NDTV Khabar

एमपी चुनाव: नवजोत सिंह सिद्धू का निशाना- शिवराज सिंह मामा नहीं, कंस मामा हैं

नवजोत सिंह ने पीएम को 'उद्योगपतियों की कठपुतली' और शिवराज सिंह को 'कंस मामा' कहा है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
एमपी चुनाव: नवजोत सिंह सिद्धू का निशाना- शिवराज सिंह मामा नहीं, कंस मामा हैं

पंजाब सरकार के मंत्री और कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू.

खास बातें

  1. मोदी सरकार पर साधा निशाना
  2. मेड इन इंडिया स्कीम पर उठाए सवाल
  3. पीएम को 'उद्योगपतियों की कठपुतली' कहा
भोपाल:

पंजाब सरकार के मंत्री और कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने गुरुवार को पीएम नरेंद्र मोदी और एमपी के सीएम शिवराज सिंह चौहान पर निशाना साधा. उन्होंने पीएम को 'उद्योगपतियों की कठपुतली' और शिवराज सिंह को 'कंस मामा' कहा है. मध्य प्रदेश चुनाव के लिए छिंदवाड़ा में एक रैली को संबोधित करते हुए सिद्धू ने कहा, 'पीएम मोदी उद्योगपतियों की कठपुतली हैं. अगर कोई किसान एक लाख रुपए का लोन नहीं चुका पाता है तो सरकार ड्रम बजाती है.' यह टिप्पणी सरकार की उस योजना के संदर्भ में है, जिसमें लोन नहीं चुकाने वालों को ड्रम बजाकर शर्मिंदा किया जाता है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि शिवराज सिंह 'मामा' कहलवाते हैं, लेकिन हकीकत में 'कंस मामा' है. 

उन्होंने कहा, 'जब अडानी और अंबानी 1.5 लाख करोड़ रुपए का लोन नहीं चुकाते तो आप(पीएम मोदी) उनके साथ पप्पी-झप्पी करते हैं.' पीएम मोदी की मेक इन इंडिया स्कीम पर चुटकी लेते हुए सिद्धू ने कहा, 'जब राफेल विमान फ्रांस और बुलैट ट्रेन जापान से आ रही है तो यहां लोग क्या करेंगे? वे पकोड़े तलेंगे.' उन्होंने दावा किया कि मोदी सरकार किसानों को उनकी पैदावर का उचित मुल्य नहीं दे रही है और डीजल की कीमत 6 रुपए प्रति लीटर बढ़ गई. उन्होंने कहा कि यह 'अर्थशास्त्र' नहीं, बल्कि 'अनर्थशास्त्र' है.


मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव 2018 : फूंक-फूंक कर कदम रखना होगा कांग्रेस को, ऐसे बयानों से हो सकता है अच्छा-खासा नुकसान

अमीर और गरीब के बीच बढ़ा फासला
इसके अलावा भोपाल में उन्होंने देश में अमीर और गरीब के बीच बढ़ते फासले पर चिंता जाहिर करते हुए पीएम मोदी से सवाल किया है कि सरकार एक फीसदी पूंजीपतियों की है या 99 फीसदी मध्यम वर्ग और आम आदमी की है? मध्यप्रदेश कांग्रेस कार्यालय में सिद्धू ने मीडिया से बात करते हुए कहा, 'साल 2017 में एक फीसदी पूंजीपतियों की दौलत में 75 फीसदी का इजाफा हुआ है. देश में अमीर और गरीब का फासला बढ़ता चला जा रहा है.'

मध्य प्रदेश चुनाव: बसपा से हाथ न मिला 2013 की गलती कांग्रेस ने फिर दोहराई? ऐसे समझें आंकड़ों का खेल

सिद्धू ने मोदी सरकार से सवाल किया, 'डीजल की कीमत 15 गुना बढ़ाते हो और किसान के धान की कीमत बढ़ाते हो सिर्फ पांच गुना. ये आप गरीबों के लिए काम कर रहे हो या अडानी और अंबानियों के लिए काम कर रहे हो. आपको ये जवाब देना होगा क्योंकि यह जरुरी है. देखिए, करंसी सिर्फ एक्सचेंज वेल्यू होती है. असली वेल्यू क्या है कि आज वो चोरी के पैसे, यूरो, डॉलर, और पाउंड को तगड़ा कर रहा है और भारतीय रुपये को गिरा रहे हैं. ये इनडायरेक्ट वेल्यू हमारे देश के ऊपर एक चांटा बनकर बरस रही है.'

टिप्पणियां

खत्म होगा MP में कांग्रेस का वनवास? ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बताया कैसे 2013 से अलग है 2018 की राह 2019 का

सेमीफाइनल : नरम हिंदुत्व बनाम गरम हिंदुत्व



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement