कर्नाटक कांग्रेस ने जनार्दन रेड्डी पर लगाया विधायकों को प्रलोभन देने का आरोप

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद बीजेपी नेता बीएस येदियुरप्‍पा को शनिवार को विधानसभा में बहुमत साबित करना है.

कर्नाटक कांग्रेस ने जनार्दन रेड्डी पर लगाया विधायकों को प्रलोभन देने का आरोप

जनार्दन रेड्डी (फाइल फोटो)

बेंगलूरू:

कर्नाटक कांग्रेस ने राज्‍य में फ्लोर टेस्‍ट से ठीक एक दिन पहले आरोप लगाया है कि जनार्दन रेड्डी ने उसके विधायकों को लालच देने की कोशिश की. गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद बीजेपी नेता बीएस येदियुरप्‍पा को शनिवार को विधानसभा में बहुमत साबित करना है. कांग्रेस ने एक ऑडियो टेप जारी किया, जिसे लेकर उसका दावा है कि कैसे बीजेपी उसके विधायकों को मुख्‍यमंत्री येदियुरप्‍पा को समर्थन देने के लिए प्रलोभन दे रही है.

कांग्रेस ने कहा, इस ऑडियो क्लिप में बीजेपी से जुड़े और भ्रष्‍टाचार के आरोपों से घिरे खनन उद्योगपति जनार्दन रेड्डी ने रायचुर ग्रामीण सीट से कांग्रेस विधायक को सदन में शक्ति परीक्षण के दौरान समर्थन देने के एवज में पैसे और पद की पेशकश की.

ऑडियो क्लिप के अनुसार, एक व्‍यक्ति जो खुद को जनार्दन कहता है, कांग्रेस के विधायक बसनगौड़ा डड्डल को उनके समर्थन के बदले मंत्री पद की पेशकश करता है. फोन करने वाले को यह कहते हुए सुना जा सकता है कि 'आप मंत्री बनेंगे.'

कांग्रेस नेताओं द्वारा मीडिया के सामने ऑडियो टेप चलाने के बाद कांग्रेस ने ट्वीट कर आरोप लगाया कि 'जनार्दन रेड्डी स्‍पष्‍ट रूप से कहते हैं कि ये सब करने के लिए उन्‍हें बीजेपी अध्‍यक्ष अमित शाह का समर्थन प्राप्‍त है.'
 

बीजेपी ने कांग्रेस के इन आरोपों पर फिलहाल प्रतिक्रिया नहीं दी है.

कर्नाटक विधानसभा चुनाव में बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है लेकिन उसके पास पूर्ण बहुमत नहीं है, जबकि कांग्रेस और जेडीएस ने नतीजों के बाद सरकार बनाने के लिए गठबंधन किया है. अब कांग्रेस और जेडीएस अपने विधायकों को एकजुट रखने के लिए जद्दोजहद करते दिख रहे हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

VIDEO: सुप्रीम कोर्ट का आदेश- कर्नाटक में शनिवार शाम 4 बजे फ्लोर टेस्ट

शुरुआत में कांग्रेस-जेडीएस ने अपने विधायकों को बेंगलुरु के एक होटल में ठहराया था, लेकिन बीजेपी की ओर से पड़ने वाले संभावित दबाव से बचाने के लिए उन्‍होंने वहां से करीब 600 किलोमीटर दूर हैदराबाद ले जाया गया. बाद में कांग्रेस ने भी अपने विधायकों से कहा कि वो फोन रिकॉर्डिंग ऐप इंस्‍टॉल करें, जिससे बीजेपी की ओर से मिलने वाले ऑफर को वो रिकॉर्ड कर सकें.