NDTV Khabar

EVM पर फिर सवाल! राजस्थान में गांववालों को हाईवे पर पड़ी मिली EVM बैलेट यूनिट

इस मामले में लापरवाही बरतने पर दो चुनाव अधिकारियों को सस्पेंड कर दिया गया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
EVM पर फिर सवाल! राजस्थान में गांववालों को हाईवे पर पड़ी मिली EVM बैलेट यूनिट

प्रतीकात्मक तस्वीर.

खास बातें

  1. राजस्थान में भी ईवीएम अनियमितता का मामला
  2. हाईवे पर पड़ी थी EVM बैलेट यूनिट
  3. दो चुनाव अधिकारी निलंबित
जयपुर:

राजस्थान में हुए विधानसभा चुनाव में भी ईवीएम अनियमितता देखने को मिली है, जहां बारां जिले में हाईवे पर बैलेट यूनिट पड़ी मिली है. यह बैलेट यूनिट गांवगावों को शुक्रवार रात शाहबाद शहर के पास हाईवे पड़ी हुई दिखी थी. हालांकि, बाद में अधिकारियों ने स्पष्ट किया कि BBAUD41390 नंबर की वह यूनिट अतिरिक्त थी, जिले जिला प्रशासन की निगरानी में जिला वेयरहाउस लाया जा रहा था.

एक चुनाव अधिकारी ने बताया, 'यह रिजर्व कैटेगरी की बैलेट यूनिट थी, जिसका इस्तेमाल चुनाव में नहीं हुआ. इसे ईवीएम मशीनों के साथ शाहबाद तहसील ऑफिस ले जाया जा रहा था, तभी रास्ते में यह गाड़ी से गिर गई.'

EVM पर फिर उठे सवाल, प्रकाश आंबेडकर ने भंडारा गोंदिया उपचुनाव के दौरान छेड़छाड़ की जताई आशंका


न्यूज एजेंसी एएनआई ने जिला चुनाव अधिकारी एसपी सिंह के हवाले से लिखा है कि दो चुनाव अधिकारी अब्दुल रफीक और नवल सिंह को लापरवाही बरतने पर निलंबित कर दिया गया. और इस बैलेट यूनिट को जिला मुख्यालय स्थित स्ट्रॉंग रूम में रख दिया गया. 

EVM से छेड़छाड़ का डर, कांग्रेस नेताओं ने भोपाल में स्ट्रांग रूम के बाहर लगाया टेंट, कर रहे रतजगा

पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव में ईवीएम अनियमितता की कई घटनाएं सामने आने के बीच राजस्थान में बैलेट यूनिट सड़क पर पड़ी मिलने पर और सवाल उठने लगे. मध्य प्रदेश में सबसे पहले ईवीएम अनियमितता की घटना देखने को मिली थी, जहां कांग्रेस सांसद विवेक तन्खा ने चुनाव आयोग में शिकायत की थी कि मतदान के दो दिन बाद सागर जिला कलेक्टर ऑफिस में एक बिना रजिस्ट्रेशन वाली स्कूल बस में ईवीएम लाई गई थीं. उन्होंने इनके साथ छेड़छाड़ होने की संभावना जताई थी.

जगदलपुर के स्ट्रॉन्ग रूम परिसर में घुसे तीन संदिग्ध, एएसपी ने सिर पर दे मारी कुर्सी, देखें- Video

दरअसल, राजस्थान की 200 विधानसभा सीटों पर 7 दिसंबर को मतदान हुआ है. इसी दिन तेलंगाना में भी वोटिंग हुई है. इनकी मतगणना मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और मिजोरम के साथ 11 दिसंबर को होगी.

चुनाव आयोग ने माना, भोपाल के जिस स्ट्रांग रूम में मतदान के बाद रखी गई थीं ईवीएम मशीनें, वहां बंद हो गए थे सीसीटीवी कैमरे

बता दें, विपक्षी पार्टियां ईवीएम के साथ छेड़छाड़ का मुद्दा कई बार उठा चुकी हैं. कई पार्टियों ने बैलेट पेपर से चुनाव कराने की मांग की है. लेकिन चुनाव आयोग का कहना है कि ईवीएम सुरक्षित हैं और उनके साथ छेड़छाड़ संभव नहीं है.

टिप्पणियां

मध्यप्रदेश में EVM के बाद अब पोस्टल बैलेट की सुरक्षा को लेकर उठे सवाल, होमगार्ड कैंटीन में लावारिस हालत में मिले 

चुनाव के 48 घंटे बाद पहुंची EVM मशीन



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement