैसा प्रदर्शन नहीं कर पाए जैसी उम्मीद थी : अनिल झा​

 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement