NDTV Khabar
होम | विधानसभा चुनाव 2018

विधानसभा चुनाव 2018

  • देश के इकलौते 'खुशहाल मंत्री' के लिए साल 2018 जाते-जाते लेकर आया बुरी खबर
    शिवराज सिंह चौहान के मध्य प्रदेश का चौथी बार सीएम बनने का सपना कांग्रेस ने तोड़ दिया. करीब 24 घंटे मतगणना प्रक्रिया चलने के बाद बुधवार को कांग्रेस पार्टी राज्य में सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी. हालांकि, वह बहुमत से आंकड़े से दो सीट दूर 114 पर रह गई. इसके बाद बसपा और सपा ने कांग्रेस के समर्थन देने का एलान कर दिया. कांग्रेस ने मध्य प्रदेश में राज्यपाल से मिलकर दावा भी पेश कर दिया है.
  • MP में कमलनाथ का मुख्यमंत्री बनना लगभग तय, छत्तीसगढ़ में भूपेश बघेल तो राजस्थान में ये हैं CM की रेस में आगे
    राजस्थान में स्थिति थोड़ी कठिन दिख रही है, क्योंकि यहां आलाकमान को तजुर्बे और युवा शक्ति में से एक को चुनना होगा. अशोक गहलोत पहले भी राजस्थान के सीएम रह चुके हैं और उन्हें काफी अनुभव है, वहीं सचिन पायलट राजस्थान में युवाओं के चहते हैं. इसके अलावा कांग्रेस नेतृत्व के भी वह पसंदीदा चेहरे हैं. दिल्ली से भेजे गए पार्टी पर्यवेक्षक भी लौट आए हैं. आज नेता कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मिलकर नेताओं के नाम बताएंगे. वहीं राहुल गांधी ने अपने पार्टी कार्यकर्ताओं को ऑडियो मैसेज भेजकर सीएम के नाम पर राय मांगी है.
  • राजस्थान में मुख्यमंत्री पर रस्साकशी: अशोक गहलोत और सचिन पायलट दिल्ली पहुंचे, राहुल से करेंगे मुलाकात
    राजस्थान विधानसभा चुनाव में जीत के बाद भी कांग्रेस मुख्यमंत्री के नाम पर फंसी हुई नजर आ रही है. राजस्थान में अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच मुख्यमंत्री पद को लेकर कांग्रेस में अब भी असमंजस बरकरार है. आज यानी गुरुवार की सुबह अशोक गहलोत और सचिन पायलट दिल्ली के लिए रवाना हुए. सचिन पायलट भी दिल्ली आ रहे हैं. बताया जा रहा है कि दोनों नेता आज राहुल गांधी से मिलेंगे. माना जा रहा है कि राहुल गांधी सचिन पायलट और अशोक गहलोत के साथ बातचीत करेंगे और फिर मुख्यमंत्री पर जारी माथापच्ची को लेकर कोई हल निकालेंगे. बताया यह भी जा रहा है कि 10 बजे कांग्रेस जेनरल सेक्रेटरी की बैठक है और इसमें पर्यवेक्ष भी शामिल रहेंगे. सूत्रों की मानें तो राजस्थान में सीएम पद की रेस में अशोक गहलोत आगे चल रहे हैं, मगर सचिन पायलट उन्हें कड़ी टक्कर दे रहे हैं. 
  • राजस्थान: देश के पहले और इकलौते 'गाय मंत्री' भी नहीं बचा पाए अपनी सीट, जानें- क्या रही हार की वजह
    सिरोही सीट से चुनावी मैदान में उतरे देवासी को निर्दलीय उम्मीदवार ने करीब 10 हजार वोटों से हरा दिया. बतौर गाय मंत्री देवासी का कार्यकाल काफी विवादों में रहा है. उनके कार्यकाल में भूख और बीमारी की वजह से सैंकड़ों गायों की मौत हुई थी. हमेशा पारंपरिक वेशभूषा में नजर आने वाले देवासी लाल पगड़ी और सफेद धोती पहनते हैं. देवासी नेता होने के साथ-साथ अध्यात्म से भी जुड़े हुए हैं. देवासी ने साल 2008 में सिरोही विधानसभा से चुनाव लड़ा था और साल 2013 में भी इसी सीट से जीते थे. लेकिन इस बार निर्दलीय उम्मीदवार संयम लोढ़ा ने उन्हें दस हजार वोट से हरा दिया. देवासी को 71019 वोट मिले, जबकि लोढ़ा को 81272 वोट हासिल किए.
  • MP-राजस्थान में 'कौन बनेगा मुख्यमंत्री' पर माथापच्ची जारी, अब है राहुल की 'अग्नि परीक्षा', 10 बड़ी बातें
    दरअसल, तीन राज्यों में जीत के बाद कांग्रेस के सामने सबसे बड़ी चुनौती है मुख्यमंत्री का  चुनाव करना, जिस पर लगातार माथापच्ची जारी है. हालांकि, बुधवार को कांग्रेस पार्टी ने स्पष्ट किया कि मध्य प्रदेश और राजस्थान में मुख्यमंत्री का फैसला राहुल गांधी करेंगे. हालांकि, यह इतना भी आसान होता नहीं दिख रहा है. क्योंकि राहुल गांधी के लिए यह किसी अग्नि परीक्षा से कम नहीं है. इसकी वजह यह है क्योंकि राहुल गांधी अक्सर युवाओं की बात करते हैं. अब उनके सामने असली चुनौती है कि वह अनुभव और तजुर्बे को तरजीह दें या फिर युवा और उसके जोश को. बहरहाल आज तस्वीर साफ हो जाएगी. बता दें कि बुधवार को राजस्थान और मध्य प्रदेश में विधायक दलों की बैठक हुई और फिर इस बात पर सहमती बनी कि अंतिम फैसला राहुल गांधी ही करेंगे. बता दें कि राजस्थान में मुख्यमंत्री को लेकर अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच मामला फंसा हुई है. सूत्र ऐसा बता रहे हैं कि दो तिहाई विधायक चाहते हैं कि सचिन पायलट ही मुख्यमंत्री बनें. उधर, मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री की कुर्सी को लेकर कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया में टक्कर चल रही है. 
  • मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री पद के लिए 'युवा चेहरे' की तुलना में 'तजुर्बे ' को तरजीह दे सकती है कांग्रेस : सूत्र
    जानकार इसे एक संकेत के तौर पर भी देख रहे हैं. गौरतलब है कि राहुल गांधी ने तीनों राज्य में किसे मुख्यमंत्री बनाया जाए इसे लेकर अपने कार्यकर्ताओं से उनकी पसंद पूछी है. उन्होंने बुधवार को एक ऑडियो टेप भी जारी किया. इस टेप में वह अपने कार्यकर्ताओं से पूछ रहे हैं कि आखिर उनके हिसाब से तीनों राज्यों में किसे मुख्यमंत्री बनाना चाहिए.
  • मुख्यमंत्री का नाम तय करने के लिए राहुल गांधी ने कार्यकर्ताओं से पूछी उनकी पसंद, जारी किया ऑडियो टेप
    पार्टी ने मुख्यमंत्री का नाम चुनने की जिम्मेदारी सिर्फ और सिर्फ अपने अध्यक्ष पर छोड़ दिया है. पार्टी (Congress) की तरफ से मिली जानकारी के अनुसार पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) गुरुवार को मध्यप्रदेश और राजस्थान के नए मुख्यमंत्री के नाम की घोषणा कर सकते हैं. वहीं, राहुल गांधी (Rahul Gandhi) इस फैसले तक पहुंचने से पहले पार्टी के कार्यकर्ताओं से उनकी राय जानने में लगे हैं.
  • एक तरफ 5 राज्यों के चुनावी नतीजों में BJP को मिल रही थी शिकस्त, दूसरी ओर PM मोदी कर रहे थे यह काम ...
    पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव (Assembly Election Results 2018) को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) की लोकप्रियता के लिए अग्निपरीक्षा के रूप में देखा जा रहा था. मंगलवार की सुबह जब मतगणना शुरू हुई तब नतीजों को लेकर इस बात का संशय बना हुआ था कि क्या यह भाजपा के लिए झटका होगा या नहीं?
  • दिनभर माथापच्ची के बाद भी राजस्थान, MP में मुख्यमंत्री पर नहीं बनी बात, राहुल गांधी करेंगे फैसला
    विधानसभा चुनाव में जीत के बाद अब कांग्रेस के अंदर मुख्यमंत्री पद को लेकर माथापच्ची चल रही है. मंगलवार को आए चुनावी नतीजों के बाद बुधवार के दिन बैठकों का दौर चला. मध्यप्रदेश के भोपाल में और राजस्थान के जयपुर में दिन भर चली मैराथन बैठकों के बाद भी मुख्यमंत्री का फैसला नहीं हो सका. राजस्थान और मध्यप्रदेश दोनों जगहों पर सीएम के दो-दो उम्मीदवार हैं. एक तरफ अशोक गहलोत और सचिन पायलट हैं, तो वहीं दूसरी ओर कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया. विधायक दल की बैठक के बाद जब निष्कर्ष नहीं निकला, तब यह तय हुआ कि पार्टी आलाकमान यानि राहुल गांधी सीएम का अंतिम फैसला करेंगे. इस बीच देर शाम राहुल गांधी ने ऑडियो संदेश जारी कर कार्यकर्ताओं से उनकी राय पूछी. उन्होंने सवा 7 लाख कार्यकर्ताओं को ऑडियो संदेश भेजकर कहा कि उनकी राय गोपनीय रखी जाएगी.
