कॉनरैड संगमा ने विधायकों की खरीद-फरोख्त के आरोपों को किया खारिज, कहा- सभी पार्टियां बदलाव चाहती हैं

मेघालय के अगले मुख्यमंत्री बनने वाले कॉनरैड संगमा ने NDTV से बात करते हुए विधायकों की ख़रीद फ़रोख़्त के आरोपों को सिरे से ख़ारिज कर दिया.

कॉनरैड संगमा ने विधायकों की खरीद-फरोख्त के आरोपों को किया खारिज, कहा- सभी पार्टियां बदलाव चाहती हैं

कॉनरैड संगमा मंगलवार को मेघालय के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे.

शिलांग:

कॉनरैड संगमा मेघालय के अगले मुख्यमंत्री होंगे. बीजेपी के सहयोगी कॉनरैड संगमा मंगलवार को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे. मेघालय के अगले मुख्यमंत्री बनने वाले कॉनरैड संगमा ने NDTV से बात करते हुए विधायकों की ख़रीद फ़रोख़्त के आरोपों को सिरे से ख़ारिज कर दिया. उन्होंने कहा कि केवल बीजेपी के सहयोग की वजह से नहीं बल्कि एकमत रखने वाली सभी पार्टियों के साथ आने से यह सरकार बनने जा रही है. सभी पार्टी बदलाव चाहती है.

यह भी पढ़ें : पूर्वोत्तर के लोगों ने नफरत की राजनीति को नकार दिया : पीएम मोदी

नेशनल पीपुल्स पार्टी (एनपीपी) के प्रमुख कॉनरैड संगमा ने रविवार शाम मेघालय के राज्यपाल गंगा प्रसाद से मुलाकात की और सरकार के गठन के लिए अपने पास 60 सदस्यीय विधानसभा में 34 विधायकों का समर्थन होने का दावा किया.

यह भी पढ़ें : पूर्वोत्तर की जीत पर बोले पीएम मोदी, वास्तु शास्‍त्र के हिसाब से भी नॉर्थ-ईस्ट काफी महत्वपूर्ण

संगमा ने कहा, 'हम राज्यपाल से मिले और 34 विधायकों के समर्थन का पत्र दिया, जिनमें एनपीपी के 19, यूनाईटेड डेमोक्रेटिक पार्टी (यूडीपी) के 6, पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) के 4, हिल स्टेट पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (एचएसपीडीपी) एवं भाजपा के दो-दो विधायक और एक निदर्लीय विधायक शामिल हैं.' एनपीपी नेता पूर्व लोकसभा अध्यक्ष दिवंगत पीए संगमा के सबसे छोटे बेटे हैं. कॉनरैड अपने पिता के निधन के बाद तुरा सीट के उपचुनाव में लोकसभा के लिए निर्वाचित हुए.

VIDEO : मेघालय के अगले मुख्यमंत्री होंगे कॉनरैड संगमा

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

गठबंधन सरकार चलाने की चुनौतियों के बारे में पूछे जाने पर 40 वर्षीय नेता ने कहा, 'यह आसान काम नहीं है. लेकिन हमारा समर्थन कर रहे दल लोगों एवं राज्य के कल्याण के लिए काम करने की खातिर प्रतिबद्ध हैं. हम एक समान एजेंडे पर काम करेंगे.' मेघालय में 27 फरवरी को विधानसभा चुनाव हुए थे और तीन फरवरी को उसके नतीजे आए. पिछले चुनाव में
एक भी सीट जीतने में नाकाम रही भाजपा के खाते में इस बार दो सीटें आईं.

(इनपुट: एजेंसी )