  • AIIMS के इस आदिवासी डॉक्टर ने नौकरी छोड़ी, चुनाव में पूर्व मंत्री को पराजित किया
    हीरालाल अलावा का नाम बहुत कम लोग जानते होंगे लेकिन इस युवा नेता ने इस बार मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव में बीजेपी के पूर्व कैबिनेट मिनिस्टर को भारी मतों से हराया है. मनावर विधानसभा सीट पर पिछले 15 सालों से बीजेपी का कब्ज़ा था. यहां हीरालाल ने पूर्व कैबिनेट मंत्री रंजना बघेला को करीब 42000 वोट से हराया है.
  • MNS चीफ राज ठाकरे का राहुल गांधी पर तंज, 'पप्पू' अब परम पूज्य हो गया, BJP पर भी बोला हमला...
    राजस्थान, छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की शानदार जीत के बाद मनसे अध्यक्ष राज ठाकरे (Raj Thackeray) ने राहुल गांधी (Rahul Gandhi) पर तंज कसा. मनसे अध्यक्ष ने राहुल पर तंज कसते हुए कहा कि 'पप्पू' अब परम पूज्य को गया है. बता दें कि राहुल गांधी को उनके विरोधी 'पप्पू' के नाम से बुलाते हैं. बता दें कि पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने शानदार प्रदर्शन किया है. राजस्थान, छत्तीसगढ़ के अलावा मध्यप्रदेश में भी कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है. मध्यप्रदेश में भी छोटी-छोटी पार्टियां और निर्दलीय उम्मीदवारों के समर्थन से कांग्रेस सरकार बनाने जा रही है. 
  • विधानसभा चुनावों में कांग्रेस ने झूठ बोलकर जनादेश लिया : योगी आदित्यनाथ
    उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि कांग्रेस पार्टी ने झूठ बोलकर सत्ता हासिल की है. वे पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव के परिणामों पर पटना में अपनी प्रतिक्रिया दे रहे थे.
  • यशवंत सिन्हा ने चुनावों में करारी हार पर बीजेपी को सिखाए यह सबक
    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली बीजेपी को विधानसभा चुनावों में राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में बड़ा झटका लगा है. 2019 लोकसभा चुनाव से पहले तीन राज्यों की सत्ता से बेदखल हो जाना बीजेपी के लिए किसी बड़े झटके से कम नहीं है. इन चुनाव परिणामों पर बीजेपी में लंबे समय तक रहे दिग्गज नेता व पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा ने टिप्पणी की है. उन्होंने NDTV.com पर लिखे ब्लॉग में बीजेपी को चुनावों में हार को लेकर सबक सिखाए हैं.
  • मध्यप्रदेश में कमलनाथ का पलड़ा भारी, लेकिन राहुल गांधी लेंगे अंतिम फैसला
    चुनावी नतीजों के बाद मध्य प्रदेश में कांग्रेस विधायक दल के नेता का चुनाव पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) पर छोड़ा गया है. बैठक में कांग्रेस के वरिष्ठ विधायक आरिफ अकील ने कहा कि परंपरा रही है आलाकमान तय करे. वहीं, दूसरे विधायक और वरिष्ठ नेता गोविंद सिंह ने इसका समर्थन किया. इसके बाद सभी विधायकों ने हामी भरी, यानि अब आलाकमान ही तय करेगा मुख्यमंत्री का चेहरा.
  • शिवराज सिंह ने दिल्ली की राजनीति में जाने से किया इनकार, कहा- 'मेरी आत्मा मध्यप्रदेश में ही बसती है'
    मध्यप्रदेश के निवृत्तमान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश के विधानसभा चुनाव में बीजेपी की हार के लिए पूरी तरह वे खुद जिम्मेदार हैं. उन्होंने कहा है कि वे हरा-भरा प्रदेश सौंप रहे हैं. अब कांग्रेस की जिम्मेदारी है कि वह इसे आगे ले जाए. उन्होंने यह भी कहा कि कांग्रेस 10 दिन में किसानों का कर्ज माफ करने का वादा अब पूरा करे.
  • Election Result 2018: छत्तीसगढ़ में सबसे ज्यादा, तो इस राज्य में सबसे कम मतदाताओं ने किया NOTA का इस्तेमाल
    पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव के लिये मंगलवार को हुई मतगणना (Assembly Election Results 2018) में सभी उम्मीदवारों को खारिज करने (NOTA) के विकल्प को भी मतदाताओं ने तरजीह दी. चुनाव आयोग द्वारा जारी चुनाव परिणाम के मुताबिक छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh Election Results) में सर्वाधिक 2 प्रतिशत वोट नोटा के खाते में गए. यहां कुल 2 लाख 82 हजार 744 लोगों ने नोटा  का बटन दबाया. वहीं, मिजोरम (Mizoram Election Results) में नोटा का प्रतिशत सबसे कम (0.5 प्रतिशत) दर्ज किया गया. मिजोरम में कुल 2917 मतदाताओं ने नोटा बटन दबाया. 
  • जीएसटी, नोटबंदी समेत इन कारणों से राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में डूबी BJP की लुटिया
    जाहिर सी बात है कि बीजेपी भी उन कमियों की तलाश में होगी, जिसकी वजह से उसे इतनी ब़ड़ी हार मिली और एक ही झटके में तीन बड़े राज्य उसके हाथ से चले गए. इसके अलावा, अब सबके मन में हार-जीत के कारणों को जानने की इच्छा होगी. आखिर क्या वजह रही कि बिना गठबंधन के भी कांग्रेस ने इन राज्यों में जीत दर्ज की है. पिछले एक साल से अब तक क्या बदला है..क्या वो फैक्टर्स हैं जिन्होंने बीजेपी को नुकसान पहुंचाया, तो चलिए जानते हैं...
  • क्या राहुल गांधी होंगे महागठबंधन का चेहरा? NDTV ने पूछा विपक्षी दलों से सवाल, जानें- क्या है उनकी राय
    विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की जीत के बाद महागठबंधन पर भी चर्चा होना शुरू हो गई. इसके बाद सवाल उठने लगा कि क्या राहुल गांधी महागठबंधन का चेहरा होंगे? क्या राहुल गांधी के नेतृत्व में साल 2019 के लोकसभा चुनाव में विपक्षी दल पीएम नरेंद्र मोदी सरकार को टक्कर देंगे? ऐसे सवालों के जवाब जानने के लिए एनडीटीवी ने विपक्षी दलों के नेताओं से बातचीत की. हम आपको बता रहे हैं कि विपक्षी दलों की महागठबंधन के चेहरे पर क्या राय है?
  • विधानसभा चुनाव: तीन राज्यों में 'विजय' के बाद बोलीं सोनिया गांधी- भाजपा की नकारात्मक राजनीति पर मिली जीत
    विधानसभा चुनावों में वापसी कर कांग्रेस न सिर्फ बीजेपी को हराया है, बल्कि उससे तीन राज्य छीन लिए. कांग्रेस की शीर्ष नेता सोनिया गांधी ने मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में पार्टी के शानदार प्रदर्शन पर खुशी जताते हुए बुधवार को कहा कि यह भाजपा की ‘नकारात्मक राजनीति’ पर जीत मिली है. सोनिया की यह प्रतिक्रिया उस वक्त आई है जब कांग्रेस इन तीनों हिंदी भाषी प्रदेशों में भाजपा को सत्ता से बेदखल करने में सफल रही है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस को भाजपा की ‘नकारात्मक राजनीति पर जीत’ मिली है. 
  • 'मामा' शिवराज सिंह चौहान को सत्ता से बेदखल करने में कांग्रेस को आया पसीना, ये हैं कारण..
    मध्‍यप्रदेश में इस बार हुए रिकॉर्ड मतदान के बाद ही कांग्रेस एक तरह से 'विनिंग मोड' में थी. 'एंटी इनकंबेसी' फैक्‍टर और एग्जिट पोल में अपने पक्ष में आए ज्‍यादातर रुझान को वह जीत का आधार मान रही थी लेकिन इस चुनावी समर में शिवराज सिंह 'धरती पकड़' साबित हुए. अंत में बाजी भले ही कांग्रेस के पक्ष में आई लेकिन शिवराज भी 'विजेता' से कम साबित नहीं हुए.
«12345678»

Advertisement

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com